Shadow

Tag: supreme court

निर्भया को मिला इंसाफ: सुबह 5:30 बजे तय समय पर तिहाड़ में चारों दुष्कर्मियों को दी गई फांसी, पीएम मोदी ने कहा- ‘न्याय की जीत हुई’

निर्भया को मिला इंसाफ: सुबह 5:30 बजे तय समय पर तिहाड़ में चारों दुष्कर्मियों को दी गई फांसी, पीएम मोदी ने कहा- ‘न्याय की जीत हुई’

india, News
नई दिल्ली | 7 साल, 3 महीने और 4 दिन के बाद शुक्रवार सुबह साढ़े पांच बजे निर्भया के सभी दोषियों को एक साथ तिहाड़ जेल में फांसी पर लटका दिया गया। 16 दिसंबर 2012 की रात दिल्ली में छह दरिंदों ने निर्भया से दुष्कर्म किया था। एक ने जेल में खुदकुशी कर ली थी, दूसरा नाबालिग था इसलिए तीन साल बाद छूट गया। बाकी बचे चार- मुकेश (32), अक्षय (31), विनय (26) और पवन (25) अपनी मौत से 2 घंटे पहले तक कानून के सामने गिड़गिड़ाते रहे। अंत में जीत निर्भया की ही हुई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया- इंसाफ की जीत हुई Justice has prevailed. It is of utmost importance to ensure dignity and safety of women. Our Nari Shakti has excelled in every field. Together, we have to build a nation where the focus is on women empowerment, where there is emphasis on equality and opportunity. — Narendra Modi (@nar...
निर्भया केस: कल सुबह 5:30 बजे दुष्कर्मियों की फांसी तय, मौत से एक दिन पहले दरिंदों की 5 याचिकाएं खारिज

निर्भया केस: कल सुबह 5:30 बजे दुष्कर्मियों की फांसी तय, मौत से एक दिन पहले दरिंदों की 5 याचिकाएं खारिज

india, News
नई दिल्ली | निर्भया को न्याय मिलते-मिलते आखिरकार न्याय मिल ही गया। उसके चारों दुष्कर्मियों- मुकेश सिंह, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय ठाकुर ने मौत से एक दिन पहले तक बचने के लिए सारी तिकड़में लगा दीं, लेकिन कोर्ट ने उनकी फांसी नहीं टाली। गुरुवार को एक ही दिन में दोषियों की 5 याचिकाएं खारिज हो गईं। पवन-अक्षय ने दूसरी बार दया याचिका भेजी, वो भी खारिज हो गई। मुकेश ने वारदात वाले दिन दिल्ली में नहीं होने का दावा किया था, वो भी सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया। फांसी पर रोक लगाने के लिए भी याचिका लगाई थी, लेकिन पटियाला हाउस कोर्ट ने इसे भी नहीं माना। अब शुक्रवार सुबह 5:30 बजे चारों दुष्कर्मियों को तिहाड़ की जेल नंबर-3 में फांसी मिल जाएगी। तलाक की अर्जी भी लगाई थी, लेकिन फांसी नहीं रोक सके फांसी रोकने के लिए दोषी अक्षय की पत्नी पुनीता ने 18 मार्च को औरंगाबाद की एक कोर्ट में तलाक की अर्जी...
एनआईए एक्ट 2008 के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची राज्य सरकार, कानून काे असंवैधानिक घोषित करने की मांग

एनआईए एक्ट 2008 के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची राज्य सरकार, कानून काे असंवैधानिक घोषित करने की मांग

chhattisgarh, india, News
रायपुर | केंद्र की भाजपा सरकार और कांग्रेेस शासित छत्तीसगढ़ सरकार के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है। भाजपा विधायक भीमा मंडावी की मौत मामले की जांच को लेकर बिलासपुर हाईकोर्ट से निराशा हाथ लगने के बाद अब प्रदेश सरकार एनअाईए एक्ट 2008 के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है। राज्य सरकार की ओर से एक याचिका दाखिल कर इस कानून को पूरी तरह से असंवैधानिक बताया है। साथ ही सरकार ने इस एक्ट में वर्ष 2008 में किए गए संशोधन को रद्द करने की मांग कर दी है। याचिका में कहा- अधिनियम का प्रावधान राज्य और केंद्र के बीच समन्वय नहीं बनाता छत्तीसगढ़ सरकार का कहना है कि एनआईए एक्ट राज्य पुलिस के जांच और सर्च करने के अधिकार को छीनता है। वहीं केंद्र का अक्षम, विवेकहीन और मनमानी शक्तियां भी रखने का अधिकार देता है। इसके चलते राज्य की पुलिस को जांच करने का मिला संवैधानिक अधिकार प्रभावित होता है। याचिका में कहा है कि इस नए एक्...
सीजी पीएससी घोटाला: राज्य प्रशासनिक सेवा के 19 अधिकारियों को सुप्रीम कोर्ट ने किया तलब

सीजी पीएससी घोटाला: राज्य प्रशासनिक सेवा के 19 अधिकारियों को सुप्रीम कोर्ट ने किया तलब

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | पीएससी चयन में गड़बड़ी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य प्रशासनिक सेवा के 19 अधिकारियों को तलब किया है। कोर्ट की ओर से जारी नोटिस में इन अधिकारियों को 30 दिन का समय दिया गया है। यह अंतिम नोटिस है। इस दौरान इन अधिकारियों को स्वयं उपस्थित होना होगा या फिर वकील के माध्यम से अपना पक्ष रखना होगा। ऐसा नहीं करने पर माना जाएगा कि वे अपना पक्ष नहीं रखना चाहते हैं और कोर्ट इसी आधार पर मामले की सुनवाई करेगा। अंतिम बार भेजा गया नोटिस, कई अधिकारी अब मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड में भी नियुक्त दरअसल, वर्ष 2003 में छत्तीसगढ़ लोकसेवा आयोग की ओर से जारी किए गए परिणामों में चयनित 147 अभ्यर्थियों के चयन को लेकर चुनाती दी गई थी। इस संबंध में दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सभी अभ्यर्थियों को नोटिस जारी किया था। इनमें से 138 अभ्यर्थियों ने तो नोटिस का जवाब दिया,...
सुप्रीम कोर्ट ने कमल विहार प्रोजेक्ट पर लगाई रोक, केंद्र से नहीं ली थी पर्यावरण अनुमति

सुप्रीम कोर्ट ने कमल विहार प्रोजेक्ट पर लगाई रोक, केंद्र से नहीं ली थी पर्यावरण अनुमति

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | पूर्व भाजपा सरकार की महत्वाकांक्षी कमल विहार आवासीय प्रोजेक्ट पर सुप्रीम कोर्ट ने तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। इस प्रोजेक्ट को देश की सर्वोच्च अदालत ने यह कहते हुए रोक लगा दिया क्योकि केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय से इंवायरमेंटल क्लियरेंस नहीं ली गई थी। इसे लेकर 2009 में चार लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई थी। शुक्रवार को सुप्रीमकोर्ट ने सुनवाई के बाद रोक लगा दी इस पर सुनवाई करते हुए जस्टिस रोहिंगटन फली नरी मन और जस्टिस विनीत सरन की बेंच ने शुक्रवार को राजेंद्र शंकर शुक्ला वर्सेज यूनियन ऑफ इंडिया मामले की सुनवाई करते हुए योजना पर रोक लगाने का फैसला दिया। बता दें कि इससे पहले भी 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं की जमीन को योजना से बाहर रखने का आदेश दिया था। याचिकाकर्ता शुक्ला का कहना है कि आज तक उन्हें न तो जमीन मिली, न ही शासन की तरफ से कोई लैंड डिमार्क...
सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस सिकरी हुए रिटायर; कहा, “हर जज में नारीत्व का अंश होना चाहिए।”

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस सिकरी हुए रिटायर; कहा, “हर जज में नारीत्व का अंश होना चाहिए।”

india
नई दिल्ली (एजेंसी) | सुप्रीम काेर्ट के जज जस्टिस एके सिकरी बुधवार काे रिटायर हाे गए। सुप्रीम काेर्ट बार एसाेसिएशन के विदाई समाराेह में जस्टिस सिकरी ने कहा कि पूर्ण न्याय करने के लिए हरेक जज में नारीत्व के कुछ अंश होने चाहिए। भावुक हुए जस्टिस सिकरी ने अपने करियर में मिली मदद के लिए न्यायपालिका और वकीलों का धन्यवाद किया। इससे पहले काम के आखिरी दिन चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस एसए बोबडे के साथ बेंच में बैठने के दौरान भी उनकी आंखें नम हो गई थीं। "न्याय की देवी के आंख पर पट्टी बंधी है लेकिन उसका दिल बंद नहीं है" : जस्टिस एके सिकरी विदाई समाराेह में जस्टिस सिकरी ने कहा, “प्रकृति से मेरा कुछ अंश नारी सा है। इस लिंग में जिस तरह के गुण होते हैं अगर उसपर जाएं तो मेरे विचार में पूर्ण न्याय करने के लिए प्रत्येक जज में नारीत्व के कुछ अंश होने चाहिए।’ उन्होंने कहा कि न्याय की प्रतीक एक देवी हैं...
सुप्रीम कोर्ट ने 11.8 लाख आदिवासियों को दी राहत, जंगल से वनवासियों की बेदखली पर रोक

सुप्रीम कोर्ट ने 11.8 लाख आदिवासियों को दी राहत, जंगल से वनवासियों की बेदखली पर रोक

chhattisgarh
जगदलपुर (एजेंसी) | सुप्रीम कोर्ट ने आदिवासियों और वनवासियों को भारी राहत देते हुए उन्हें फिलहाल बेदखल नहीं करने का आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने 13 फरवरी के आदेश पर फिलहाल रोक लगा दिया है। उन्होंने मामले का उल्लेख करते हुए 11.8 लाख आदिवासियों को जंगलों से हटाने के आदेश पर रोक लगाने की मांग की थी। जस्टिस अरुण मिश्रा ने गुरूवार को मामले की सुनवाई करते हुुए सभी 16 राज्यों को फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि सभी राज्य हलफनामा दायर कर बताएं कि उन्होंने जंगल में रह रहे लोगों के दावों का इतनी जल्दी निपटारा किस आधार पर किया है? वह अब तक सोते क्यों रहे? सुप्रीम कोर्ट ने 13 फरवरी को 16 राज्यों के करीब 11.8 लाख आदिवासियों व वनवासियों के जमीन पर कब्जे के दावों को खारिज करते हुए राज्य सरकारों को आदेश दिया था कि वे अपने कानूनों के मुताबिक जमीनें खाली कराएं। कोर्ट ने यह भी आदेश जारी किया था कि सभी राज्यों...
वनभूमि मामला: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बस्तर में 1.63 लाख आदिवासी परिवारों पर होगा असर

वनभूमि मामला: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बस्तर में 1.63 लाख आदिवासी परिवारों पर होगा असर

chhattisgarh
जगदलपुर (एजेंसी) | वनभूमि से आदिवासियों को बेदखल करने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अकेले बस्तर में ही दो लाख से ज्यादा आदिवासी परिवार प्रभावित हो रहे है। इनमें एक लाख 63 हजार से ज्यादा आदिवासी परिवार अभी वन भूमि पर काबिज है तो वहीं 60 हजार से ज्यादा परिवारों के आवेदन लंबित हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद आदिवासियों में मायूसी है। अखिल भारतीय आदिवासी महासभा ने कहा कि जल, जंगल, जमीन पर असली हक आदिवासियों का है और उनके जंगल में उन्हें ही जमीन नहीं दी जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकारों से मांग की जा रही है कि 24 जुलाई को होने वाली सुनवाई में सरकारें पुनर्विचार याचिका लगाए। सुप्रीम कोर्ट ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए 16 राज्यों के आदिवासियों को दिए गए वनभूमि के पट्टे को निरस्त कर बेदखली की कार्रवाई का आदेश दिया है। इस मामले में 24 जुलाई 2019 को फिर से सुनवाई होनी है।...
क्या है सबरीमाला विवाद? पढ़िए भगवान अयप्पा के बारे में वो सब जो आप जानना चाहते है

क्या है सबरीमाला विवाद? पढ़िए भगवान अयप्पा के बारे में वो सब जो आप जानना चाहते है

special
सबरीमाला मंदिर महिला प्रवेश को लेकर लगातार चर्चा का विषय बना हुआ है हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने महिला प्रवेश पर प्रतिबंध को हटाए जाने का फैसला सुनाया तब से कई हिंदूवादी संगठन इसका विरोध कर रहे हैं आइए समझते हैं यह विवाद क्या है? क्यों इसका विरोध हो रहा है? भारत के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है विश्‍व प्रसिद्ध सबरीमाला का मंदिर। यहां हर दिन लाखों लोग दर्शन करने के लिए आते हैं। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर लगा प्रतिबंध हटा दिया है। करीब 800 साल पुराने इस मंदिर में ये मान्यता पिछले काफी समय से चल रही थी कि महिलाओं को मंदिर में प्रवेश ना करने दिया जाए। कौन है भगवान अयप्पा भगवान अयप्पा विष्णु और शिव के पुत्र हैं. यह किस्सा उनके अंदर की शक्तियों के मिलन को दिखाता है न कि दोनों के शारीरिक मिलन को। इनसे सस्तव नामक पुत्र का जन्म का हुआ जिन्हें दक्षिण भारत...
सुप्रीम कोर्ट: महिलाओ को मिला सबरीमाला में प्रवेश करने का अधिकार, 800 साल पुराणी प्रथा समाप्त

सुप्रीम कोर्ट: महिलाओ को मिला सबरीमाला में प्रवेश करने का अधिकार, 800 साल पुराणी प्रथा समाप्त

india
नई दिल्ली (एजेंसी) | सुप्रीम कोर्ट ने आज शुक्रवार को केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओ के प्रवेश को लेकर ऐतिहासिक फैसला देते हुए मंदिर में हर उम्र की महिलाओं को प्रवेश करने और पूजा करने की इजाजत दे दी। इससे पहले यहां 10 साल की बच्चियों से लेकर 50 साल तक की महिलाओं के प्रवेश पर पाबंदी थी। यह प्रथा 800 साल से चली आ रही थी। एक याचिका में इस नियम को चुनौती दी गई थी। केरल सरकार भी मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के पक्ष में थी। सबरीमाला मंदिर का संचालन करने वाला त्रावणकोर देवस्वम बोर्ड अब कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर करने की तैयारी में है। महिलाएं पुरुषों से कमतर नहीं -सुप्रीम कोर्ट  चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने शुक्रवार को सुनाए फैसले में कहा, "सभी अनुयायियों को पूजा करने का अधिकार है। लैंगिक आधार पर श्रद्धालुओं से भेदभाव नहीं किया जा सकता। महिलाएं पुरुषों से कमतर नहीं हैं। एक तरफ आप महिलाओ...