chhattisgarh news media & rojgar logo

Tag: crpf

सीआरपीएफ जवान की चेतावनी- जमीन नहीं लौटाई तो ‘पान सिंह तोमर’ बन जाऊंगा

सीआरपीएफ जवान की चेतावनी- जमीन नहीं लौटाई तो ‘पान सिंह तोमर’ बन जाऊंगा

chhattisgarh, News, Videos
सुकमा (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में नक्सल मोर्चे पर तैनात एक सीआरपीएफ जवान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें जवान ने चेतावनी दी है कि अगर उसकी जमीन नहीं लौटाई गई, तो वह डाकू पान सिंह तोमर बन जाएगा। उत्तरप्रदेश के रहने वाले जवान का आरोप है कि रिश्तेदारों ने उसकी जमीन पर कब्जा कर लिया है और परिजनों काे जान से मारने की धमकी देते हैं। इस संबंध में उसने पुलिस और प्रशासन से शिकायत भी की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। चाचा राजनीति में और दबंग, इसलिए पुलिस कार्रवाई से बच रही वीडियो में नजर आने वाला व्यक्ति खुद को सीआरपीएफ की 74वीं बटालियन में तैनात आरक्षक प्रमोद कुमार बता रहा है। वीडियो के मुताबिक, प्रमोद इन दिनों सुकमा के पोलमपल्ली स्थित सीआरपीएफ कैंप में तैनात है। उत्तरप्रदेश के हाथरस निवासी प्रमोद का आरोप है कि वहां उसके तीन चाचा, परिवार को परेशान कर रहे हैं। वह मार
खुलासा: फ़ोर्स को ट्रैप करने के लिए नक्सलियों ने साजिश के तहत थानेदार की हत्या की अपवाह फैलाई थी

खुलासा: फ़ोर्स को ट्रैप करने के लिए नक्सलियों ने साजिश के तहत थानेदार की हत्या की अपवाह फैलाई थी

chhattisgarh
दंतेवाड़ा (एजेंसी) | दंतेवाड़ा के अरनपुर थाना क्षेत्र के जलेबी गांव से अगवा किये गए प्रभारी थानेदार ललित कश्यप और शिक्षक जय सिंह कुरेटी को नक्सलियों ने कड़ी पूछताछ के बाद सोमवार रात को छोड़ दिया। दोनों सुबह मंगलवार को समेली स्थित सीआरपीएफ कैम्प पहुंचे। आपको बता दे दोनों को सोमवार को नक्सलियों ने अगवा कर लिया था। जिसके बाद एसआई ललित कुमार की हत्या करने की अफवाह फैल गई थी। ग्रामीणों की ओर से मुख्यालय आकर भी इसकी सूचना दी गई। हालांकि पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की थी। पुलिस की ओर से सर्चिंग तेज की गई और उन्हें ढूंढ निकाला गया। फ़ोर्स को फ़साने की थी साजिश एसआई और शिक्षक दोनों सुबह समेली कैंप पहुंच गए थे। जहां से  दंतेवाड़ा पुलिस दोनों को दंतेवाड़ा ला रही है। जहां उनसे पूछताछ की जाएगी। सूत्रों के मुताबिक, नक्सलियों ने साजिश के तहत बड़ी सर्चिंग पार्टी को फंसाने के लिए एंबुश लगा रखा था। दोनों का अगवा
पुलवामा हमला: शहीद मेजर विभूति को पत्नी का सैल्यूट, आई लव यू और जय हिंद… अंतिम विदाई में हर कोई रो पड़ा

पुलवामा हमला: शहीद मेजर विभूति को पत्नी का सैल्यूट, आई लव यू और जय हिंद… अंतिम विदाई में हर कोई रो पड़ा

india
देहरादून (एजेंसी) | जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सोमवार को आतंकियों के साथ मुठभेड़ में सुरक्षाबलों के 4 जवान शहीद हो गए जिनमें मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल भी शामिल थे। मंगलवार को जब मेजर ढौंडियाल का पार्थिव शरीर उनके घर देहरादून पहुंचा तो उनके अंतिम दर्शन के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा। उनकी पत्नी निकिता समेत परिजनों ने नम आंखों से मेजर को श्रद्धांजलि दी। शहीद की पत्नी मेजर के ताबूत के पास खड़ी रहीं और उनका चेहरा हाथों से चूमकर उन्हें आई लव यू कहा। पत्नी पार्थिव शरीर के पास खड़ीं थीं और उनके चेहरे के भाव किसी को भी गमगीन करने के लिए काफी थे। निकिता अपने आंसुओं के सैलाब को अपनी आंखों में दफन करे खड़ीं रहीं क्योंकि उनके पास ही विभूति की मां का रो-रोकर बुरा हाल था, ऐसे में निकिता उन्हें भी संभाल रहीं थीं। पुलवामा में शहीद हुए 34 साल के मेजर विभूतिशंकर ढौंडियाल को मंगलवार को जब अंतिम विदाई दी जा रह
पुलवामा हमला: शहीदों को नमन, इस ऐप से कर सकते है शहीदों के परिवारों की आर्थिक मदद, 36 घंटे में लोगो ने दान किए 7 करोड़ रुपए

पुलवामा हमला: शहीदों को नमन, इस ऐप से कर सकते है शहीदों के परिवारों की आर्थिक मदद, 36 घंटे में लोगो ने दान किए 7 करोड़ रुपए

india
नई दिल्ली (एजेंसी) | पुलवामा में आतंकवादी हमले के बाद देश के विभिन्न संगठन और लोग शहीदों के परिजनों की आर्थिक मदद के लिए आगे आए हैं। इस अभियान के दौरान शहीद हुए सीएपीएफ के जवानों के परिवार की आर्थिक सहायता के लिए धनराशि एकत्र करने को बनाए गए ऑनलाइन पोर्टल ‘भारत के वीर’ को पुलवामा आतंकी हमले के बाद से अभूतपूर्व तरीके से सात करोड़ रुपये की राशि मिल चुकी है। इनमें मेगास्टार अमिताभ बच्चन और महाराष्ट्र स्थित प्रसिद्ध साईंबाबा मंदिर प्रबंधन ट्रस्ट शामिल हैं। गौरतलब है कि गुरुवार को जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में हुये एक आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। केन्द्रीय गृह मंत्रालय के ऑनलाइन पोर्टल का प्रबंधन देख रहे अधिकारियों ने नागरिकों से ‘भारत के वीर’ को छोड़ कर किसी अन्य मंच के लिए शहीद जवानों के लिए धनराशि नहीं देने का अनुरोध किया है। बीएसएफ के महानिरीक्षक (आईजी) अमित लोधा
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाक को अलग-थलग करने की रणनीति शुरू, पाक से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा छीना, सुरक्षा बलों को कार्रवाई की खुली छूट मिली

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाक को अलग-थलग करने की रणनीति शुरू, पाक से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा छीना, सुरक्षा बलों को कार्रवाई की खुली छूट मिली

india
नई दिल्ली (एजेंसी) | पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले में 40 जवानों की शहादत के बाद कैबिनेट की सुरक्षा संबंधी समिति की (सीसीएस) शुक्रवार सुबह अहम बैठक हुई। इसमें पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) का दर्जा वापस लेने का फैसला लिया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पड़ोसी देश और आतंकी बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं। गुनहगारों को सजा जरूर मिलेगी। सुरक्षा बलों को पूरी स्वतंत्रता दे दी गई है। वित्त मंत्री का पदभार दोबारा संभाल चुके अरुण जेटली ने कैबिनेट की बैठक के बाद कहा कि जो भी इस हमले में शामिल हैं, उन्हें इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। राजनाथ सिंह आज श्रीनगर जा रहे हैं। उनके लौटने के बाद हम ऑल पार्टी मीटिंग बुलाएंगे ताकि मामले पर चर्चा की जा सके। कैबिनेट समिति की बैठक में फैसला- पाक को अलग-थलग किया जाएगा अरुण जेटली ने कहा, "पुलवामा में कल जो हमला हुआ उसमें जवानों की
पुलवामा हमला: प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “आतंकी संगठनों ने बहुत बड़ी गलती की, इसकी कीमत उसे चुकानी पड़ेगी “

पुलवामा हमला: प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “आतंकी संगठनों ने बहुत बड़ी गलती की, इसकी कीमत उसे चुकानी पड़ेगी “

india
नई दिल्‍ली (एजेंसी) | गुरुवार की शाम 3:34 PM को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद पहली बार बोलते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने सैनिकों की शहादत पर कहा, ''हर भारतीय की संवेदनाए उनके साथ हैं। देश में आक्रोश है, लोगों का खून खौल रहा है। देश की हमसे अपेक्षाएं हैं। सबमे कुछ कर गुजरने की भावनाएं हैं, वो स्वाभाविक है। सुरक्षा बलों को पूर्ण स्वतंत्रता दे दी गई है। हमले से लोगों का खून खौल रहा है। सुरक्षा बलों को अपनी कार्रवाई के लिए पूर्ण स्‍वतंत्रता दे दी गई है। इस हमले की वजह से देश में जितना आक्रोश है, लोगों का खून खौल रहा है, ये मैं समझ रहा हूं।इस समय जो देश की अपेक्षाएं हैं, कुछ कर गुजरने की भावनाएं हैं, वो स्वाभाविक है।हमारे सुरक्षा बलों को पूर्ण स्वतंत्रता दी हुई है। हमें अपने सैनिकों के शौर्य पर पूरा भरोसा है: PM— PMO India (@PMOIndia) February 15, 2019 आतंकी संगठनों ने बहुत बड़ी गलती
पुलवामा: CRPF के काफिले में चलते हैं 1000 जवान, इस बार थे 2500 से ज्‍यादा, जानें क्‍या थी वजह

पुलवामा: CRPF के काफिले में चलते हैं 1000 जवान, इस बार थे 2500 से ज्‍यादा, जानें क्‍या थी वजह

india
जम्मू कश्मीर (एजेंसी) | पुलवामा जिले में गुरुवार को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ने एक आत्‍मघाती हमला कर घाटी में अब तक के सबसे क्रूरतम हमले को अंजाम दिया है। इस हमले में 42 सीआरीपीएफ जवानों के शहीद होने की बात कही जा रही है। वही इस हमले में 40 से ज्‍यादा जवान घायल हैं। अधिकारियों के अनुसार जैश के आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों को ले जा रही बस को टक्कर मार दी, जिसमें 42 जवान शहीद हो गये। यह 2016 में हुए उरी हमले के बाद सबसे भीषण आतंकवादी हमला है। ये उन जवानो की लिस्ट है जो पुलवामा में आतंकी हमलें में शहीद हुए। गोंडवाना एक्सप्रेस सभी शहीद जवानों को श्रद्धांजली देता है। और शहीदों के परिवार के साथ खड़े है। जय हिन्द। #CRPF #PulwamaAttack #GondwanaExpress #JAWAN pic.twitter.com/WfjLXJM3vR — GondwanaExpress.com (@GondwanaExp) February 14, 2019 सीआरपीएफ के महानिदेशक आरआर भट
कौन है आतंकवादी आदिल अहमद डार, जिसने पुलवामा में दिया सबसे बड़े आतंकी हमले को अंजाम

कौन है आतंकवादी आदिल अहमद डार, जिसने पुलवामा में दिया सबसे बड़े आतंकी हमले को अंजाम

india
जम्मू-कश्मीर (एजेंसी) | पुलवामा जिले में गुरुवार को जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने आत्‍मघाती हमले को अंजाम देते हुए विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी। इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए।  इस आत्‍मघाती हमले की जिम्‍मेदारी जैश-ए-मोहम्‍मद ने ली है। सीआरपीएफ के काफ‍िले पर आत्‍मघाती हमले को अंजाम देने वाला आतंकवादी पुलवामा का रहने वाला है। इस आतंकी की पहचान पुलवामा के काकापोरा के रहने वाले आदिल अहमद डार के तौर पर हुई है। पुलिस ने बताया कि आदि‍ल अहमद 2018 में जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हुआ था। वह तभी से घाटी में बड़े आतंकी हमले की फिराक में था। सुरक्षाबलों का कहना है कि आदिल को कुछ दिनों पहले एक ऑपरेशन के दौरान घेर भी लिया गया था। लेकिन वह किसी तरह बच निकला था। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); डार ने इस वीडियो में ऐलान करते हुए सरकार के प्रति अपन
जम्मू और कश्मीर: पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर 350 किलो विस्फोटक से भरी गाड़ी से फिदायीन हमला, 40 जवान शहीद

जम्मू और कश्मीर: पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर 350 किलो विस्फोटक से भरी गाड़ी से फिदायीन हमला, 40 जवान शहीद

india
जम्मू और कश्मीर (एजेंसी) | जम्मू से श्रीनगर जा रही सीआरपीएफ की 78 गाड़ियों के काफिले पर कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों ने फिदायीन हमला कर दिया। जम्मू-कश्मीर सरकार के सलाहकार के विजयकुमार ने बताया कि हमले में 40 जवान शहीद हो गए, कई घायल हैं। इस काफिले में 2547 जवान शामिल थे। जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली है। विस्फोटकों से भरी गाड़ी के जरिए अब तक का सबसे बड़ा हमला है। CRPF Official on Pulwama attack: There were 70 vehicles in the convoy and one of the vehicles came under attack. The convoy was on its way from Jammu to Srinagar. https://t.co/B0SaEEU5wE — ANI (@ANI) February 14, 2019 इससे पहले अक्टूबर 2001 में कश्मीर विधानसभा और जनवरी 2004 में सुरक्षा बलों के काफिले पर भी इसी तरह हमला हुआ था। विधानसभा पर हमले में 38 मौतें हुई थीं। जैश के आतंकी आदिल अहमद उर्फ वकास कमांडो ने दोप
चुनाव ड्यूटी पर आए सीआरपीएफ के जवान ने खुद को मारी गोली, मौत

चुनाव ड्यूटी पर आए सीआरपीएफ के जवान ने खुद को मारी गोली, मौत

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | चुनाव ड्यूटी पर आए सीआरपीएफ के जवान ने सोमवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे खुद को गोली मार ली। जवान की मौके पर मौत हो गई। मौके पर आला अधिकारी पहुंच चुके हैं। घटना की पूरी जानकारी जुटाई जा रही है। मंगलवार (20 नवंबर) को छत्तीसगढ़ में दूसरे चरण में 72 सीटों पर मतदान होना है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); इसी के मद्देनजर जवान की ड्यूटी रायपुर लगाई गई थी। चुनाव ड्यूटी के मद्देजनर सीआरपीएफ जवानों को रायपुर बुलाया गया था। इन्हें कबीर नगर थाना परिसर में स्थित बिल्डिंग में ठहराया गया था। सोमवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे सभी जवान अपने कमरों थे। तभी गोली चलने की आवाज आई। जवान राजीव सिंह के कमरे की ओर सभी भागे। देखा तो वो लहूलुहान हालत में जमीन पर पड़ा था। उसने अपने रायफल से खुद को गोली मार ली थी। जवानों ने इसकी सूचना आला अधिकारियों को दी। मौके पर आला अधिकारी पहुंच