chhattisgarh news media & rojgar logo

अमित शाह इस बार दुर्ग की रैली में 28 महिलाओं को टिकट देने की घोषणा कर सकते है

रायपुर (एजेंसी) | भारतीय जनता पार्टी इस बार विधानसभा चुनाव में 90 में से 33 फीसदी टिकट महिलाओं को दे सकती है। इस लिहाज से यह संख्या 28 से 30 सीटों की होती है, जिसमे भाजपा महिला उम्मीदवारों को टिकट देकर चुनाव में खड़ा कर सकती है। भाजपा का मानना है कि प्रदेश की आधी आबादी महिलाओं की है। इसीलिए यह दांव उसे चौथी बार सत्ता के करीब आसानी से ले जा सकता है।

बताया जा रहा हैं कि यह राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की प्लानिंग है। इसी प्लानिंग की तहत आज शुक्रवार को छत्तीसगढ़ में एक बड़ी सभा का आयोजन किया गया है। जिसमे शाह एक लाख महिलाओ को दुर्ग में सम्बोधित करेंगे। भाजपा के विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक पिछले दिनों दिल्ली में शाह द्वारा ली गई बैठक में यह सब तय किया गया। इसमें यह बात सामने आई कि महिलाओं को टिकट देने से एंटी इनकंबेंसी भी कम होगी। महिलाओं के वोट भी इससे साधे जा सकेंगे।




छत्तीसगढ़ में महिलाओं को प्रभावित करने के लिए सभा में शाह बड़ा ऐलान भी कर सकते हैं। ये शराबबंदी भी हो सकता है। प्रदेश में पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने दस महिलाओं को टिकट दी थी, जिसमें छह जीतकर आईं। इसी तरह कांग्रेस ने भी 12 महिलाओं को चुनावी मैदान में उतारा था, उनमें से केवल चार ही जीतकर सदन में पहुंचीं।

इधर, भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में भी कुछ दिनों से महिलाओं की चहल-पहल ज्यादा बढ़ गई है। न सिर्फ़ रायपुर की बैठकों में बल्कि दूरस्थ स्थानों से भी लगातार महिला कार्यकर्ता रोज पहुंच रहीं हैं। ये संकेत बताते हैं कि पार्टी ने महिलाओं को लेकर संकेत निचले स्तर पहुंचा दिए हैं।

राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय ने भी संकेत दिए कि भाजपा ने संगठन में महिलाओं का एक तिहाई प्रतिनिधित्व सुनिश्चित किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा एकमात्र ऐसी पार्टी है, जिसने संगठन में मातृ शक्ति का आरक्षण है। भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री व राज्यसभा सांसद सरोज पांडेय ने गुरुवार को फिर दोहराया कि वे मुख्यमंत्री पद की दौड़ में शामिल नहीं हैं। जब-जब विधानसभा चुनाव आते हैं, इस तरह की राजनीतिक अटकलें लगाई जाती हैं।



Leave a Reply