chhattisgarh news media & rojgar logo

भितरघातियों पर करवाई, विधानसभा चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों का विरोध करने वाले 10 नेता कांग्रेस से सस्पेंड

रायगढ़ (एजेंसी) | कांग्रेस ने भितरघातियों पर कार्रवाई शुरू कर दी है। जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जयंत ठेठवार और अरुण मालाकार ने रायगढ़ विधायक प्रकाश नायक और खरसिया ब्लॉक कांग्रेस की शिकायत पर पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ काम करने वाले 10 कांग्रेसियों को निलंबित कर दिया है।

निलंबित तीन नेता विधानसभा चुनाव में टिकट के थे दावेदार

दिलचस्प बात यह है कि रायगढ़ से तीन निलंबित नेता विधानसभा चुनाव में टिकट के दावेदार थे। मतदान के ठीक बाद मतगणना से पूर्व ही जिला कांग्रेस कमेटी ने प्रत्याशियों की शिकायत पर सूची तैयार कर ली थी। रायगढ़ से प्रत्याशी रहे प्रकाश नायक ने जिला कांग्रेस कमेटी शहर के अध्यक्ष जयंत को शिकायत भेजी थी।




इसमें डा. राजू, अनिल अग्रवाल चीकू, जयेश जैन, जिला पंचायत सदस्य वासुदेव यादव, योगेंद्र यादव, मृत्युंजय सिंह और खरसिया ब्लॉक कांग्रेस ने बीजेपी प्रत्याशी ओमप्रकाश चौधरी के समर्थन में  काम करने वाले कांग्रेसी बालकराम पटेल, रविंद्र पटेल, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष कृष्णा पटेल, अजय पटेल, मेदिनी गभेल, रविंद्र गभेल के नाम दिए थे।

जिला कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों ने तब तत्कालीन पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल से मिलकर भितरघातियों की सूची देकर कार्रवाई की अनुशंसा की थी। वहां से हरी झंडी मिलने के बाद इन लोगों को निलंबित किया है।

कांग्रेस में ऐसे होती है कार्रवाई

जिला कांग्रेस कमेटी शहर के अध्यक्ष जयंत ने बताया कि पार्टी में प्रदेश बॉडी के पदाधिकारी या सदस्य और चुने हुए प्रत्याशियों पर कार्रवाई का अधिकार प्रदेश कांग्रेस कमेटी को होता है। दूसरे कार्यकर्ताओं पर कमेटी कार्रवाई कर सकती है।

सात दिन में रख सकते हैं पक्ष 

जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जयंत ठेठवार ने बताया कि जिन लोगों का निलंबन किया गया है उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत और कार्यकर्ताओं की शिकायतें हैं। इसके बाद भी निलंबित लोगों को सात दिनों का समय दिया गया है। वे अपना पक्ष रख सकते हैं। संतोषजनक जवाब या सफाई होने पर निलंबन वापस किया जा सकता है।

जवाब नहीं मिलने या पार्टी से संतुष्ट नहीं होने से इन सभी लोगों को पार्टी से बाहर किया जा सकता है। लोकसभा चुनाव नजदीक होने के बावजूद कांग्रेस पार्टी इस तरह की कार्रवाई से गुरेज नहीं कर रही है। नेताओं के निलंबन से राजनीति एक बार फिर गरमाएगी।

अब बीजेपी पर बनेगा दबाव 

बीजेपी के प्रत्याशी भितरघातियों से ज्यादा त्रस्त रहे। चुनाव परिणाम के बाद तलवारें खींचीं। सारंगढ़, रायगढ़, धरमजयगढ़ और लैलूंगा के प्रत्याशियों ने हार के बाद पार्टी के विरोध में काम करने वालों की सूची बनाई। भितरघातियों में जिला भाजपा के अध्यक्ष, महामंत्री समेत कई वरिष्ठ पदाधिकारी भी शामिल हैं।

7 दिसंबर को ये लोग डा. रमन सिंह, पार्टी के पदाधिकारियों व प्रभारी से मिलने रायपुर गए लेकिन पार्टी के अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने पहले ही कह दिया कोई शिकायत नहीं सुनी जाएगी। पार्टी के खराब प्रदर्शन और लोकसभा चुनाव के नजदीक होने के कारण अब भितरघातियों पर किसी तरह की कार्रवाई की संभावना कम ही है।



Leave a Reply