Shadow

special

ऑनलाईन शिक्षा पोर्टल में नया स्तंभ ‘हमारे नायक’ : स्कूली बच्चों में मौलिक लेखन और सृजनात्मक क्षमता बढ़ाने नयी पहल

ऑनलाईन शिक्षा पोर्टल में नया स्तंभ ‘हमारे नायक’ : स्कूली बच्चों में मौलिक लेखन और सृजनात्मक क्षमता बढ़ाने नयी पहल

chhattisgarh, Govt Schemes, News, special
रायपुर। स्कूली बच्चों में मौलिक लेखन और सृजनात्मक क्षमता के विकास के लिए नयी पहल की जा रही है। लॉकडाउन के दौरान स्कूली बच्चों की नियमित पढ़ाई के लिए शुरू किए गए ऑनलाईन पोर्टल ‘पढ़ई तुंहर दुआर’ में एक नया स्तंभ शुरू किया गया है। हमारे नायक नाम से शुरू किए गए स्तंभ प्रतिदिन स्कूली बच्चों की स्व-रचित मौलिक कहानियों का प्रकाशन किया जा रहा है। इससे बच्चों में जहां सृजनात्मक क्षमता को बढ़ावा मिल रहा है। वहीं वे दिन-प्रतिदिन इस वेबसाईट से जुड़कर नयी-नयी चीजें सीख रहे हैं। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. टेकाम ने गरियाबंद की छात्रा से की दूरभाष पर चर्चा स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम भी इस पोर्टल के द्वारा दी जा रही ऑनलाईन शिक्षा की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। आज सुबह उन्होंने पोर्टल पर जाकर शीतल राजपूत की कहानी पढ़ी और छात्रा से दूरभाष पर चर्चा की। अचानक मंत्री द्वारा फोन पर सीधे बात करने की ...
लॉकडाउन में मनरेगा बना श्रमिकों का सहारा : जिले के 1.06 लाख श्रमिकों को मिल रहा रोजगार

लॉकडाउन में मनरेगा बना श्रमिकों का सहारा : जिले के 1.06 लाख श्रमिकों को मिल रहा रोजगार

chhattisgarh, Govt Schemes, News, special
रायपुर. कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए लॉकडाउन में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के गरियाबंद जिले में प्रतिदिन एक लाख 6 श्रमिकों को काम मिल रहा है । मजदूरों को गांव में रोजगार उपलब्ध कराने में सबसे बड़ी भूमिका अदा करने वाली योजना मनरेगा के तहत आज जिला गरियाबंद के 313 ग्राम पंचायतों में चल रहे एक हजार 882 कार्यों में एक लाख 6 हजार 856 श्रमिक कार्यरत है, जिला गठन के बाद पहली बार एक ही दिन में एक लाख से अधिक मजदूर कार्य कर रहे हैं। कार्य स्थल में सोशल डिस्टेंसिंग और एक मीटर की दूरी के नियमों का पालन भी किया जा रहा है। कोरोना के संकट में शासन द्वारा मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराना प्रदेश सरकार के प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा दिये गये निर्देश के अनुरूप जिले में रोजगार का सृजन किया जा रहा है। इससे मजदूरों को काम के साथ-साथ आमदनी भी मिल रहा है।...
रायपुर : दालभात और हरी सब्जियों से महक जाता है क्वारेंटीन सेंटर, नियमित योग करना श्रमिकों की दिनचर्या में शामिल

रायपुर : दालभात और हरी सब्जियों से महक जाता है क्वारेंटीन सेंटर, नियमित योग करना श्रमिकों की दिनचर्या में शामिल

chhattisgarh, Govt Schemes, News, special
रायपुर। राज्य सरकार एवं स्वास्थ्य विभाग की एडवाइजरी के अनुसार कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं इससे बचाव को ध्यान में रखते हुए अन्य राज्यों से अथवा रेड जोन वाले क्षेत्रों से लौट रहे श्रमिकों के लिए उनके गृह ग्राम के समीप बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटरों में 14 दिनों के लिए क्वारंटीन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार प्रवासी श्रमिकों की  देखभाल एवं अन्य आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए ग्राम पंचायत सचिव, पटवारी, महिला स्व-सहायता समूह आदि को तैनात किया गया है। इनकी मॉनिटरिंग के लिए तहसील स्तर पर तहसीलदार, विकासखण्ड स्तर पर जनपद सीईओ और अनुविभाग स्तर पर संबंधित अनुविभाग के एसडीएम को जिम्मेदारी दी गयी है। जांजगीर-चांपा जिले के चांपा अनुविभाग के ग्राम सिलादेही हाई स्कूल में 65 श्रमिकों को क्वारंटीन किया गया है। यहां सुबह  चाय के साथ नाश्ता और दोपहर व रात को भोजन दिया जाता है। ...
छत्तीसगढ़ में प्रवासी श्रमिकों के लिए 19 हजार 216 क्वारेंटाईन सेंटर संचालित

छत्तीसगढ़ में प्रवासी श्रमिकों के लिए 19 हजार 216 क्वारेंटाईन सेंटर संचालित

chhattisgarh, News, special
रायपुर। कोरोना संक्रमण एवं लॉकडाउन के कारण अन्य राज्यों से छत्तीसगढ़ लौटे श्रमिकों के लिए राज्य के सभी जिला मुख्यालयों से लेकर ग्राम पंचायत स्तर तक उन्हें ठहराने एवं उनके भोजन, पेयजल आदि के निःशुल्क व्यवस्था के लिए कुल 19 हजार 216 क्वारेंटाइन सेंटर संचालित किए जा रहे हैं। इन क्वारेंटाइन सेंटरों में वर्तमान में 2 लाख 3 हजार 581 श्रमिक एवं परिवार के लोग ठहरे हुए हैं। राज्य में स्थापित क्वारेंटीन सेंटरों की कुल क्षमता 7 लाख 6 हजार 416 है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप क्वारेंटाइन सेंटर में ठहरे श्रमिकों के भोजन, पेयजल, चिकित्सा आदि का बेहतर प्रबंध प्रशासन द्वारा सुनिश्चित किया गया है। क्वारेंटाइन सेंटर में मनोरंजन के लिए टीवी, रेडियो की व्यवस्था के साथ ही वहां योगा एवं खेलकूद की गतिविधियां भी संचालित की जा रही है। कई क्वारेंटीन सेंटर में श्रमिकों के बच्चों की शिक्षा के ल...

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : छत्तीसगढ़ से गुजरने वाली स्पेशल ट्रेनों में प्रवासी श्रमिकों के लिए बिस्किट और पानी के पाउच की होगी व्यवस्था :

chhattisgarh, Govt Schemes, News, special
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ से होकर गुजरने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के राज्य में ठहरने वाले स्टेशनों में प्रवासी श्रमिकों के लिए बिस्किट और पानी पाउच की समुचित व्यवस्था की जाएगी। मुख्यमंत्री ने इसके लिए रायपुर, बिलासपुर, राजनांदगांव, जांजगीर-चांपा और रायगढ़ कलेक्टर को निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि लॉकडाउन के कारण प्रवासी श्रमिकों के लिए रेल्वे स्टेशनों में भोजन-पानी की कोई व्यवस्था नही है और न ही वो ट्रेनों से उतर पा रहे है। ऐसी स्थिति में उन्हें बिस्किट और पानी के पाउच आदि मुहैया कराने से काफी राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री ने रायपुर, बिलासपुर, राजनांदगांव, जांजगीर-चांपा और रायगढ़ कलेक्टर को दिए निर्देश मुख्यमंत्री श्री बघेल ने जिला कलेक्टरों से कहा है कि अन्य राज्यों में फंसे प्रवासी श्रमिकों की उनके गृह राज्यों में वापसी के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन च...
राजीव गांधी किसान न्याय योजना : किसान दुखुत राम को पहली किश्त में मिली एक लाख रूपए की राशि

राजीव गांधी किसान न्याय योजना : किसान दुखुत राम को पहली किश्त में मिली एक लाख रूपए की राशि

chhattisgarh, Govt Schemes, News, special
राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत दुर्ग जिले के ग्राम मतवारी निवासी 93 वर्षीय किसान श्री दुखुत राम साहू को पहली किश्त के रूप में एक लाख रूपए मिलने पर उन्होंने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और राज्य सरकार के प्रति आभार जताया। श्री दुखुत राम साहू ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने किसानों के दर्द को समझा और किसानों को मजबूत बनाने के लिए किसानों के लिए योजना बनाकर अपना वादा पूरा किया। ज्ञात हो कि किसान श्री दुखुत राम साहू 26 मई शाम को मुख्यमंत्री निवास में श्री बघेल से मिलकर उन्हें आशीर्वाद देते हुए प्रदेश के किसानों के हित में राजीव गांधी किसान न्याय योजना लाने के लिए धन्यवाद दिया। किसान श्री दुखुत राम साहू ने मुख्यमंत्री के प्रति जताया आभार किसान श्री दुखुत राम साहू दुर्ग जिले के किसानों के साथ राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत मिले पहली किश्त की राशि में से प्रति क्विंटल 50...
राजनांदगांव जिले में टिड्डी दल आने की सम्भावना : प्रकोप से बचाने जिला स्तरीय दल गठित

राजनांदगांव जिले में टिड्डी दल आने की सम्भावना : प्रकोप से बचाने जिला स्तरीय दल गठित

chhattisgarh, News, special
राजनांदगांव. जिले में लाखों की संख्या में टिड्डियों का समूह दो दिन बाद आने की संभावना व्यक्त की जा रही है। टिड्डी दल वर्तमान में अमरावती (महाराष्ट्र) व मंडला (मध्यप्रदेश) में आमद दर्ज हो गई है। गौरतलब है कि टिड्डी दल के संभावित हमले को लेकर प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। किसानों के फसलों को टिड्डी दल के हमले से बचाने का उपाय भी बताए जा रहे है। टिड्डी दल के हमले से बचाने के लिए कृषि वैज्ञानिक सलाह दे रहे है। राजनांदगांव जिले में टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव के लिए कलेक्टर ने जिला स्तरीय दल का गठन किया है।  कृषि विभाग के उप संचालक ने बताया कि टिड्डी दल नियंत्रण के लिए किसान दो प्रकार के साधन अपना सकते है। इसमें भौतिक साधन द्वारा किसान टोली बनाकर विभिन्न प्रकार के परम्परागत उपयोग शोर मचाकर, ध्यनि वाले यंत्रों को बजाकर, डराकर भगाया जा सकता है। इसके लिए ढोलक, ट्रैक्टर, मोटर साइकल का साईलें...
रायपुर : मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न पंडित जवाहर लाल नेहरू की पुण्यतिथि पर उन्हें किया नमन

रायपुर : मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न पंडित जवाहर लाल नेहरू की पुण्यतिथि पर उन्हें किया नमन

chhattisgarh, News, special
रायपुर. मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने देश के पहले प्रधानमंत्री,भारत रत्न पंडित जवाहर लाल नेहरू की पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए नमन किया है। श्री बघेल ने पंडित नेहरू की 56 वीं पुण्यतिथि की पूर्व संध्या पर जारी अपने संदेश में कहा है कि पंडित नेहरू भारत भूमि के अनमोल रत्न थे, जिन्होंने देश की स्वाधीनता से लेकर इसके नवनिर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि पंडित नेहरू जन-जन के प्रिय नेता रहे हैं। आज भी भारतवासियों के दिल-दिमाग में उनके व्यक्तित्व और कृतित्व की अमिट छाप अंकित है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पं. नेहरू ने देश के विकास के लिए लोकतंत्र को अपना मूलमंत्र बनाया और भारत को एक मजबूत आधार दिया। सामाजिक अधोसंरचना से लेकर सड़क, बिजली, पानी, रेलवे, विमानन जैसी भौतिक अधोसंरचना के विकास के लिए उनके योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता। भिलाई स्टील प्लांट छत्तीसगढ़ को पं. नेहरू की ...
मुख्यमंत्री ने राजभवन पहुंच कर झीरम श्रद्धांजलि दिवस पर शहीदों को दी गई विनम्र श्रद्धांजलि, विभागों में शपथ ली गयी

मुख्यमंत्री ने राजभवन पहुंच कर झीरम श्रद्धांजलि दिवस पर शहीदों को दी गई विनम्र श्रद्धांजलि, विभागों में शपथ ली गयी

chhattisgarh, News, special
रायपुर। आज 25 मई को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा 'झीरम श्रद्धांजलि दिवस' की घोषणा गयी थी, झीरम घाटी काण्ड में शहिद हुए कांग्रेस के शहीद नेताओ को याद किया गया। मुख्यमंत्री ने राजभवन पहुंच कर 'झीरम श्रद्धांजलि दिवस' पर शहीदों को दी गई विनम्र श्रद्धांजलि एवं श्रद्वा सुमन अर्पित की। उन्होंने बस्तर विश्वविद्यालय का नामकरण अब मशहूर वरिष्ठ नेता शहीद स्वर्गीय श्री महेंद्र कर्मा के नाम पर घोषणा की, स्वर्गीय श्री महेंद्र कर्मा को बस्तर टाइगर के नाम से भी जाना जाता था। आज #झीरम_श्रद्धांजलि_दिवस के अवसर पर राजीव भवन पहुँचकर झीरम घाटी दुर्घटना में शहीदों को याद करते हुए उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। बस्तर विश्वविद्यालय का नामकरण अब बस्तर टाइगर के नाम से मशहूर हम सबके वरिष्ठ नेता शहीद स्वर्गीय श्री महेंद्र कर्मा के नाम पर किया जाएगा। pic.twitter.com/zzZ2pfRNUR — Bhupesh Baghel (@bhupe...
रायपुर : देश भर में हुए वनोपज संग्रहण में छत्तीसगढ़ की सर्वाधिक भागीदारी, वनवासियों को होगी 2500 करोड़ की आमदनी

रायपुर : देश भर में हुए वनोपज संग्रहण में छत्तीसगढ़ की सर्वाधिक भागीदारी, वनवासियों को होगी 2500 करोड़ की आमदनी

business, chhattisgarh, News, special
रायपुर. वनों को सहेजने में छत्तीसगढ राज्य आज पूरे़ देश में अग्रणी है। कोरोना काल में लॉकडाउन के दौरान जहां पूरे देश में वन आधारित आर्थिक गतिविधियां जहां ठप रहीं, वहीं मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ ने इस दौरान अच्छी उपलब्धि हासिल की। लॉकडाउन के दौरान देशभर में हुए वनोपज संग्रहण में छत्तीसगढ़ की सर्वाधिक भागीदारी रही। वहीं, इस कार्य से वनवासियों को सलाना लगभग 2500 करोड़ की आय होने की संभावना है। ट्राईफेड से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार प्रदेश में अब तक एक लाख क्विंटल वनोपजों का संग्रहण हो चुका है, जिसके लिए संग्राहकों को लगभग 30 करोड़ 20 लाख रुपए का भुगतान किया गया है। जहाँ कोरोना वायरस महामारी ने सारी दुनिया की अर्थव्यवस्था को ध्वस्त कर दिया है, ऐसे समय में छत्तीसगढ़ में आदिवासी वनोपजों के संग्रहण से जीवकोपार्जन के साथ-साथ प्रदेश की अर्थव्यवस्था को भी गतिमान बनाये हुए हैं।...