chhattisgarh news media & rojgar logo

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव परिणाम 2018: 68 सीटों के साथ बनेगी कांग्रेस की सरकार, भाजपा साफ़

रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के चुनाव परिणाम ने इस बार सबको चौंका दिया। कांग्रेस ने 90 में से 68 सीटें जीतकर चुनावी भूचाल ला दिया। 15 साल बाद छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बन रही है। 65 प्लस सीटें जीतने का दावा करने वाली भाजपा केवल 15 सीटों पर सिमट गई। किसानों की कर्जमाफी और बिजली बिल हॉफ का वादा कर कांग्रेस ने बड़े वर्ग का समर्थन हासिल किया।

भाजपा सरकार विरोधी लहर को भांप नहीं पाई। छत्तीसगढ़ में अब तक हुए चार विधानसभा चुनावों में इस बार सबसे चौंकाने वाला परिणाम आया है। भाजपा को सबसे बड़ी हार मिली है। इधर गठबंधन को 7 सीटें मिलीं। सत्ता विरोधी लहर ही थी कि ‘चाउर वाले बाबा’ नाम से चर्चित रमन सिंह का जादू इस बार नहीं चला। न 65 प्लस का दावा चला, न विकास के दावे…।

मतगणना के बाद हालात ऐसे बने कि रमन मंत्रिमंडल के 12 में से 8 मंत्री भी अपनी सीट नहीं बचा सके। रमशीला साहू की टिकट पहले ही कट गई थी। 15 सीटों पर भी भाजपा के उम्मीदवारों को जनता ने डराकर जिताया। इन सीटों पर पहले से पांचवें राउंड तक जीत का मार्जिन हजार का आंकड़ा भी नहीं छू सका था।

सीएम रमन ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए राज्यपाल को इस्तीफा सौंप दिया। मतगणना शुरू होने के बाद लगातार बढ़त में रही कांग्रेस ने अपने बहुमत के आंकड़े को पार कर लिया। पूरे चुनाव में चली चर्चा भी धरी रह गई कि जोगी-बसपा के गठबंधन से कांग्रेस को नुकसान होगा। 7 सीटों पर गठबंधन के विधायक चुनकर आए। इनमें अजीत जोगी और रेणु जोगी भी शामिल हैं।

सशक्त विपक्ष की भूमिका निभाएंगे

हम अगले पांच साल विपक्ष की भूमिका सशक्त तरीके से निभाएंगे। जब जीत का श्रेय मुझे मिलता है तो स्वाभाविक रूप से इस चुनाव में हार की जिम्मेदारी भी मैं लेता हूं। हार के कई कारण हैं। संगठन समीक्षा करेगा। – डॉ. रमन सिंह, मुख्यमंत्री

2019 में मोदी सरकार भी फिनिश

जनता ने हमें ऐतिहासिक फैसला दिया है। सबके सहयोग से सेमीफाइनल जीत चुके हैं अब फाइनल भी जीतेंगे। 2019 में मोदी सरकार फिनिश के नारे के साथ मैदान में उतरेंगे। हम किसी के भी खिलाफ बदले की भावना से काम नहीं करेंगे। भूपेश बघेल, अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ कांग्रेस

तीसरी ताकत बनकर उभरे हम

रायपुर (एजेंसी) | पिछले 70 सालों में कई पार्टियां खुद को तीसरी शक्ति के रूप में स्थापित करने की कोशिश की, लेकिन असफल रहे। हम इसमें कामयाब हुए। चुनाव चिन्ह में देरी ने हमारे नतीजों को प्रभावित किया। – अजीत जोगी, सुप्रीमो- जोगी कांग्रेस

चौंकाने वाली 5 बातें…

  • पहली बार राज्य में 68 सीटों के साथ बनेगी कांग्रेस की सरकार।
  • 12 में से 8 मंत्री 10 हजार से अिधक अंतर से हार गए स्पीकर भी नहीं जीत पाए।
  • 27 साल की शकुंतला साहू ने स्पीकर, तो 27 के ही देवेंद्र ने मंत्री प्रेमप्रकाश को हराया।
  • सरगुजा संभाग में भाजपा का खाता भी नहीं खुला, बस्तर में सिर्फ दंतेवाड़ा ही जीत पाई।
  • भाजपा रायपुर की 20 में 5, बिलासपुर  की 24 में 7, दुर्ग की 20 में 2 सीटों पर सिमटी।
RO No - 11069/ 14
CM Bhupesh Bhagel Mandi ko Maar

Leave a Reply