chhattisgarh news media & rojgar logo

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या ने कहा, ‘सेटलमेंट के लिए वित्त मंत्री से मिला था’, देश की राजनीति में हलचल

नई दिल्ली (एजेंसी) | भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण के मामले पर लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने बुधवार को फैसला सुरक्षित रख लिया। माल्या का प्रत्यर्पण होगा या नहीं, इस पर कोर्ट अब 10 दिसंबर काे फैसला सुनाएगा। इसी बीच, माल्या ने कोर्ट के बाहर पत्रकारों के सामने सनसनीखेज दावा कर देश की राजनीति में हलचल मचा दी। बैंकों का नौ हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज चुकाए बिना भागे माल्या ने कहा कि देश छोड़ने से पहले सेटलमेंट का ऑफर लेकर वह वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिला था। हालांकि, उसने वित्त मंत्री से मुलाकात के बारे में विस्तार से बताने से इनकार कर दिया। माल्या के दावे पर जेटली ने फेसबुक पर सफाई दी।

इस बीच कांग्रेस ने पूछा- माल्या को देश छोड़ने की इजाजत कैसे मिली

अरुण जेटली से मिलने संबंधी माल्या के दावे पर कांग्रेस ने भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने सरकार से पूछा कि माल्या को देश छोड़ने की इजाजत कैसे मिली। देश जानना चाहता है कि जेटली और माल्या की मीटिंग में क्या हुआ था।




लंदन के कोर्ट में दिखाया आर्थर रोड जेल का वीडियो, माल्या बोला- इम्प्रेस हुआ

लंदन स्थित वेस्टमिंस्टर कोर्ट में सुनवाई के दौरान भारतीय अधिकारियों ने मुंबई की आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 का एक वीडियो दिखाया। प्रत्यर्पण की स्थिति में माल्या को यहीं रखा जाएगा। पत्रकारों ने इस बैरक के बारे में पूछा तो माल्या ने कहा- यह काफी प्रभावशाली है। प्रत्यर्पण से बचने के लिए माल्या ने दलील दी थी कि भारत की जेलों की हालत बेहद खराब है। उसकी काट के लिए बैरक को सुधारकर वीडियो दिखाया गया।

जेटली ने कहा- माल्या को कभी अपाॅइंटमेंट नहीं दिया

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने फेसबुक ब्लॉग पर सफाई दी। 2014 से अब तक मैंने माल्या को कोई अपॉइंटमेंट नहीं दिया। वह राज्यसभा सदस्य थे। मैं सदन से निकलकर अपने कमरे में जा रहा था। इसी दौरान वह साथ हो लिए। चलते-चलते कहा कि मैं सेटलमेंट की पेशकश कर रहा हूं। उन्हें बात आगे बढ़ाने से रोकते हुए मैंने कहा यह पेशकश बैंकों के समक्ष करें।

दोनों दल मुझे पसंद नहीं करते, बलि का बकरा बनाया

माल्या ने कहा, ‘मुझे बलि का बकरा बनाया गया है। दोनों ही राजनीतिक दल मुझे पसंद नहीं करते। सेटलमेंट के लिए करीब 15 हजार करोड़ रुपए की संपत्तियां मैं कर्नाटक हाईकोर्ट के समक्ष रख चुका हूं।’ माल्या ने कहा कि मीडिया बैंकों से पूछे कि कर्ज चुकाने की मेरी कोशिशों में मदद क्यों नहीं कर रहे।



Leave a Reply