chhattisgarh news media & rojgar logo

कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रामदयाल उइके हुए भाजपा में शामिल, 18 साल बाद घर वापसी

रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष रामदयाल उइके शनिवार को फिर भाजपा में शामिल हो गए। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में 18 साल बाद उनकी पार्टी में वापसी हुई। छत्तीसगढ़ के कद्दावर आदिवासी नेताओं में शुमार रामदयाल उइके का भाजपा में जाना कांग्रेस के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। बता दें कि पाली तानाखार से विधायक उइके छत्तीसगढ़ में अच्छा खासा दबदबा रखते हैं, इसलिए उनके भाजपा में शामिल होने पर सीएम रमन सिंह भी उत्साहित नजर आए।




भाजपा की सदस्यता लेने के बाद उइके ने कहा कि गुटबाजी के कारण वो कांग्रेस में घुटन महसूस कर रहे थे। इस दौरान रमन सिंह ने कहा कि कांग्रेस एक डूबता हुआ जहाज है, जिसमें कोई भी सवार नहीं होना चाहता है। भाजपा उइके को विधानसभा चुनाव का टिकट देगी या नहीं अभी इसपर फैसला नहीं हुआ है। टिकट देने के सवाल पर रमन सिंह ने कहा कि उइके ने बिना किसी शर्त भाजपा की सदस्यता ली है। कांग्रेस के कुछ बड़े नेता भाजपा में शामिल हो सकते हैं।

1998 में मरवाही सीट से थे भाजपा विधायक

इस मौके पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि यह उइके की घर वापसी है। इससे पार्टी को मजबूती मिलेगी। उइके 1998 में अविभाजित मध्यप्रदेश में मरवाही सीट से भाजपा के विधायक रहे। उन्होंने छत्तीसगढ़ गठन के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री अजीत जोगी के उप चुनाव लड़ने के लिए अपनी सीट छोड़ दी थी और कांग्रेस में शामिल हो गए थे। जोगी के करीबी रहे उइके के जनता कांग्रेस गठन के समय उससे जुड़ने के कयास लगे थे। इसी साल जनवरी में उन्हे प्रदेश कांग्रेस का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया था। भाजपा की सदस्यता लेने के बाद उइके ने कहा कि जहां आदिवासी नेता को मान सम्मान नहीं मिलेगा तो ऐसे कदम उठाए जा सकते हैं।

कांग्रेस में अपनी उपेक्षा से नाराज़ थे

पिछले दिनों राहुल गांधी छत्तीसगढ़ दौरे पर आए थे तो विधायक होने के बाद भी उइके को मंच पर जगह नहीं मिली थी। हाल ही में छत्तीसगढ़ चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस की ओर से बनाई गई सात सदस्यीय स्क्रीनिंग कमेटी में उइके का नाम नहीं था। वे इस उपेक्षा से नाराज थे। रामदयाल उइके पाली-तानाखार से मौजूदा विधायक हैं और इस इलाके में उनका अच्छा-खासा वर्चस्व माना जाता है। वे कांग्रेस के टिकट पर चुनाव जीते थे।



Leave a Reply