chhattisgarh rojgar logo
Space for Advertisement : +91 8817459893

telegram group   Chhattisgarh Rojgar Facebook Page  Chhattisgarh Rojgar twitter  Chhattisgarh Rojgar Youtube Channel

Tag: bastar

उफनती इंद्रावती नदी के बीच फंसी यात्रियों से भरी मोटर बोट; पांच घंटे के बाद बचाया गया

उफनती इंद्रावती नदी के बीच फंसी यात्रियों से भरी मोटर बोट; पांच घंटे के बाद बचाया गया

chhattisgarh
दंतेवाड़ा (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सोमवार दोपहर उफनती इंद्रावती नदी में यात्रियों से भरी मोटरबोट खराब हो गई। इसके चलते करीब एक दर्जन से ज्यादा यात्री बीच धार में फंस गए। यह सभी यात्री मोटरबोट से नदी पार कर रहे थे। सूचना मिलने पर कलेक्टर और एसपी सहित रेस्क्यू टीम करीब चार घंटे बाद मौके पर पहुंचे। इसके बाद करीब ढाई घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद सभी केा बचा लिया गया है। बीच नदी में चट्‌टान के सहारे हैं यात्री, पांच को बचाया गया https://youtu.be/x5Q0QjsShqM जानकारी के मुताबिक, बारसूर थाना क्षेत्र के मुचनार घाट से सोमवार दोपहर करीब 12.15 बजे तीन बच्चों सहित 24 ग्रामीण मोटरबोट पर नदी पार कर रहे थे। इसी दौरान बीच नदी में अचानक मोटरबोट खराब हो गई। जिसके चलते सब वहीं फंस गए। बोट में फंसे ग्रामीणों ने किसी नदी के बीच में निकली चट्‌टान का सहारा लेकर खुद को बचाए रखा है। सूचना मिलने के
आदिवासियों की जमीन अदला-बदली की प्रक्रिया को हरी झंडी

आदिवासियों की जमीन अदला-बदली की प्रक्रिया को हरी झंडी

chhattisgarh
जगदलपुर (एजेंसी) | सलवा जुडूम के दौरान हिंसक वारदातों और घरों को जलाने की घटनाओं के बाद बस्तर छोड़ चुके आदिवासियों को जमीनी हक दिलाने के लिए चल रही लड़ाई के बीच दिल्ली से एक बड़ी खबर आई है। मंगलवार को पांच राज्यों, गृह मंत्रालय, ट्राइबल मिनिस्ट्री के अफसरों की एक बैठक राष्ट्रीय अनुसूचित जाति जनजाति आयोग के राष्ट्रीय संयुक्त सचिव लेने वाले थे। इसके लिए सुबह 11 बजे का टाईम निर्धारित किया गया था, लेकिन एन वक्त पर गृह मंत्रालय के अफसरों ने किसी कारणवश बैठक में शामिल नहीं होने पाने की सूचना भिजवाई  तो बैठक को स्थगित करने प्लानिंग में काम शुरू हुआ लेकिन इस बीच छत्तीसगढ़ के अफसरों के अलावा सेंट्रल ट्राइबल मिनिस्ट्री के अफसर यहां पहुंच चुके थे। ऐसे में बैठक को स्थगित नहीं किया गया और बैठक जारी रखी गई। बैठक में ट्राइबल मिनिस्ट्री के ज्वाइंट सेक्रेटरी केएस कोनर जो अभी एफआरए के विभाग प्रमुख भी हैं ने
नक्सलियों ने सपा नेता को घर से किया अगवा, हत्या कर शव सड़क पर फेंका

नक्सलियों ने सपा नेता को घर से किया अगवा, हत्या कर शव सड़क पर फेंका

chhattisgarh
बीजापुर (एजेंसी) | सपा नेता संतोष पुनेमा की नक्सलियों ने घर से अगवाकर हत्या कर दी। इसके बाद शव को सड़क पर फेंक दिया। घटना मंगलवार देर शाम की है। संतोष पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में बीजापुर सीट से लड़े थे और हार गए थे। बताया जा रहा है कि क्षेत्र में सड़क निर्माण कार्यों के चलते संतोष नक्सलियों के निशाने पर थे। अभी तक पुलिस शव हासिल नहीं कर पाई बीजापुर एसपी दिव्यांग पटेल ने बताया कि मंगलवार को संतोष अपने पैतृक गांव मरिमल्ला गए थे। देर शाम हथियारबंद नक्सली उनके घर पहुंचे और उन्हें अगवा कर लिया। बुधवार सुबह संतोष का शव सड़क पर फेंक दिया। हालांकि, अभी तक पुलिस और परिजनों को शव नहीं मिल पाया है, क्योंकि जिस जगह यह शव पड़ा है वह दूर-दराज का नक्सल प्रभावित इलाका है। लोकसभा चुनाव से पहले की गई थी मंडावी की हत्या लोकसभा चुनाव से पहले 9 अप्रैल को बस्तर से एकमात्र भाजपा विधायक भीमा मंडावी की
‘नंदराज’ को बचाने के लिए आंदोलन: तीर-धनुष जैसे परंपरागत हथियारों के साथ 200 से ज्यादा गांवों के हजारों आदिवासी तीसरे दिन भी डटे रहे

‘नंदराज’ को बचाने के लिए आंदोलन: तीर-धनुष जैसे परंपरागत हथियारों के साथ 200 से ज्यादा गांवों के हजारों आदिवासी तीसरे दिन भी डटे रहे

chhattisgarh
दंतेवाड़ा (एजेंसी) | नंदराज पहाड़ को बचाने के लिए दंतेवाड़ा और बीजापुर जिले के करीब 200 गांव से आए तीन हजार से ज्यादा आदिवासियों का आंदोलन बैलाडीला में रविवार को तीसरे दिन भी शांतिपूर्वक जारी रहा। ये आदिवासी अपने परंपरागत हथियारों और वाद्ययंत्रों के साथ पहुंचे हैं और चेकपोस्ट को घेरकर नाच-गाने के साथ प्रदर्शन कर रहे हैं। आदिवासी देवताओं का पहाड़ मानकर ‘नंदराज’ की पूजा करते हैं। खनन से पहले काटे जाएंगे 25 हजार पेड़ खनन से पहले काटे जाएंगे 25 हजार पेड़ बैलाडीला की 13 नंबर की खदान नंदराज पहाड़ पर है। पहाड़ तक पहुंचने और खनन शुरू करने के लिए 50 मीटर चौड़ी और छह किमी लंबी सड़क बनेगी। इसके लिए 25,400 पेड़ काटे जाएंगे। राजनेताओं का भी समर्थन मिल रहा है  पूर्व सीएम अजीत जोगी ने आदिवासियों के समर्थन में नंदराज पहाड़ पर पिट्‌टे मेटा  (पिटोड़ रानी) की पूजा की। बस्तर प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विक्रम शाह
#Temple दंतेवाड़ा की माँ दंतेश्वरी, जगदलपुर

#Temple दंतेवाड़ा की माँ दंतेश्वरी, जगदलपुर

tourism
दन्तेश्वरी मंदिर जगदलपुर शहर से लगभग 84 किमी (52 मील) स्थित है। माता दंतेश्वरी का यह मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध एवं पवित्र मंदिर है, यह माँ शक्ति का अवतार है। माना जाता है कि इस मंदिर में कई दिव्य शक्तियां हैं। दशहरा के दौरान हर साल देवी की आराधना करने के लिए आसपास के गांवों और जंगलों से हजारों आदिवासी आते हैं। यह मंदिर जगदलपुर के दक्षिण-पश्चिम में दंतेवाड़ा में स्थित है और यह पवित्र नदियां शंकिणी और डंकिनी के संगम पर स्थित है, यह छह सौ वर्ष पुराना मंदिर भारत की प्राचीन विरासत स्थलों में से एक है और यह मंदिर बस्तर क्षेत्र का सांस्कृतिक-धार्मिक-सामाजिक का प्रतिनिधित्व है। आज का विशाल मंदिर परिसर इतिहास और परंपरा की सदियों से वास्तव में खड़ा स्मारक है। इसके समृद्ध वास्तुशिल्प और मूर्तिकला और इसके जीवंत उत्सव परंपराओं का प्रमाण है। दंतेश्वरी माई मंदिर इस क्षेत्र के लोगों के लिए सबसे महत्वपूर्ण
वोटर सिर्फ 4 और वोटिंग कराने वाले 10, 3 वोटर एक ही परिवार से, चौथा वन विभाग का स्टाफ

वोटर सिर्फ 4 और वोटिंग कराने वाले 10, 3 वोटर एक ही परिवार से, चौथा वन विभाग का स्टाफ

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | पेड़ के पत्तों की झोपड़ी और पंडाल... यह किसी शादी-ब्याह का मंडप नहीं बल्कि कोरिया जिले के सुदूर सेराडांड का मतदान केंद्र है। बूथ की तस्वीर से भी रोचक है यहां की कहानी। दरअसल, इस बूथ में केवल चार मतदाता हैं। कोई मतदाता न छूटे, इसलिए यहां भी बूथ बनाया गया। खास तो यह है कि यहां मतदाताओं से दुगुने यानी करीब 10 लोगों की ड्यूटी लगाई गई है वोटिंग कराने के लिए। 4 मतदानकर्मी और 6 सुरक्षाकर्मी। राज्य की सीमा यानी बलरामपुर के करीब यह गांव भरतपुर-सोनहत विधानसभा का हिस्सा है। यहां केवल एक ही परिवार रहता है। यह प्रदेश का सबसे कम वोटरों वाला बूथ है। शत-प्रतिशत वोटिंग के लिए चुनाव आयोग की कोशिशों का अंदाजा इस बूथ की तैयारियों को देखकर लगाया जा सकता है। दरअसल, सेराडांड में रहने वाले चार वोटरों में से तीन लोग एक ही परिवार के सदस्य हैं। देवराज चेरवा, रामप्रसाद चेरवा, सिंगारो बाई चेरवा। चौथ
नक्सली कनेक्शन: 3 महीने में 6 से ज्यादा छात्र पकड़ाए, इनमें 2 आश्रम में रहकर पढ़ने वाले भी

नक्सली कनेक्शन: 3 महीने में 6 से ज्यादा छात्र पकड़ाए, इनमें 2 आश्रम में रहकर पढ़ने वाले भी

chhattisgarh
दंतेवाड़ा (एजेंसी) | नक्सली अपने कामों के लिए बच्चों का इस्तेमाल कैसे कर रहे हैं इसके कई केस दंतेवाड़ा मंे सामने आ चुके हैं। बीते 3 महीने में 6 से ज्यादा छात्रों का नक्सली कनेक्शन पकड़ा गया है। चौंकाने वाली बात यह है कि इनमें आवासीय संस्थाओं में रहने वाले बच्चे भी शामिल हैं। कुआकोंडा पोटाकेबिन के छात्र को पकड़े जाने के बाद अब पुलिस ने ऐसे मामलों की जांच तेज़ कर दी है। बच्चे के पास से जब्त हुए मोबाइल को सायबर सेल में रखा गया है। अधीक्षक को भी नोटिस दी जाएगी। कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने भास्कर को बताया कि ऐसे मामलों पर रोक लगाने ट्राइबल व शिक्षा विभाग को जरूरी निर्देश दिए हैं। बीईओ, बीआरसी, अधीक्षकों की भी बैठक ली जाएगी। एसपी डॉ अभिषेक पल्लव ने बताया कि नक्सली स्कूल में पढ़ने वाले व ड्रॉप आउट मासूम बच्चों का दुरुपयोग कर रहे हैं। मासूम बच्चों को अपने संगठन में शामिल कर रहे हैं। ऐसे मामलों पर अब स
दंतेवाड़ा-बीजापुर सीमा पर पुलिस-नक्सली मुठभेड़, पांच लाख का इनामी नक्सली ढेर

दंतेवाड़ा-बीजापुर सीमा पर पुलिस-नक्सली मुठभेड़, पांच लाख का इनामी नक्सली ढेर

chhattisgarh
दंतेवाड़ा (एजेंसी) | बीजापुर और दंतेवाड़ा जिलों की सीमा पर पुसवाड़ा में पुलिस-नक्सल मुठभेड़ में 5 लाख का इनामी नक्सली ढेर हो गया। दंतेवाड़ा डीआरजी (डिस्ट्रिक्ट रिजर्व ग्रुप) के जवान मंगलवार को सर्चिंग पर निकले थे। उसी दौरान नक्सलियों से आमना-सामना हो गया। दोनों तरफ से फायरिंग में जवानों को भारी पड़ता देख बाकी नक्सली भाग गए। दंतेवाड़ा एसपी ने घटना की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि 5 लाख का इनामी नक्सली कमलू उर्फ शंकर मुठभेड़ में मारा गया। मौके से एक 9 एमएम पिस्टल भी बरामद हुई है। इलाके में सर्चिंग चल रही है। बलरामपुर में आईईडी ब्लास्ट लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में मंगलवार को सरगुजा लोकसभा के बलरामपुर के चुनचुना में नक्सलियों ने आईईडी ब्लास्ट किया। हालांकि इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ। नक्सली वारदातों को देखते हुए निर्वाचन आयोग ने पहले ही  चुनचुना, पुलदाग पोलिंग बूथ को बंदरचुआ मतदान केंद्र
पालकी ऊपर से गुजरे तो दूर होंगी तकलीफें इसलिए तपती धूप में लेट गए लोग

पालकी ऊपर से गुजरे तो दूर होंगी तकलीफें इसलिए तपती धूप में लेट गए लोग

chhattisgarh
नकुलनार (एजेंसी) | ये तस्वीर कुआकोंडा के पुजारीपारा मेले की है। यहां आने वालों का विश्वास है कि लच्छनदेई की पालकी अगर उनके ऊपर से गुजर जाए तो सारी बीमारियां दूर हो जाती हैं। पालकी के रास्ते पर तपती धूप में सैकड़ों लोग ऐसे लेट जाते हैं। पुजारी लक्ष्मीनाथ ने बताया कि माता की पालकी साल में एक बार मेले के दिन ही निकलती है। मेले में 84 गांव के देव विग्रह आते हैं। मेले में नहीं आने पर गांव को जुर्माना भी देना पड़ता है।
गोलानाले पर बनी पुलिया तोड़ डाली नक्सलियों ने, सड़क भी तीन जगह से काटी; जवान पर हमला रायफल लूटकर भागे

गोलानाले पर बनी पुलिया तोड़ डाली नक्सलियों ने, सड़क भी तीन जगह से काटी; जवान पर हमला रायफल लूटकर भागे

chhattisgarh
बस्तर (एजेंसी) | पोटाली ,बुरगुम, नीलावाया तक पहुंचने वाली एक मात्र सड़क को भी नक्सलियों ने तीन स्थानों पर काट दिया है। पुलिया को तोड़ दिया है।  नक्सलियों द्वारा किए गए इस काम के चलते इन गांवों तक चार पहिया वाहनों की आवाजाही नहीं हो पाएगी । इसके अलावा  बुरगुम, पोटाली, नीलावाया , काकड़ी, नहाडी, रेवाली सहित सुकमा जिले के नागलगुड़ा, पोडदेंम, गोन्डेरास, चिरमुर जैसे 20 से अधिक गांव के लोगो को अपनी हफ्ते भर की जरूरत पूरा करने शुक्रवार को लगने वाले पालनार बाजार पर निर्भर होना पड़ेगा। इन गांवों से पालनार की दूरी 30 - 50 किलोमीटर है। कैंप खुला, बौखलाए नक्सलियों ने पुलिया तोड़ी ग्रामीणों ने बताया कि नक्सलियों ने यह काम पोटाली में कैंप खोले जाने की खबर के बाद किया है। अभी हाल ही में जगदलपुर के बीहड़ गॉंव पोटली में पुलिस का कैम्प खुला है। सम्भवतः नक्सलियों ने बौखलाहट में गांव वालो और पुलिस को परेशान करने