chhattisgarh news media & rojgar logo

US Open 2018: सेरेना ने लगाया नस्ल भेद का आरोप, WTA-अमेरिकी टेनिस संघ भी समर्थन में

न्यू यॉर्क (एजेंसी) | सेरेना ने यूएस ओपन फाइनल में महिला खिलाड़ियों के साथ भेदभाव का आरोप लगाया था। उनके समर्थन में महिला टेनिस संघ (डब्ल्यूटीए) और अमेरिकी टेनिस संघ (यूएसटीए) भी आ गया है। डब्ल्यूटीए ने कहा, ‘पुरुष और महिलाओं के साथ एक समान व्यवहार होना चाहिए। यूएस ओपन के फाइनल में ऐसा नहीं किया गया।’ यूएसटीए ने कहा पुरुष खिलाड़ी भी गलतियां करते हैं। फिर भी उन्हें कठोर सजा नहीं दी जाती है।






सेरेना ने चेयर अंपायर को कहा- ‘चोर

सेरेना विलियम्स तीन दिन पहले जापान की नाओमी ओसाका से यूएस ओपन का फाइनल हार गई थीं। मैच के दौरान चेयर अंपायर कार्लोस रामोस ने बॉक्स से कोचिंग लेने के कारण सेरेना को चेतावनी दी थी। सेरेना ने इस पर अंपायर से लंबी बहस की थी। अमेरिकी खिलाड़ी ने मैच के बाद अंपायर को चोर’ और ‘झूठा’ तक कह दिया था। मैच हरने के बाद अपना रैकेट भी तोड़ दिया था। इसके बाद यूएस ओपन के आयोजकों ने सेरेना पर टेनिस नियमों के उल्लंघन के लिए 17,000 डॉलर का जुर्माना लगाया था।

सेरेना विलियम्स ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में अंपायर पर लैंगिकवाद (सेक्सिट) का आरोप लगाया था। अमेरिका की दिग्गज खिलाड़ी ने कहा कि उन्होंने पुरुष खिलाड़ियों को अंपायरों को ‘बहुत कुछ’ कहते सुना है, लेकिन उन्हें इस व्यवहार के लिए कभी भी दंडित नहीं किया गया।

अमेरिकी ओपन के फाइनल में खेलने के लिए सेरेना को 18.5 लाख डॉलर की राशि मिली है। उन पर लगा जुर्माना इसी राशि से निकाला जाएगा।




Leave a Reply