chhattisgarh news media & rojgar logo

एपीजे अब्दुल कलाम जन्मदिन विशेष: सपने वो होते हैं जो आपको सोने नहीं देते, पढ़िए डॉ. कलाम की बाते जो आपको प्रेरणा देगी

भारत देश के 11वें राष्ट्रपति मिसाइल मैन डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम का आज (15 अक्टूबर) को जन्मदिन है। डॉ. कलाम वर्ष 2002 में भारत के 11वें राष्ट्रपति चुने गए थे। उनका जन्म 15 अक्टूबर 1931 को हुआ और 27 जुलाई साल 2015 को डॉ.कलाम ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। डॉ.कलाम के कहे हुए बोल आज भी प्रेरणादायी हैं। एक मछुआरे के बेटे का दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का राष्ट्रपति बन जाना यूं ही नहीं हुआ। वे जीवन के कड़े संघर्ष और अपनी सकारात्मक को लिए आगे बढ़ते रहे और लोगों को भी इसी सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ने के प्रेरणा देते है।




डॉ कलाम हमेशा अपने सपनों पर विश्वास करने की बात कहते थे। उन्हें अपने सपनों पर भरोसा था शायद इसीलिए जीवन में विपरीत परिस्थितियों के होते हुए भी वह उस शिखर तक पहुंचे, जहां तक पहुंचने वाले दुनिया में कम ही शख्स होते हैं।  पढ़िए डॉ कलाम द्वारा कही गई वो अहम बातें जो हमें आज भी आगे बढ़ने की प्रेरणा देती हैं।

1 ”जिस तरह मेरी नियति ने आकार ग्रहण किया उससे किसी ऐसे गरीब बच्चे को सांत्वना अवश्य मिलेगी जो किसी छोटी सी जगह पर सुविधाहीन सामजिक दशाओं में रह रहा हो”

2 ”यदि आप विकास चाहते हैं तो देश में शांति की स्थिति होना आवश्यक है”

3 ”सपने वो नहीं होते जो आप सोने के बाद देखते हैं, सपने वो होते हैं जो आपको सोने नहीं देते .”

4 ”सबके जीवन में दुख आते हैं, बस इन दुखों में सबके धैर्य की परीक्षा ली जाती है.”

5 ”जीवन में सुख का अनुभव तभी प्राप्त होता है जब इन सुखों को कठिनाईओं से प्राप्त किया जाता है.”

6 ”शिखर तक पहुंचने के लिए ताकत चाहिए होती है, चाहे वह माउन्ट एवरेस्ट का शिखर हो या कोई दूसरा लक्ष्य”

‘7 ‘अगर हमें अपने सफलता के रास्ते पर निराशा हाथ लगती है इसका मतलब यह नहीं है कि हम कोशिश करना छोड़ दें क्योंकि हर निराशा और असफलता के पीछे ही सफलता छिपी होती है”

8 ”इंतजार करने वालों को केवल उतना ही मिलता है, जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते हैं”‘

9 ”सबके जीवन में दुख आते हैं, बस इन दुखों में सबके धैर्य की परीक्षा ली जाती है.”

10.”देश का सबसे अच्छा दिमाग क्लासरूम के आखिरी बेंचों पर मिल सकता है”



Leave a Reply