Search Jobs

Our Placements

Breaking News

निर्मला यादव ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की

माओवादियों ने सड़क निर्माण करा रहे ठेकेदार को मौत के घाट उतारा, 6 वाहनों में लगा दी आग

भाजपा के नेता कह रहे हैं रमन सिंह और अमन सिंह को भ्रष्ट और रमन सिंह के जनसंपर्क सचिव राजेश टोप्पो करवा रहे हैं कांग्रेस नेताओं का स्टिंग ऑपरेशनः भूपेश बघेल

राहुल लगातार झूठ बोलकर देश से छल कर रहे : श्रीकांत शर्मा

रमन ने अपने काम गिनाकर कहा, 'अब और बेहतर काम करेंगे', जोबी-खरसिया और आरंग में ली भाजपा की चुनावी सभाएं

सिलेंडर धमाके के बाद शहर में नहीं बिके ऐसे बैलून, मरीन ड्राइव में सादे गुब्बारे ही दिखे

पिछले 3 चुनाव में नक्सल प्रभावित इलाकों में 33 मौतें, इस बार सुरक्षा के चलते हिंसा शून्य

छत्तीसगढ़ की विकास योजना देश के लिए मिशाल है: योगी

तो इसलिए नहीं हो पाया कांग्रेस-गोंगपा गठबंधन, अब गोंगपा होंगी साइकिल पर सवार

रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ में कांग्रेस गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के साथ गठबंधन इसलिए करना चाहती है, क्योंकि पिछले चुनाव में गोंगपा के प्रत्याशियों को मिले वाेटों के कारण कांग्रेस को 10 सीटों पर हार का सामना करना पड़ा था। यही वजह है कि इस बार कांग्रेस आलाकमान इनसे हर हाल में गठबंधन चाह रही है, लेकिन गोंगपा ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से बात करने के बाद ही छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के साथ गठबंधन की दिशा में आगे बढ़ने कही है। 2013 के चुनाव में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने लगभग 45 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किए थे। गोंगपा ने 45 में से 10 सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशी को हराने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी क्योंकि जितने वाेटों से कांग्रेस प्रत्याशी को हार का सामना करना पड़ा था उससे अधिक वोट गोंगपा के प्रत्याशी को मिले थे। यही वजह है कि कांग्रेस वोट कटुआ प्रत्याशियों को साधना चाह रही है। बसपा के साथ गठबंधन से चूक गई कांग्रेस गोंगपा से हर हाल में गठबंधन करना चाह रही है। लेकिन, गोंगपा ने हाल ही में समाजवादी पार्टी के साथ समझौता कर लिया है। गोंगपा ने सपा के साथ मध्यप्रदेश आैर छत्तीसगढ़ दोनों ही राज्यों में गठबंधन किया है। एनसीपी को खल्लारी, चंद्रपुर सीट दे सकती है कांग्रेस गोंगपा के साथ गठबंधन के लिए लगी कांग्रेस एनसीपी के साथ भी गठबंधन कर सकती है। ऐसे संकेत मिले हैं कि दिल्ली में एनसीपी के सुप्रीमों आैर कांग्रेस आलाकमान के बीच सीटों के गठबंधन को लेकर लगातार चर्चा जारी है। बताया गया है कि कांग्रेस, एनसीपी को खल्लारी आैर चंद्रपुर सीट दे सकती है। दरअसल एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार महाराष्ट्र के सहारे कांग्रेस के साथ चुनावी राज्यों मंे भी गठबंधन की कोशिश में लगे हुए हैं। 2008 में हुआ था गठबंधन। 2003 में एनसीपी ने किया था बेहतर प्रदर्शन 2003 के आम चुनावों में एनसीपी का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा था। तब एनसीपी को विद्याचरण शुक्ल का साथ मिला था। पार्टी सिर्फ एक सीट ही जीत पाई थी जबकि वोटों के प्रतिशत के मामले में भाजपा-कांग्रेस के बाद वह तीसरे नंबर पर रही थी। पार्टी को साल 2003 में एक सीट के साथ 7.09 फीसदी मत मिले थे। पार्टी ने 89 सीटों पर प्रत्याशी उतारे थे जिनमें से  84 अपनी जमानत तक नहीं बचा पाए थे। नहीं बन रही बात गोंगपा नेताआें का कहना है कि कांग्रेस की आेर बातचीत का प्रस्ताव तो आया है। इसके लिए दिल्ली में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दीपक बावरिया दिल्ली में गोंगपा के हीरासिंह आैर श्याम सिंह मरकाम से मुलाकात किए थे। बातचीत के बाद गोंगपा नेताआें ने अपना एजेंडा राहुल गांधी के पास भेज दिया है। आगे क्या होगा अभी तय नहीं है। वैसे भी अब अखिलेश जी के साथ बातचीत के बाद ही कुछ तय होगा। इन सीटों पर गोंगपा को मिले इतने वोट 

सीट कांग्रेस भाजपा गोंगपा
पाली-तानाखार 69450 33594 40637
भरतपुर-सोनहत 38360 42964 18188
मनेन्द्रगढ़ 28435 32613 9747
बैकुंठपुर 44402 45471 17413
भटगांव 67339 59971 8163
प्रतापपुर 58407 66550 6380
लैलूंगा 60892 75093 5472
मरवाही 82909 36659 6259
कोटा 58390 53301 7432
सक्ती 42544 51577 12908
सिहावा 46407 53894 8130
पंडरिया 74412 81685 7393
कवर्धा 91087 93645 5151
डोंगरगढ़ 62474 67158 4692
यहां इतनी सीटें गोंगपा के सुप्रीमों हीरासिंह मरकाम का कहना है कि वे छत्तीसगढ़ में समाजवादी पार्टी के साथ चुनाव लड़ रहे हैं। यदि कांग्रेस बातचीत करना चाहे तो तैयार हैं। लेकिन बातचीत से पहले उन्हें अपना एजेंडा बताना होगा। मरकाम का कहना है कि मध्यप्रदेश में सपा 50 सीटों पर आैर गोंगपा 70 सीट पर चुनाव लड़ रहे हैं। जबकि छत्तीसगढ़ में समाजवादी पार्टी के साथ चुनाव लड़ रहे हैं। वे 30 सीट में चुनाव लड़ने की बात कर रहे हैं लेकिन अभी सपा के 10 सीट पर चुनाव लड़ने की सहमति बनी है। जबकि गोंगपा 40 सीट पर चुनाव लड़ेगी। 17 के बाद सपा के नेता बताएंगे कि कहां-कहां उनके नेता हैं। उसके बाद हम सीटों का फैसला करेंगे।


Posted on 18-10-2018 10:22 AM
Share it

Home  »  News  »  तो इसलिए नहीं हो पाया कांग्रेस-गोंगपा गठबंधन, अब गोंगपा होंगी साइकिल पर सवार

Recent News

निर्मला यादव ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की
माओवादियों ने सड़क निर्माण करा रहे ठेकेदार को मौत के घाट उतारा, 6 वाहनों में लगा दी आग
भाजपा के नेता कह रहे हैं रमन सिंह और अमन सिंह को भ्रष्ट और रमन सिंह के जनसंपर्क सचिव राजेश टोप्पो करवा रहे हैं कांग्रेस नेताओं का स्टिंग ऑपरेशनः भूपेश बघेल
राहुल लगातार झूठ बोलकर देश से छल कर रहे : श्रीकांत शर्मा
रमन ने अपने काम गिनाकर कहा, 'अब और बेहतर काम करेंगे', जोबी-खरसिया और आरंग में ली भाजपा की चुनावी सभाएं
सिलेंडर धमाके के बाद शहर में नहीं बिके ऐसे बैलून, मरीन ड्राइव में सादे गुब्बारे ही दिखे
पिछले 3 चुनाव में नक्सल प्रभावित इलाकों में 33 मौतें, इस बार सुरक्षा के चलते हिंसा शून्य
छत्तीसगढ़ की विकास योजना देश के लिए मिशाल है: योगी
आपको तय करना है किसानों से 18 प्रतिशत ब्याज वसूलने वाली काँग्रेस चाहिए या 1 रूपये किलों चावल देने वाली भाजपा: सांसद अभिषेक सिंह
कांग्रेस का घोषणा पत्र देखकर कौशिक चकरा गए है: शैलेश नितिन त्रिवेदी

Candidate Corner