chhattisgarh news media & rojgar logo

Tag: weather

दो दिनों से नहीं निकली धूप, बारिश के बाद अब शीतलहर ने बढ़ाई ठंड

दो दिनों से नहीं निकली धूप, बारिश के बाद अब शीतलहर ने बढ़ाई ठंड

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | बढ़ी तेज गर्मी के बाद दो दिनों से मौसम ने फिर करवट ले ली है। अचानक से शुरू हुआ बारिश का सिलसिला छत्तीसगढ़ में पिछले 48 घंटों से जारी है। इसके चलते राजधानी रायपुर सहित पूरे प्रदेश में तापमान गिर गया है। वहीं दो दिनों से धूप नहीं निकलने और शीतलहर के चलते ठंड बढ़ गई है। हालांकि अब प्रदेश के उत्तरी इलाकों से घने बादल हट गए हैं। वहीं दक्षिण छत्तीसगढ़ यानी बस्तर में अब भी काले बादल छाए हुए हैं।रायपुर, राजनांदगांव, अंबिकापुर और पेंड्रा रोड में रात के तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); मौसम विभाग के अनुसार, ऐसे हालात दो दिनों तक बने रह सकते हैं। प्रदेश के कई हिस्सों में तापमान 10 से 12 डिग्री तक पहुंच चुका है। अगले 24 घंटे में बस्तर संभाग के कुछ इलाकों में तेज बारिश हो सकती है। साथ ही बादल छंटने के बाद फिर एक बार ठंड बढ़ने
मौसम अपडेट: दक्षिण-पूर्व से चल रही हवा का असर कम, एक-दो दिन में उत्तर-पूर्वी हवा से गिरेगा पारा

मौसम अपडेट: दक्षिण-पूर्व से चल रही हवा का असर कम, एक-दो दिन में उत्तर-पूर्वी हवा से गिरेगा पारा

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | जम्मू-कश्मीर में हिमपात का असर यहां नहीं दिख रहा है, क्योंकि हवा दक्षिण-पूर्व दिशा से बह रही है। उत्तर-पूर्व दिशा से हवा चलते ही 8 जनवरी आने वाले तीन दिनों तक न्यूनतम पारा गिरावट आएगी। इससे फिर एक बार ठंड बढ़ेगी। मौसम विभाग ने सर्वसाधरण के लिए सूचना जारी कर दी है। बीते दो दिनों से तापमान में एक से दो डिग्री की बढ़त आंकी गई है। यही वजह है कि ठंड का प्रभाव कम हो चला है। लोग राहत महसूस कर रहे है। लेकिन 8 तारीख से रात के पारा गिरेगा, जिससे ठंड बढ़ेगी। हालांकि यह प्रभाव दो से तीन दिनों तक ही रहेगा। इसके बाद फिर से तापमान बढ़ने की संभावना मौसम वैज्ञानियों ने जताई है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); रायपुर मौसम विभाग से वैज्ञानिक एचपी चंद्रा ने बताया कि जनवरी भर तापमान अस्थिर रहेगा, कभी पारा कम तो कभी बढ़ेगा। क्योंकि हवाओं का डायरेक्शन बदल रहा है। यही वजह ह
‘पेथई’ हुआ कमजोर, रात को ठंड बढ़ेगी, घना काेहरा छाने की दी चेतावनी, ठंड से 3 की मौत, सरकार का अलर्ट जारी

‘पेथई’ हुआ कमजोर, रात को ठंड बढ़ेगी, घना काेहरा छाने की दी चेतावनी, ठंड से 3 की मौत, सरकार का अलर्ट जारी

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | ‘पेथई’ चक्रवात कमजोर होकर निम्न दाब के रूप में उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी, संगत पश्चिम बंगाल और उड़ीसा के तटीय क्षेत्र पर स्थित है। सिस्टम की वजह से प्रदेश के एक दो स्थानों पर हल्की बारिश या फिर गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की अति संभावना है। इसके अलावा कुछ स्थानों पर मध्यम से घना कोहरा और एक दो स्थानों पर बहुत घना कोहरा छाने की चेतावनी रायपुर मौसम विभाग की ओर से जारी की गई है। प्रदेश के कई हिस्सों में मंगलवार को भी बारिश और ठंड जारी रही। रायपुर समेत राज्य के बड़े हिस्से में बुधवार को भी घना कोहरा छाने के आसार हैं। इस वजह से राज्य सरकार ने शीतलहर और कड़ाके की सर्दी के हालात को देखते हुए अलर्ट जारी कर दिया है। सोमवार को सदी का सबसे ठंडा दिन रहा। दिन का तापमान 16 डिग्री तक पहुंच गया। यह सामान्य से 12 डिग्री कम था। मंगलवार को दिन का तापमान थोड़ा बढ़कर 19 डिग्री हुआ, लेकिन तेज
बादलों की वजह से ठण्ड हुई कम, पारा बढ़कर हुआ 17 डिग्री हुआ

बादलों की वजह से ठण्ड हुई कम, पारा बढ़कर हुआ 17 डिग्री हुआ

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | तीन दिन से लगातार हवा में नमी और चौथे दिन, शुक्रवार को बादलों के कारण राजधानी रायपुर में रात की ठंड थोड़ी और कम हो गई। तापमान 17 डिग्री के करीब पहुंच गया, जो सामान्य से एक डिग्री ज्यादा है। तापमान के लिहाज से पेंड्रारोड सबसे कम तापमान वाला शहर है। यहां पारा 12.1 डिग्री दर्ज किया गया, लेकिन यह सामान्य के बराबर है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक उत्तर-पूर्वी हवा के साथ आई नमी अब कम होने लगेगी। एक-दो दिन बाद ठंड फिर बढ़ जाएगी। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); राजधानी रायपुर में सुबह हवा में नमी 69 फीसदी थी। शाम को यह 55 फीसदी रिकार्ड की गई। इसी वजह से गुरुवार की रात तापमान 17 डिग्री के करीब पहुंचा। शुक्रवार की रात तापमान में और वृद्धि दर्ज की गई। प्रदेश में सरगुजा, बिलासपुर और बस्तर के वनक्षेत्रों में ज्यादा ठंड पड़ती है, लेकिन वहां भी रात का तापमान 12 स
ठंडी होने लगी रात, पारा पहुंचा 16 डिग्री के करीब, अार्द्रता 70%, बिछी कोहरे की चादर

ठंडी होने लगी रात, पारा पहुंचा 16 डिग्री के करीब, अार्द्रता 70%, बिछी कोहरे की चादर

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) |  प्रदेश के सभी संभागों में शनिवार को मौसम शुष्क रहा। रायपुर संभाग में तापमान तो सामान्य रहा, लेकिन सुबह 8:30 हवा में मौजूद 70% अार्द्रता से कोहरे की चादर बिछ गई। रायपुर में अधिकतम 30.70 और न्यूनतम तापमान 16.30 सेल्सियस दर्ज हुआ। प्रदेश में सबसे कम न्यूनतम तापमान 10.80 अंबिकापुर में रिकॉर्ड किया गया। अगले 48 घंटे प्रदेश में मौसम शुष्क रहने की संभावना है। न्यूनतम तापमान 150 के अासपास रहेगा। हवा में नमी कम होने के असर से रात की ठंड फिर बढ़ने लगी है। राजधानी में गुरुवार और शुक्रवार की रात ठंड महसूस हुई और न्यूनतम तापमान 16 डिग्री से कुछ अधिक रिकार्ड किया गया। आउटर में यह एक डिग्री और कम रहा। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार उत्तरी हवा के असर से अब ठंड बढ़ेगी। प्रदेश के उत्तरी हिस्से में असर ज्यादा है और सीजन में पहली बार अंबिकापुर में रात का तापमान 10 डिग्री के करीब पहुंच गया है।
गाजा से बढ़ी गर्मी अब एक-दो दिन में मौसम खुलेगा और ठंड बढ़ेगी 

गाजा से बढ़ी गर्मी अब एक-दो दिन में मौसम खुलेगा और ठंड बढ़ेगी 

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | राजधानी रायपुर में पिछले 5 दिन में रात का तापमान करीब 2 डिग्री बढ़ गया है। तापमान सामान्य से ऊपर होने के कारण ठंड कम हो गई है। तमिलनाडु और आंध्रप्रदेश में आए गाजा तूफान का छत्तीसगढ़ में सीधा प्रभाव तो नहीं रहा, लेकिन तूफान ने प्रदेश में नमी बढ़ा दी। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); इससे तापमान में ठंड कम हो गई। राजधानी में शनिवार को सुबह हवा में नमी 69% और शाम को 38% के आसपास थी। रायपुर में अधिकतम तापमान 32.50 और 18.50 सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान केंद्र के डायरेक्टर पीके खरे के अनुसार नमी के कारण जमीन की गर्मी ऊपर नहीं उठ पाती और वातावरण गर्म रहता है। इस वजह से ठंड कम हो जाती है। छत्तीसगढ़ में इस समय हवा की दिशा उत्तर और उत्तर-पूर्व होने के साथ कुछ दक्षिण-पश्चिमी भी है। नमी दक्षिण-पश्चिम से ही आ रही है। अगले एक-दो दिन में मौसम खुलेगा और ठंड
चक्रवाती तूफान की वजह से छत्तीसगढ़ में हो रही है बारिश, ओडिशा में बाढ़ के हालत

चक्रवाती तूफान की वजह से छत्तीसगढ़ में हो रही है बारिश, ओडिशा में बाढ़ के हालत

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | राजधानी में गुरुवार को दोपहर तेज धूप की वजह से गर्मी और उमस दोनों बढ़ गई थी। इससे बेचैनी भी महसूस हुई, लेकिन शाम को बादल घिरे और करीब शाम 6 बजे तेज हवा के साथ बारिश शुरू हुई। 15 मिनट की मूसलाधार बारिश से न केवल शहर तरबतर हो गया, बल्कि रात का मौसम ही बदल गया। मौसम विज्ञानियों ने शुक्रवार को भी गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना जताई थी, लेकिन तड़के तेज बारिश ने एक बार शहर को तरबतर कर दिया। शाम तक फिर हल्की बारिश की संभावना है। दक्षिण ओडिशा और आंध्रप्रदेश के तटीय क्षेत्र के आसपास ऊपरी हवा में चक्रवात बना हुआ है। यह करीब 60 से 80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तट को पार कर उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ेगा और अवदाब में बदल जाएगा। इसी सिस्टम के कारण समुद्र से काफी नमी आ रही है। इसी सिस्टम के चलते छत्तीसगढ़ के कई इलाकों में रुक-रुककर बारिश हो रही है। (adsbygoogle = window.adsb