chhattisgarh news media & rojgar logo

विश्व मुक्केबाज़ी चैंपियनशिप: मंजू रानी फाइनल में, थाईलैंड की रकसत को हराया; मैरी कॉम, जमुना और लोवलिना को कांस्य

खेल डेस्क (एजेंसी) | भारत की महिला बॉक्सर मंजू रानी रूस में खेले जा रहे वर्ल्ड बॉक्सिंग चैम्पियनशिप के 48 किलोग्राम भार वर्ग के फाइनल में पहुंच गईं। शनिवार को उन्होंने सेमीफाइनल में थाईलैंड की सी. रकसत को हराया। मंजू ने ये मुकाबला 4-1 से अपने नाम किया। दूसरी ओर मैरी कॉम 51 किलोग्राम भार वर्ग और जमुना बोरो 54 किलोग्राम भार वर्ग के सेमीफाइनल में हार गईं।

मैरी को यूरोपियन चैम्पियन तुर्की की बुसेनाज कैकिरोग्लू ने 4-1 से हराया। वहीं, जमुना चीनी ताइवे की शीर्ष वरीयता प्राप्त हुआंग हसिआओ-वेन के खिलाफ हार गईं। उनके बाद लोवलिना बोरगोहेन भी हार गईं। उन्हें 69 किलोग्राम भार वर्ग में यांग लियू ने हराया। दोनों को चीन की बॉक्सर को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।

मैरी कॉम के मैच में भारत की निर्णय के खिलाफ अपील खारिज

मैरी कॉम के मैच के बाद भारत ने रेफरी के निर्णय के खिलाफ अपील की, लेकिन उसे खारिज कर दिया गया। 36 साल की मैरी कॉम वर्ल्ड चैम्पियनशिप में 8 पदक जीतने वाली इकलौती बॉक्सर हैं। इससे पहले क्वार्टरफाइनल में उन्होंने रियो ओलिंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली कोलंबिया को इंगरित वेलेंसिया को 5-0 से हराया था।

तीसरे राउंड में दोनों ने आक्रामक खेल दिखाया

मैच में मैरी कॉम ने संभलकर शुरुआत की। पहले राउंड में मैरी ने प्रतिद्वंद्वी के मूव को परखा और अपना पूरा समय लिया। वे ज्यादा आक्रामक नहीं हुई और कैकिरोग्लू के जैब को भी आसानी से डौज किया। मैरी ने दूसरे बाउट में यूरोपियन चैम्पियन के खिलाफ शुरू से ही अटैकिंग रुख अपनाया। उन्होंने कई जैब और हुक लगाए। वे कैकिरोग्लू को कई बार रिंग के पास ले जाने में कामयाब हुई। कैकिरोग्लू के लिए तीसरे राउंड की शुरुआत बेहतरीन रही। उन्होंने दमदार जैब और हुक लगाते हुए कई महत्वपूर्ण अंक हासिल किए।

Leave a Reply