chhattisgarh news media & rojgar logo

Tag: punjab

नहीं रहे 1971 की भारत-पाकिस्तान जंग के नायक ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी, बॉर्डर फिल्म में सनी देओल ने इन्हीं का रोल निभाया था

नहीं रहे 1971 की भारत-पाकिस्तान जंग के नायक ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी, बॉर्डर फिल्म में सनी देओल ने इन्हीं का रोल निभाया था

india
नेशनल न्यूज़ (एजेंसी) | 1971 की भारत-पाकिस्तान जंग के नायक ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी नहीं रहे। वह 78 साल के थे। कैंसर से जूझते हुए शनिवार सुबह उन्होंने मोहाली में आखिरी सांस ली। कुछ दिन पहले ही वे विदेश से लौटे थे।उनके परिवार में पत्नी और तीन बेटे हैं। उन्होंने राजस्थान के लोंगेवाला में निर्णायक लड़ाई लड़ी थी। चांदपुरी के नेतृत्व में 120 भारतीय जवानों ने 2000 पाकिस्तानी फौजियों को खदेड़ा था। उनके 12 टैंक तबाह कर दिए थे। महावीर चक्र और विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित थे। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); 1997 में फिल्म निर्माता-निर्देशक जेपी दत्ता ने राजस्थान में भारत-पाकिस्तान लड़ाई पर पंजाब रेजिमेंट की इसी टुकड़ी की बहादुरी पर 'बॉर्डर' फिल्म बनाई। इसमें सनी देओल ने ब्रिगेडियर चांदपुरी का किरदार निभाया था। जन्म: 22 नवंबर 1940   निधन: 17 नवंबर 2018 लोंगेवाला की लड़
अमृतसर ट्रेन हादसे पर PM मोदी और CM रमन सिंह ने शोक व्यक्त किया,

अमृतसर ट्रेन हादसे पर PM मोदी और CM रमन सिंह ने शोक व्यक्त किया,

india
अमृतसर (एजेंसी) | पंजाब के अमृतसर शहर के जोड़ा बाजार में रावण दहन देख रहे लोग शुक्रवार को दो ट्रेनों की चपेट में आ गए। जोड़ा रेलवे फाटक के पास हुए हादसे ने दशहरे की खुशी मातम में बदल दी। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि पटाखों के शोर में किसी को ट्रेन का हॉर्न सुनाई नहीं दिया और दो ट्रेनें पटरियों पर खड़े लोगों को रौंदते हुए गुजर गईं। मंजर ऐसा था कि किसी का पैर कहीं पड़ा था, तो किसी का सिर कहीं पड़ा था। चश्मदीदों ने कहा कि हादसे के बाद रेल पटरियों के 150 मीटर के दायरे में लाशें बिखरी नजर आ रही थीं। इसे देखकर 1947 के बंटवारे का मंजर याद आ गया। लोगों ने कहा- मदद को नहीं आया प्रशासन चश्मदीदों ने कहा कि मृतक संख्या 200 तक भी जा सकती है। हादसे के बाद प्रशासन तुरंत मदद को नहीं अाया। जिन मांओं ने अपने बच्चे खोए हैं, उनका क्या होगा? एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी ने कहा कि हादसे में कई बच्चे और महिलाएं म
दशहरे की खुशियाँ बदली मातम में, अमृतसर में ट्रेन हादसे ने ले ली सैकड़ो जाने

दशहरे की खुशियाँ बदली मातम में, अमृतसर में ट्रेन हादसे ने ले ली सैकड़ो जाने

india
अमृतसर (एजेंसी) | पंजाब के अमृतसर शहर के जोड़ा बाजार में रावण दहन देख रहे लोग शुक्रवार को दो ट्रेनों की चपेट में आ गए। जोड़ा रेलवे फाटक के पास हुए हादसे ने दशहरे की खुशी मातम में बदल दी। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि पटाखों के शोर में किसी को ट्रेन का हॉर्न सुनाई नहीं दिया और दो ट्रेनें पटरियों पर खड़े लोगों को रौंदते हुए गुजर गईं। मंजर ऐसा था कि किसी का पैर कहीं पड़ा था, तो किसी का सिर कहीं पड़ा था। चश्मदीदों ने कहा कि हादसे के बाद रेल पटरियों के 150 मीटर के दायरे में लाशें बिखरी नजर आ रही थीं। इसे देखकर 1947 के बंटवारे का मंजर याद आ गया। वहाँ मौजूद लोगों के मुताबिक रावण दहन का कार्यक्रम शाम 6 बजे था। जिसमे मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू जो कि चीफ गेस्ट थी देरी से पहुंचीं। इस कारण से कार्यक्रम 7 बजे के बाद शुरू हुआ, तब तक अंधेरा हो चुका था। तक़रीबन 7:12 PM बजे के आसप