chhattisgarh news media & rojgar logo

उपेक्षा से नाराज प्रदेश उपाध्यक्ष घनाराम ने कांग्रेस छोड़ी, आज भाजपा में जाएंगे

रायपुर (एजेंसी) | पहले दौर की वोटिंग से ठीक एक दिन पहले रविवार को प्रदेश में दलबदल की सियासत चरम पर रही। तीन बार के विधायक रहे प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष घनाराम साहू ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। वे सोमवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में भाजपा में शामिल होंगे। घनाराम दुर्ग जिले की राजनीति में बड़ा नाम हैं और साहू संघ के बड़े नेता भी रहे हैं।




कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल आैर सांसद ताम्रध्वज पर लगाए प्रताड़ना के आरोप

उन्होंने पीसीसी चीफ भूपेश बघेल के नाम भेजे पत्र में बघेल आैर ताम्रध्वज साहू पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। पत्र में लिखा है कि मुझे प्रदेश उपाध्यक्ष तो बना दिया गया था, लेकिन किसी भी कार्यक्रम में मुझे बुलाया नहीं जाता था। उन्होंने बघेल पर आरोप लगाया कि वे उनसे व्यक्तिगत रंजिश रखते हैं और  मानसिक रूप से प्रताड़ित करते रहे हैं। खुद को कांग्रेस का निष्ठावान कार्यकर्ता बताते हुए लिखा है कि मैं यह प्रताड़ना लंबे समय से सहता आ रहा हूं, लेकिन सब्र की एक सीमा होती है।

पीसीसी चीफ को लिखा

व्यक्तिगत रंजिश से मानसिक रूप से प्रताड़ित किया एआईसीसी की अनुशंसा से मुझे छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी में पीसीसी सदस्य आैर उपाध्यक्ष का निर्वाचित पद दिया गया था। लेकिन नियुक्ति के दिनांक से अभी तक मुझे प्रदेश के अंदर या बाहर कांग्रेस के कार्यक्रमों में भागीदार नहीं बनाया गया। प्रदेश अध्यक्ष मुझे व्यक्तिगत रंजिश से मानसिक प्रताड़ित करते रहे हैं। मैं एक निष्ठावान प्रदेश का कार्यकर्ता रहा हूं, लंबे समय से मैं सहता रहा हूं लेकिन एक सीमा होती है।

पूर्वाग्रह से ग्रसित प्रदेश अध्यक्ष मुझे जानबूझकर कांग्रेस से बाहर करना चाहते थे, इसलिए मैं प्रदेश अध्यक्ष एवं दुर्ग सांसद के रवैये से तंग आकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष पद से लेकर कांग्रेस के प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देता हूं। मैं 1972 में निर्दलीय विधायक रहा। 1977 में मुझे कांग्रेस की सदस्यता दिलाई गई। कांग्रेस से विधानसभा चुनाव लड़ा आैर 11 हजार वोटों से जीता। तीसरी बार मुझे 1998 में कांग्रेस से उम्मीदवार बनाया गया, तब 9 हजार वोटों से जीता। तीन बार विधायक रहा हूं आैर दो बार जिला कांग्रेस कमेटी दुर्ग का अध्यक्ष। इसमें बालोद, बेमेतरा, नवागढ़, भिलाई, दुर्ग, पाटन शामिल थे।

मैंने कर्मठता से कार्य किया, लेकिन जैसे ही भूपेश बघेल प्रदेश अध्यक्ष बने, मुझे हर तरह से प्रताड़ित करते रहे। दुर्ग के सांसद ताम्रध्वज साहू ऊंचे पद पर रहते हुए भी एक महिला पूर्व विधायक का टिकट काटकर खुद विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं। यह महिलाआें के प्रति आेछी मानसिकता दर्शाता है। अब इसलिए कांग्रेस के सभी पदों एवं प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देता हूं। – घनाराम साहू

इधर, रात्रे ने बसपा छोड़ी, भूपेश ने दिलाई कांग्रेस की सदस्यता 

कांग्रेस ने जोगी-बसपा गठबंधन को बड़ा झटका दिया है। सरायपाली से बसपा प्रत्याशी छविलाल रात्रे रविवार को कांग्रेस में शामिल हुए। पीसीसी चीफ भूपेश बघेल की झलप में हुई चुनावी सभा में रात्रे ने मंच से कांग्रेस प्रवेश का ऐलान किया। बघेल ने प्रभारी महासचिव पीएल पुनिया से मंच से ही फोन पर उनकी बात भी करवाई। बघेल ने सभा में रमन सरकार पर जमकर निशाना साधा और भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए। इसी तरह खुज्जी में बसपा के प्रभारी ने जोगी कांग्रेस के प्रत्याशी पर आरोप लगाते हुए कांग्रेस ज्वॉइन कर ली।



Leave a Reply