chhattisgarh rojgar logo
telegram group   Chhattisgarh Rojgar Facebook Page  Chhattisgarh Rojgar twitter  Chhattisgarh Rojgar Youtube Channel

Tag: teej

ठेठरी, खुरमी और पिड़िया से महकी रसोई आज 24 घंटे निर्जला व्रत रहेंंगी तिजहारिनें

ठेठरी, खुरमी और पिड़िया से महकी रसोई आज 24 घंटे निर्जला व्रत रहेंंगी तिजहारिनें

chhattisgarh, News
रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ में बहनों और बेटियों के सम्मान का सबसे अहम लोकपर्व तीजा रविवार को मनाया जाएगा। इसकी शुरुआत शनिवार को करूभात से हो गई। रविवार को सुहागिनें व कुंवारी कन्याएं 24 घंटे से भी ज्यादा समय का सबसे कठिन निर्जला व्रत रखेंगी। रतजगा कर भगवान का भजन व नाच-गान करेंगी। मायके से भेंट में मिले नए वस्त्र व आभूषण धारण करेंगी। सोमवार को सुबह शिव-पार्वती व गणेश भगवान की पूजा के बाद व्रत का समापन होगा और दिनभर महिलाएं एक-दूसरे के घर जाकर छत्तीसगढ़ी पकवान खाएंगी। इस पौराणिक त्योहार में सभी सुहागिनें सोलह श्रृंगार करेंगी। तीज के ये हैं तेरह चलन 1. तीज का व्रत निर्जला किया जाता है। यानी पूरे दिन और रात अगले सूर्योदय तक कुछ भी ग्रहण नहीं किया जाता। 2. वृद्ध या बीमार महिलाओं को निर्जला व्रत रखने से छूट दी जाती है। 3. तीज का व्रत कुंवारी कन्याएं और सौभाग्यवती महिलाओं द्वारा किया ज
#culture तीजा तिहार: कल करू भात खाकर आज सुहागिनों ने रखा तीजा व्रत, जानिए पूजा विधि और महत्व

#culture तीजा तिहार: कल करू भात खाकर आज सुहागिनों ने रखा तीजा व्रत, जानिए पूजा विधि और महत्व

tourism
भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हरितालिका तीजा का पर्व इस बार 12 सितंबर को मनाया जा रहा है। मनभावन पति के लिए कुंवारी कन्याएं और अखंड सौभाग्य के लिए सुहागन महिलाएं बड़े उत्साह से यह व्रत रखती हैं। छत्तीसगढ़ में तीजा का पर्व काफी माना जाता है। तीजा के लिए मायके से भाई या पिता अपनी बेटी के ससुराल जाकर तीजा मनाने का न्योता देकर उसे मायके ले आता है। सुहागन महिलाएं तीजा का व्रत अपने मायके में रहकर करती हैं। बेटी को मायके आने का न्यौता देने के अलावा तीजा के लुगरा, कडु भात खाना, हाथों में मेहंदी लगाना, तीजा के दिन निर्जल व्रत रखना, शाम को फुलेरा सजाना, प्रदोष काल में पूजा करना, रात्रि जागराण करना और ठीक अगले दिन चतर्थी को सुबह विसर्जन करने के बाद तिखूर खाकर व्रत तोड़ने की परंपरा बहुत ही अनोखी है। अन्य राज्यों की अपेक्षा छत्तीसगढ़ में तीजा का महत्व कुछ अधिक है। न्यौता मायके से, लिवाने सस
#culture तीजा के तीज सुहागन महिलाओं का त्यौहार, जानिए पौराणिक कथा और महत्व

#culture तीजा के तीज सुहागन महिलाओं का त्यौहार, जानिए पौराणिक कथा और महत्व

tourism
सुहागिनें जहां अपने पति की लंबी आयु के लिए तीज का व्रत रखती हैं, वहीं अविवाहित लड़कियां अच्छा वर प्राप्त करने के लिए यह व्रत करती हैं। यूं तो हरतालिका तीज देश के कई राज्यों में मनाई जाती है, लेकिन छत्तीसगढ़ में इस त्योहार का उत्साह दोगुना हो जाता है। मानसून के मौसम का स्वागत करने के लिए छत्तीसगढ़ और उत्तरी भारत में तीज त्योहार ('छत्तीसगढ़ी  में तीजा') मनाया जाता है। पति की लंबी उम्र की कामना और परिवार की खुशहाली के लिए सभी विवाहित महिलाओं में निर्जला उपवास रखती है (वे पूरे दिन पानी नहीं पीते हैं) और शाम को तीज माता पार्वती और भगवान शिव की पूजा के बाद, वे पानी और भोजन लेती है। तीज के एक दिन पहले सभी महिलाये एक दूसरे के घर जाकर कड़वा भोजन (छत्तीसगढ़ी में 'करू भात') का सेवन करती है। करेले की सब्जी एवं अन्य व्यंजन बनाये जाते है।  यह पर्व भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया (भादो की शुक्ल पक्ष क