chhattisgarh news media & rojgar logo

Videos

कार्तिक पूर्णिमा: खारून नदी के तट पर पुन्नी मेले में उमड़े श्रद्धालु, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी लगाई आस्था की डुबकी

कार्तिक पूर्णिमा: खारून नदी के तट पर पुन्नी मेले में उमड़े श्रद्धालु, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी लगाई आस्था की डुबकी

chhattisgarh, Videos
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में खारून नदी के तट पर पुन्नी मेले में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है। आस्था और विश्वास के इस मेले में मंगलवार तड़के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी पहुंचे और खारून में डुबकी लगाकर प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि की कामना की। इस दौरान सीएम नदी में तैरे और उन्होंने पानी में कलाबाजी भी लगाई। इसके बाद मुख्यमंत्री नदी तट स्थित हटकेश्वर महादेव मंदिर पहुंचे और  जलाभिषेक व विशेष पूजा-अर्चना कर मेले की विधिवत शुरुआत की। कार्तिक पूर्णिमा के दिन महादेव घाट पर करीब 600 वर्षों से मेले का आयोजन हो रहा है। मुख्यमंत्री ने आरती में हुए शामिल, किया दीपदान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल परंपरागत आरती कार्यक्रम में शामिल हुए और दीपदान किया। उन्होंने कार्तिक पूर्णिमा की सभी को बधाई व शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर लोककलाकार दिलीप षडंगी ने राज्यगीत ‘अरपा पैरी के धार’ की प्रस्तुति दी।
छत्तीसगढ़: सकरी तहसील में सरकारी कर्मचारी रिश्वत लेते गिरफ्तार, लोरमी में पटवारियों का घूस मांगने का वीडियो वायरल

छत्तीसगढ़: सकरी तहसील में सरकारी कर्मचारी रिश्वत लेते गिरफ्तार, लोरमी में पटवारियों का घूस मांगने का वीडियो वायरल

chhattisgarh, News, Videos
बिलासपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के राजस्व विभागों में किस तरह रिश्वतखोरी दीमक बनकर लोगों को चाट रही है, इसका एक बार फिर खुलासा हुआ है। एक ही दिन में रिश्वतखोरी के तीन मामले बिलासपुर से सामने आए हैं। सकरी तहसील में जहां महिलाकर्मी 10 हजार रुपए रिश्वत लेते पकड़ी गई है, वहीं लोरमी में महिला पटवारियों का घूस मांगने का वीडियो वायरल हो रहा है। इसको लेकर जांच के आदेश दे दिए गए हैं। सहायक ग्रेड-2 ने कहा- बिना पैसों के काम नहीं होता https://youtu.be/AKFFT3cc2hY दरअसल परसदा गांव निवासी ब्रह्मानंद साहू ने अपनी पैतृक संपत्ति का रिकॉर्ड दुरुस्तीकरण कराने के लिए उपतहसील कार्यालय सकरी में आवेदन दिया है। बार-बार के चक्कर से किसान परेशान हो गया। इस बीच महिला क्लर्क मंजू से संपर्क हुआ तो उसने ब्रह्मानंद से 10 हजार रुपए देने की मांग की। किसान ने यह राशि दे पाने में असमर्थता जाहिर की। इस पर आरोपी सहायक ग
वीडियो देखें: दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच मारपीट की ये थी वजह

वीडियो देखें: दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच मारपीट की ये थी वजह

india, News, Videos
दिल्ली (एजेंसी) | दिल्ली की तीस हजारी अदालत में हुए संग्राम की जांच एसआईटी को सौंप दी गई है। अब इस एसआईटी इस पूरे मामले की कड़ियां खंगालेगी। इस बीच बवाल की कुछ नई तस्वीरें सामने आई हैं। जिनमें पुलिसवालों और वकीलों के बीच हुई खूनी झड़प का सच कैद है। बता दे दिल्‍ली के तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच पार्किंग को लेकर झड़प हो गई थी। प्रत्यक्षदर्शियों और अधिकारियों के अनुसार झड़प में 10 पुलिसकर्मी और कई वकील घायल हो गए। इस दौरान 17 वाहनों में तोड़फोड़ की गई. पुलिस ने बताया कि घायलों में अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (उत्तरी जिला) हरिंदर कुमार, कोतवाली और सिविल लाइंस थाने के प्रभारी और पुलिस उपायुक्त (उत्तरी) के ऑपरेटर भी हैं. इस बीच, बार एसोसिएशनों ने घटना की निंदा करते हुए चार नवंबर को राष्ट्रीय राजधानी की सभी जिला अदालतों में एक दिवसीय हड़ताल का आह्वान किया. वकीलों ने पुलिस पर प्रदर
छत्तीसगढ़ गीत ‘अरपा पैरी के धार महानदी हे अपार…’ को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने घोषित किया राज्य गीत

छत्तीसगढ़ गीत ‘अरपा पैरी के धार महानदी हे अपार…’ को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने घोषित किया राज्य गीत

chhattisgarh, News, Videos
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ राज्य को अपना राज्यगीत मिल चुका है। गीत के बोल हैं अरपा पैरी के धार...इसे लिखा था स्व डॉ नरेंद्र देव वर्मा ने। डॉ नरेंद्र सन्यासी जीवन बीताना चाहते थे। उनके बड़े भाई स्वामी आत्मानंद विवेकानंद के विचारों से प्रभावित होकर संत जीवन में जा चुके थे। आज के रायपुर स्थित विवेकानंद आश्रम के विकास में उनका अहम योगदान था। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसकी आधिकारिक घोषणा की। आपको बता दे डॉ नरेंद्र देव वर्मा की बेटी मुक्तेश्वरी मुख्यमंत्री बघेल की पत्नी है। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि यह महज एक सुयोग है कि गत दिवस राज्योत्सव के तीसरे दिन इस गीत को राजगीत घोषित किया गया और आज इस गीत के रचयिता डॉ. नरेंद्र देव वर्मा जी की जन्म जयंती भी है। अरपा पैरी के धार, महानदी हे अपार इंद्रावती हा पखारय तोर पइयां.... यह महज एक सुयोग है कि गत दिवस राज्योत्सव के तीसरे
रायपुर : ’गोेबर और मिट्टी के दीये से दीवाली‘ वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल : मात्र दो ही दिन में 3 लाख से अधिक लोगों ने देखा

रायपुर : ’गोेबर और मिट्टी के दीये से दीवाली‘ वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल : मात्र दो ही दिन में 3 लाख से अधिक लोगों ने देखा

chhattisgarh, News, special, Videos
रायपुर. दीपावली के अवसर पर इस बार अपने घरों को गोबर और मिट्टी से बने दीपक से रौशन करने वाला वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है। मात्र दो ही दिन में इस वीडियो को 3 लाख से भी अधिक लोगों ने बउव छत्तीसगढ़ के ऑफीशियल फेसबुक पेज में देखा और देखने वालों की यह संख्या लगातार तेजी से बढ़ रही है। इसे एक लाख 35 हजार लोगों ने लाईक किया और पांच हजार से अधिक लोगों ने शेयर किया है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों से इस दीपावली में छत्तीसगढ़ के कुम्हारों, हस्तशिल्पियों, बुनकरों और अन्य कारीगरों द्वारा बनाए गए दीयों, वस्त्र, सजावट की वस्तुएं उपहार एवं अन्य सामग्री का अधिक से अधिक क्रय करने की अपील की है ताकि लोगों के इस छोटे से प्रयास से राज्य में इन व्यवसायों से जुडे लाखों लोगों के जीवन में दीपावली की खुशियां बिखर सके। https://www.youtube.com/watch?v=d5ot0JTu0KA राज्य सरकार के
जेल में बंद निर्दोष आदिवासियों के रिहाई के लिए आज किया गया आंदोलन, हजारो आदिवासी जुटे

जेल में बंद निर्दोष आदिवासियों के रिहाई के लिए आज किया गया आंदोलन, हजारो आदिवासी जुटे

chhattisgarh, News, Videos
बस्तर (एजेंसी) | बस्तर की जेलों में बंद निर्दोष आदिवासियों की रिहाई के लिए आज एक दिवसीय आंदोलन किया गया। सामजिक कार्यकर्ता और आप नेत्री सोनी सोरी ने इलाके के एक दर्जन सरपंचों के साथ दंतेवाड़ा पहुंचकर एसडीएम से आंदोलन किया। एसडीएम ने 9 अक्टूबर को कुआकोंडा में पांच से 6 हजार लोगों की भीड़ के साथ सिर्फ एक दिन आंदोलन करने की अनुमति दे दी थी। इससे पहले सभी अनिश्चितकालीन आंदोलन करने की मांग कर रहे थे। अब एक दिन की अनुमति के बाद भी आंदोलन जारी रखने की बात कही जा रही है। https://youtu.be/QyKMSoVSJhU मिली जानकारी के अनुसार 5 अक्टूबर से दंतेवाड़ा, सुकमा और बीजापुर के आदिवासी बस्तर की अलग-अलग जेलों में बंद निर्दोष आदिवासियों की रिहाई की मांग को लेकर पालनार में डटे हुए हैं। आदिवासियों को कुआकोंडा से अनिश्चितकालीन आंदोलन की शुरुआत करनी थी लेकिन आंदोलन के लिए वैधानिक अनुमति नहीं मिलने के कारण
प्रदेश के सबसे ऊंचे 101 फीट के रावण दहन को देखने उमड़ी भीड़, 50 सालों से जारी है परंपरा

प्रदेश के सबसे ऊंचे 101 फीट के रावण दहन को देखने उमड़ी भीड़, 50 सालों से जारी है परंपरा

chhattisgarh, News, Videos
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में दशहरा महोत्सव सम्पन्न हुआ। यह कार्यक्रम हर बार डब्ल्यूआरएस कॉलोनी मैदान में आयोजित किया जाता है। राज्यपाल अनुसूइया उइके, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विधायक कुलदीप जुनेजा, विकास उपाध्याय और महापौर प्रमोद दुबे समेत शहर के हजारों लोग मैदान में मौजूद थे। यहां अतिथियों के संबोधन के बाद रावण दहन का कार्यक्रम हुआ। 101 फीट ऊंची रावण मूर्ति जोरदार धमाके के साथ जली। नीचे खड़े लोग जय श्री राम के नारे लगा रहे थे। मेघनाथ और कुंभकर्ण के विशाल काय पुतले भी जलाए गए। बुराई पर अच्छाई का यह पर्व शहर में इसी अंदाज में पिछले 50 सालों से जारी है। प्रदेशभर के सभी शहरों में मंगलवार की शाम इसी तरह धूम-धाम से रावण दहन किया गया। https://youtu.be/wqxSM-0Us5A 5 हजार मीटर कपड़े और 1 टन कागज से बने थे पुतले यहां 101 फीट का रावण और 85-85 फीट के कुंभकर्ण और मेघनाद के
सीआरपीएफ जवान की चेतावनी- जमीन नहीं लौटाई तो ‘पान सिंह तोमर’ बन जाऊंगा

सीआरपीएफ जवान की चेतावनी- जमीन नहीं लौटाई तो ‘पान सिंह तोमर’ बन जाऊंगा

chhattisgarh, News, Videos
सुकमा (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में नक्सल मोर्चे पर तैनात एक सीआरपीएफ जवान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें जवान ने चेतावनी दी है कि अगर उसकी जमीन नहीं लौटाई गई, तो वह डाकू पान सिंह तोमर बन जाएगा। उत्तरप्रदेश के रहने वाले जवान का आरोप है कि रिश्तेदारों ने उसकी जमीन पर कब्जा कर लिया है और परिजनों काे जान से मारने की धमकी देते हैं। इस संबंध में उसने पुलिस और प्रशासन से शिकायत भी की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। चाचा राजनीति में और दबंग, इसलिए पुलिस कार्रवाई से बच रही वीडियो में नजर आने वाला व्यक्ति खुद को सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन में तैनात आरक्षक प्रमोद कुमार बता रहा है। वीडियो के मुताबिक, प्रमोद इन दिनों सुकमा के पोलमपल्ली स्थित सीआरपीएफ कैंप में तैनात है। उत्तरप्रदेश के हाथरस निवासी प्रमोद का आरोप है कि वहां उसके तीन चाचा, परिवार को परेशान कर रहे हैं। वह मार
विजयादशमी विशेष: 600 वर्ष पुराना और 75 दिनों तक मनाया जाता है बस्तर दशहरा, विश्व का सबसे लम्बा चलने वाला पर्व है

विजयादशमी विशेष: 600 वर्ष पुराना और 75 दिनों तक मनाया जाता है बस्तर दशहरा, विश्व का सबसे लम्बा चलने वाला पर्व है

chhattisgarh, News, tourism, Videos
बस्तर का दशहरा अपनी अभूतपूर्व परंपरा व संस्कृति की वजह से विश्व प्रसिद्ध है। यह कोई आम पर्व नहीं है यह विश्व का सबसे लंबी अवधि तक चलने वाला पर्व है। छत्तीसगढ़ के बस्तर में मनाया जाने वाला दशहरा 75 दिन तक मनाया जाता है। बस्तरवासी वगभग 600 साल से यह पर्व मनाते आ रहे हैं। बस्तर ही एकमात्र जगह है जहां दशहरे पर रावण का पुतला दहन नहीं किया जाता। यह पर्व बस्तर की आराध्य देवी मां दंतेश्वरी की आराधना से जुड़ा हुआ है। बस्तर के आदिवासियों की अभूतपूर्व भागीदारी का ही प्रतिफल है कि बस्तर दशहरा की राष्ट्रीय पहचान स्थापित हुई। प्रतिवर्ष दशहरा पर्व के लिए परगनिया माझी अपने अपने परगनों से सामग्री जुटाने का प्रयत्न करते थे। सामग्री जुटाने का काम दो तीन महीने पहले से होने लगता था। इसके लिए प्रत्येक तहसील का तहसीलदार सर्वप्रथम बिसाहा पैसा बाँट देता था, जिससे गाँव-गाँव से बकरे सुअर भैंसे चावल दाल तेल नम
नवरात्रि विशेष: गंगरेल बांध के समीप स्थित है अंगारमोती माता का धाम

नवरात्रि विशेष: गंगरेल बांध के समीप स्थित है अंगारमोती माता का धाम

chhattisgarh, News, tourism, Videos
गंगरेल बांध जिसे आर. एल. बांध ( रविशंकर सागर बांध ) भी कहते है। सागर बांध भारत के छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में स्थित है। यह महानदी नदी के पार बनाया गया है छत्तीसगढ़ में यह सबसे लम्बा बांध है। यह बांध वर्षभर के सिचाई प्रदान करता है जिससे किसान प्रतिवर्ष दो फसलों का उत्पादन कर सकते है और भिलाई स्टील प्लांट और नई राजधानी रायपुर को भी पानी प्रदान करता है। प्लांट में 10 मेगावाट की हाइड्रो इलेक्ट्रिक पावर क्षमता है। यह रायपुर राजधानी से 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। सन् 1978 में जब गंगरेल बांध बनकर तैयार हुआ उस समय अनेक गाँव के साथ अनेक देवी-देवतओं के मंदिर भी जल में समां गए थे, जिनमें से एक माँ अंगारमोती का मंदिर भी था। इसके पश्चात विधि-विधान के साथ देवी की मूर्ति को पूर्व स्थान से हटाकर गंगरेल बांध के समीप स्थापित किया गया है। यहाँ विशाल वृक्ष के नीचे खुले चबूतरे पर उनकी प्राण-प्रति