chhattisgarh rojgar logo
telegram group   Chhattisgarh Rojgar Facebook Page  Chhattisgarh Rojgar twitter  Chhattisgarh Rojgar Youtube Channel

नहीं रहे 1971 की भारत-पाकिस्तान जंग के नायक ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी, बॉर्डर फिल्म में सनी देओल ने इन्हीं का रोल निभाया था

नेशनल न्यूज़ (एजेंसी) | 1971 की भारत-पाकिस्तान जंग के नायक ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी नहीं रहे। वह 78 साल के थे। कैंसर से जूझते हुए शनिवार सुबह उन्होंने मोहाली में आखिरी सांस ली। कुछ दिन पहले ही वे विदेश से लौटे थे।उनके परिवार में पत्नी और तीन बेटे हैं। उन्होंने राजस्थान के लोंगेवाला में निर्णायक लड़ाई लड़ी थी।

चांदपुरी के नेतृत्व में 120 भारतीय जवानों ने 2000 पाकिस्तानी फौजियों को खदेड़ा था। उनके 12 टैंक तबाह कर दिए थे। महावीर चक्र और विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित थे।




1997 में फिल्म निर्माता-निर्देशक जेपी दत्ता ने राजस्थान में भारत-पाकिस्तान लड़ाई पर पंजाब रेजिमेंट की इसी टुकड़ी की बहादुरी पर ‘बॉर्डर’ फिल्म बनाई। इसमें सनी देओल ने ब्रिगेडियर चांदपुरी का किरदार निभाया था।

जन्म: 22 नवंबर 1940   निधन: 17 नवंबर 2018

लोंगेवाला की लड़ाई 1971 में भारत पाकिस्तान युद्ध के दौरान पश्चिमी सेक्टर में हुई पहली बड़ी लड़ाइयों में एक थी। यह राजस्थान के थार रेगिस्‍तान में लोंगेवाला की भारतीय सीमा चौकी पर हमलावर पाकिस्तानी सैनिकों और भारतीय सैनिकों के बीच लड़ी गई थी।

4 दिसंबर 1971 को लोंगेवाला पोस्ट पर तैनात तत्कालीन मेजर कुलदीपजी को खबर मिली कि पाक फौज इस ओर बढ़ रही है। वहां भारत के सिर्फ 120 जवान थे। शाम हो चुकी थी तो किसी तरह की फौजी सहायता मिलनी भी संभव नहीं थी। कुलदीपजी के पास दो रास्ते थे- सैनिकों को लेकर रामगढ़ निकल जाएं, जैसा कि उन्हें आॅर्डर मिला था या फिर चौकी की सुरक्षा के लिए वहीं रुकें। उन्होंने दूसरा रास्ता चुना।

कुछ ही देर बाद पाकिस्तानी टैंक गोले बरसाने लगे। भारतीय सैनिकों ने रिकॉइललेस राइफल (टेंकों को तबाह करने वाली) और मोर्टार से जवाब दिया। पाक के 2000 जवानों को भारत की छोटी टुकड़ी से ऐसे जबरदस्त जवाब की उम्मीद नहीं थी। कुलदीपजी बंकर-बंकर जाकर रातभर सैनिकों का उत्साह बढ़ाते रहे। भारतीय जवानों ने पाकिस्तान के 12 टैंक तबाह कर दिए और उन्हें 8 किमी पीछे खदेड़ दिया। जैसलमेर में दाखिल होने के पाक के मंसूबों पर पानी फिर चुका था। सुबह होते ही वायुसेना पहुंच गई और पाकिस्तानी आक्रमण को नाकाम कर दिया। इसका नतीजा यह हुआ कि पाकिस्‍तान को इस युद्ध करारी हार मिली और लोंगेवाला पोस्‍ट भारत के पास ही रही।



Leave a Reply