chhattisgarh rojgar logo
telegram group   Chhattisgarh Rojgar Facebook Page  Chhattisgarh Rojgar twitter  Chhattisgarh Rojgar Youtube Channel

special

Amazon Great Indian Festival 2019: इस नवरात्री पाइये स्मार्टफोन्स पर 40%, TV पर 75% तक की छूट और भी बहुत कुछ, जानिए कैसे

Amazon Great Indian Festival 2019: इस नवरात्री पाइये स्मार्टफोन्स पर 40%, TV पर 75% तक की छूट और भी बहुत कुछ, जानिए कैसे

special
ई-कॉमर्स साइट ऐमजॉन की Great Indian Festival सेल इस बार नवरात्री के अवसर पर 29 सितंबर को आधी रात से शुरू होने जा रही है। यह सेल 4 अक्टूबर तक चलेगी। वही, ऐमजॉन के प्राइम मेंबर्स के लिए 28 सितंबर को दोपहर 12 बजे से ही सेल में खरीदारी कर सकेंगे। ऐमजॉन की सेल में स्मार्टफोन्स, टेलिविजन, होम ऐंड किचन प्रॉडक्शन, फैशन और कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स प्रॉडक्ट्स पर शानदार डील्स मिलेंगी। इसके साथ ही SBI के डेबिट और क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करने वाले कस्टमर्स को 10% का इंस्टैंट डिस्काउंट मिलेगा। तो आइए जानते हैं कि ऐमजॉन की ग्रेट इंडियन फेस्टिवल सेल में किस कैटिगरी के प्रॉडक्ट्स पर कितना डिस्काउंट मिलेगा। अमेज़न ऐप को यहाँ से डाउनलोड करे और जीत सकते है 5 लाख रूपये: यहाँ क्लिक करे आप अमेज़न ऐप डाउनलोड करके 5 लाख रूपये के इनाम जित सकते है। इस प्रतियोगिता भाग लेने के लिए आपको अमेज़न ऐप डाउनलोड करना
विशेष: देश में बेरोजगारी चरम पर, केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार का युवाओं को अयोग्य कहना शर्मनाक

विशेष: देश में बेरोजगारी चरम पर, केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार का युवाओं को अयोग्य कहना शर्मनाक

News, special
विगत महीनों से देश में नई सरकारी भर्तियां कम प्रकाशित हो रही. देश स्तर में आई आर्थिक मंदी इसकी प्रमुख वजह हो सकती नए संस्थान जैसे बैंकिंग, फाइनेंस, इन्शुरन्स इत्यादि भी अपना विस्तार जमीनी स्तर पर नहीं कर रहे है. भारत सरकार भी रोजगार हेतु चल रहे कार्यकर्मो में इतनी रूचि नहीं दिखा रही है. आखिर सरकारी रोजगार भर्ती सूचनाएं चुनावी साल में ही क्यों जारी होती है, जारी भी होती है तो सरकार बदल जाने पर निरस्त कर दी जाती है, अथवा सिलेक्शन परिणाम को काफी दिनों तक विलम्बित कर दिया जाता है. राजनीतिक पार्टियों की महत्वाकांक्षा में आज के बेरोजगार युवा पिछड़ रहे है. भारत सरकार द्वारा संचालित तमाम स्वरोजगार एवं प्रशिक्षण योजनाएं युवाओं को वो मुकाम नहीं दे पा रही, उल्टा उनपे बैंक से  लिए क़र्ज़ का भोझ डाल रही है. गौर करने वाली बात है, एक युवा को आप किसी भी ट्रेंड में प्रशिक्षण दे सकते है, पर एक दूकान
शिक्षक दिवस विशेष: 85 साल की पुष्पा 22 साल से गरीब बच्चों को निशुल्क दे रहीं हैं शिक्षा, ताकि उनकी पढ़ाई न रुके

शिक्षक दिवस विशेष: 85 साल की पुष्पा 22 साल से गरीब बच्चों को निशुल्क दे रहीं हैं शिक्षा, ताकि उनकी पढ़ाई न रुके

News, special
बिलासपुर (एजेंसी) | रिटायरमेंट के बाद अमूमन लोग अपनी बची हुई उम्र घर परिवार के मोह में समर्पित करते हैं। कुछ ऐसे हैं, जो दूसरों के लिए जीते हैं। इनमें से एक हैं बिलासपुर की पुष्पा मेहता। 63 साल तक बच्चों को पढ़ाने के बाद भी इनकी पढ़ाने की भूख समाप्त नहीं हुई। इस समय राष्ट्रीय पाठशाला में प्रबंध संचालक हैं। साथ में बच्चों को हिंदी का पाठ भी पढ़ा रही हैं। वे ऐसा इसलिए कर रही हैं कि उनके जीते जी गरीब बच्चे पढ़ाई से वंचित न होने पाएं। वेतन नाममात्र का, इसलिए शिक्षकों को यहां पढ़ाना पसंद नहीं विद्या नगर में रहने वाली पुष्पा 85 साल की हैं। 30 अप्रैल 1997 को वे रिटायर हुईं थीं। इसके बाद भी वे 22 साल से गरीब बच्चों के बीच पांच घंटे रहती हैं। कम सुनाई देता है बावजूद इसके वे बच्चों के मन को सुन लेती हैं। बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने का उद्देश्य है कि गरीब बच्चों की पढ़ाई न रुके। क्योंकि राष्ट्रीय
व्यक्ति विशेष: छत्तीसगढ़ की बेटी ने देश का किया नाम रोशन, वर्ल्ड योग फ़ेस्टिवल में जीते मेडल

व्यक्ति विशेष: छत्तीसगढ़ की बेटी ने देश का किया नाम रोशन, वर्ल्ड योग फ़ेस्टिवल में जीते मेडल

special
कहते है ना कि पूत के पांव पालने में ही दिखने लगते है। एक मजदुर पिता ने अपनी बेटी की प्रतिभा को न सिर्फ पहचाना बल्कि उसे आगे उड़ने के लिए पंख भी दिए। छत्तीसगढ़ प्रदेश के योग की ब्रांड एम्बेसडर दामनी साहू ने बुल्गारिया में आयोजित वर्ल्ड योग फ़ेस्टिवल में दो सिल्वर मेडल जीतकर छत्तीसगढ़ का नाम रोशन किया है। 16 देशो के खिलाड़ियों ने लिया था भाग  हाल ही में 28 से 30 जून के बीच बुल्गारिया में संपन्न हुए विश्व योग समारोह में योग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। जिसमे हिस्सा लेने दामिनी यहां पहुंची थी। 7 कैटेगिरी में हुई इस प्रतियोगिता में चीन, न्यूजीलैंड, इंग्लैंड सहित 16 देशों के खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था।भारत से 19 खिलाड़ियों ने इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था। जिसमे छत्तीसगढ़ से तीन खिलाड़ी शामिल हुए थे। कोच संतोष आनंद राजपूत के मार्गदर्शन में इन सभी खिलाड़ियों ने विदेशों में नाम रोशन
व्यक्ति विशेष: हीरारतन थवाईत, जिन्होंने अकेले ही नदी तट पर 7 एकड़ बंजर जमीन को 5 सौ पौधे रोप कर बना दिया हराभरा

व्यक्ति विशेष: हीरारतन थवाईत, जिन्होंने अकेले ही नदी तट पर 7 एकड़ बंजर जमीन को 5 सौ पौधे रोप कर बना दिया हराभरा

special
कसडोल (एजेंसी) | मैं दुनिया बदल सकता हूं मुहावरे को ग्राम कटगी में एक गरीब किसान ने चरितार्थ कर दिया है। उन्होंने गांव में हरियाली ही हरियाली ला दी है। उन्होंने नदी तक के डुबान क्षेत्र में बंजर पड़ी 7 एकड़ जमीन पर लगाए हैं 5 सौ पौधे, जिसमें 20 दिन से 20 साल उम्र के पेड़ शामिल हैं। पर्यावरण तो शुद्ध हुआ ही है। इस एरिया को देखने में मन बाग-बाग हो जाता है। उस व्यक्ति की जितनी प्रंशसा की जाए कम है। कसडोल से गिधौरी मुख्य मार्ग में 12 किमी दूरी पर जोक नदीं के तट पर बसा ग्राम कटगी है, जिसकी आबादी लगभग 4 हजार है। इसी गांव गरीब किसान 64 साल के हीरारतन थवाईत 20-25 सालों से लगातार पौधरोपण कर रहे हैं। उन्होंने जोक नदी एवं कटगी बस्ती के बीच बाढ़ आने पर डुबान क्षेत्र नदी किनारे पौधरोपण कर हरियाली ला दी है, जिसे देखकर मन आनंदित हो उठता है। 25 सालों में 500 पौधे रोपे शुरुआत में कुछ बबूल के बीज छिड़क
व्यक्ति विशेष: जेल में रह रही 6 साल की मासूम का स्कूल में दाखिला कराकर, कलेक्टर ने पेश की इंसानियत की मिसाल

व्यक्ति विशेष: जेल में रह रही 6 साल की मासूम का स्कूल में दाखिला कराकर, कलेक्टर ने पेश की इंसानियत की मिसाल

chhattisgarh, special
बिलासपुर (एजेंसी) | बिलासपुर के जिला कलेक्टर डॉ. संजय कुमार अलंग ने 6 वर्षीय ख़ुशी (बदला हुआ नाम) का स्कूल में दाखिला कराकर उसे नई जिंदगी दी और इंसानियत की एक मिसाल पेश की। बीते दिनों, जब बिलासपुर के कलेक्टर डॉ. संजय अलंग ने जेल का दौरा किया, तो उनकी मुलाक़ात इस बच्ची से हुई। ख़ुशी ने उन्हें बताया कि वह जेल की चारदीवारी से बाहर निकलकर पढ़ना चाहती है। बाकी बच्चों की तरह बाहर के स्कूल में जाना चाहती है। शिक्षा के प्रति इस बच्ची का लगाव देखकर, आईएएस अफ़सर डॉ. संजय अलंग ने इस बारे में कुछ करने की ठानी। उन्होंने जेल के अधिकारियों से बात करके शहर के किसी अच्छे स्कूल में ख़ुशी का दाखिला करवाने का फ़ैसला किया। महज छह साल की ख़ुशी जेल की सलाखों के पीछे रहने के लिए इसलिए मजबूर है क्यूँकि उसके पिता यहाँ पर सजा काट रहे हैं। ख़ुशी की माँ का देहांत उसके जन्म के कुछ समय बाद ही हो गया था। घर में कोई और नहीं
225 साल बाद भी चार मंजिला इस बावली के दो मंजिल पानी में डूबे हुए हैं, राजस्थान की तर्ज पर किया निर्माण

225 साल बाद भी चार मंजिला इस बावली के दो मंजिल पानी में डूबे हुए हैं, राजस्थान की तर्ज पर किया निर्माण

special
कवर्धा (एजेंसी)| रियासत काल में यहां राजस्थान की तर्ज पर बावली बना है। 225 साल बाद भी चार मंजिला इस बावली का दो मंजिला पानी में डूबा हुआ है। इसके बावजूद पानी का प्रभाव इनके कमरों पर नहीं पड़ता। बहुकोणीय आकृति में बने इस बावली में 8 कमरे हैं, जहां रियासती दौर में राजा- रानी विश्राम किया करते थे। स्थानीय लोगों ने इस बावली को कभी सूखते हुए नहीं देखा निर्माण के समय जलस्रोतों का अध्ययन करने के बाद यहां खोदाई कर बावली बनवाया गया था। इसमें आज भी पानी मौजूद है। पुराने समय में बावली के पानी का उपयोग सिंचाई, पेयजल और फव्वारों में किया जाता था। आज भी इसके पानी का उपयोग सिंचाई में होता है। राजमहल के पास मौजूद बावली खंडहर में तब्दील राजमहल के पास एक अन्य बावली मौजूद है, जिसे रानी बावली के नाम से जानते हैं। देखरेख के अभाव में यह बावली उजाड़ हो चुका है। राजघराने के खड्गराज सिंह इस बावली को संरक्षित
लैलूंगा का दशहरी आम बना खास, महाराष्ट्र से आ रही डिमांड, कमाई से महिलाएं बनीं आत्मनिर्भर

लैलूंगा का दशहरी आम बना खास, महाराष्ट्र से आ रही डिमांड, कमाई से महिलाएं बनीं आत्मनिर्भर

special
रायगढ़ (एजेंसी) | कोड़ासिया और गमेकेला की महिलाओं ने जिले में अलग पहचान बना ली है। पारंपरिक खेती और मजदूरी छोड़कर महिलाओं ने आम का बगीचा लगाया था। 'आम' ने इन महिलाओं को खास बना दिया। इनकी मेहनत का परिणाम अब दूसरों को भी प्रोत्साहित कर रहा है। लैलूंगा ब्लॉक की महिलाएं काजू के साथ ही अब दशहरी आम का उत्पादन कर रही हैं। खास बात कि इन आमों की मांग पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र से भी आने लगी है। इसके चलते महिलाएं अब आत्मनिर्भर बनने लगी हैं। 30 पौधे लगाए, अब एक पेड़ से 30 से 50 किलो आम की पैदावार महिलाओं ने 10 साल पहले छह एकड़ में 30 दशहरी आम और 25 काजू के पौधे लगाए थे। अब इनसे उत्पादन शुरू हो गया है। एक पेड़ में 30 से 50 किलो तक आम का उत्पादन हो रहा है। इससे अब हर साल एक महिला की 35 से 40 हजार तक की कमाई हो जाती है। महिलाएं आम पत्थलगांव के बाजार में बेचती हैं लेकिन महाराष्ट्र से भी डिमांड आती है। इस साल
पढ़ाई के लिए अखबार बांटा, दुकान में काम कर मजदूर का बेटा 10वीं में ले आया 90.33 % अंक

पढ़ाई के लिए अखबार बांटा, दुकान में काम कर मजदूर का बेटा 10वीं में ले आया 90.33 % अंक

special
बिलासपुर (एजेंसी) | ये दो तस्वीरें हैं, उन दो बच्चों के पढ़ने का हौंसले की। दोनों बच्चो के घरों की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। माता-पिता मजदूर हैं। दोनों बच्चो ने कक्षा चौथी से किराना दुकान में काम करना शुरू कर दिया। कभी दूसरों के घरेलू काम, न्यूज पेपर बांटा और इसी तरह के कामों से खुद की पढ़ाई का खर्च उठाया। ये हौसले की कहने है शंकर और शिवम् की। शंकर ने कक्षा 10वीं में 90.33 फीसदी और शिवम सिंगरौले ने 85 फीसदी अंक हासिल कर माता-पिता और स्कूल का नाम रोशन कर दिया। जब सब सो जाते थे, तब पढ़ पाता था यहां तक की पढ़ाई तो किसी तरह हो गई। आगे और कठिनाइयां हैं। बस मन में आगे बढ़ने की ललक है। देखता हूं कितना कर पाऊंगा। किसी भी बड़े आदमी के बारे में पढ़ता हूं, या देखता हूं तो मुझे हौसला मिलता है। एक कमरे के घर में पढ़ पाना मुश्किल था। माता-पिता जब काम पर चले जाते थे तब मैं पढ़ाई करता था। स्कूल से 12 बजे आने
हनुमान जयंती आज, ऐसे करें व्रत और ये है पूरी पूजा विधि, हनुमान चालीसा का पाठ करते समय इन बातों का रखे ध्यान, मिल सकते है बड़े फायदे

हनुमान जयंती आज, ऐसे करें व्रत और ये है पूरी पूजा विधि, हनुमान चालीसा का पाठ करते समय इन बातों का रखे ध्यान, मिल सकते है बड़े फायदे

special
19 अप्रैल, शुक्रवार को हनुमान जयंती है। ग्रंथों के अनुसार चैत्र माह की पूर्णिमा यानी आज हनुमान जी का जन्म हुआ था। इसलिए इस दिन को हनुमान जयंती या हनुमान प्राकट्य दिवस के रूप में मनाया जाता है। हनुमान जयंती पर बजरंगबली की विशेष पूजा की जाती है। हनुमान जयंती पर व्रत करने और बजरंग बली की पूजा करने से दुश्मनों पर जीत मिलती है इसके साथ ही हर मनोकामना भी पूरी होती है। हनुमान जी की पूरी पूजा विधि हनुमान जयंती का व्रत रखने वालों को ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए। इस दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर भगवान श्रीराम, माता सीता व हनुमानजी का स्मरण करें। इसके बाद नहाकर हनुमान जी की मूर्ति स्थापित करें और विधिपूर्वक पूजा करें। हनुमान जी को शुद्ध जल से स्नान करवाएं। फिर सिंदूर और चांदी का वर्क चढ़ाएं। हनुमान जी को अबीर, गुलाल, चंदन और चावल चढ़ाएं। इसके बाद सुगंधित फूल और फूलों की माला चढ़ाए