chhattisgarh rojgar logo
telegram group   Chhattisgarh Rojgar Facebook Page  Chhattisgarh Rojgar twitter  Chhattisgarh Rojgar Youtube Channel

पत्नी ने ही करवाई थी मर्चेंट नेवी इंजीनियर की हत्या, किरायेदार को दिए थे 5 लाख रूपये की सुपारी

रायपुर (एजेंसी) | मर्चेंट नेवी के इंजीनियर के. विश्वनाथ शर्मा के कत्ल के आरोप में इंजीनियर की पत्नी के वमसी लता शर्मा उनके किरायेदार लवकुश व उसके नौकर अवनीश को गिरफ्तार किया गया है। वमसी ने अपने पति को मारने पांच लाख की सुपारी दी थी। किरायेदार लवकुश को पूना में एक्टिंग कोर्स के लिए पैसों की जरूरत थी। उसका नौकर अवनीश भी अपनी बहन की शादी के लिए पैसों की जुगत में था। वमसी ने उन्हें पैसों का ऑफर दिया और वे दोनों हत्या के लिए राजी हो गए। पुलिस के मुताबिक हत्या की वजह पारिवारिक विवाद है।

पति पत्नी में होता था विवाद 

पति पत्नी के बीच पिछले छह-सात साल से नहीं बन रही थी। मर्चेंट नेवी में पोस्टिंग होने के कारण विश्वनाथ साल में छह महीने ही घर पर रहते थे। छह महीने उनकी ड्यूटी जहाज पर रहती थी। इस बार विश्वनाथ छह महीने की छुट्‌टी पर 12 जुलाई को घर लौटे। उसी दिन उनका पत्नी वमसी से विवाद हुआ।

एडिशनल एसपी प्रफुल्ल ठाकुर ने बताया कि इंजीनियर विश्वनाथ मुंबई की नेवी कंपनी में इंजीनियर थे। उनकी शिप मुंबई से दुबई के लिए चलती हैं। वे छह माह ड्यूटी और छह माह घर पर रहते थे। जब भी आते थे, उनका पत्नी वमसी के साथ विवाद होता था। इंजीनियर पर आरोप है कि वे पत्नी के साथ मारपीट करते थे। गुढियारी थाने में इसकी कई बार शिकायत भी हुई, लेकिन बाद में पति-पत्नी में समझौता होता रहा। इस बार भी वे जिस दिन लौटे उसी दिन विवाद हुआ।

पुलिस के अनुसार उसी दिन महिला ने विश्वनाथ को मार डालने की ठान ली। महिला ने अपने किराएदार लवकुश को टटोला। लवकुश अक्सर घर आता-जाता रहता था। इसलिए वमसी से बातचीत होती थी।

एक आरोपी को एक्टिंग कोर्स और दूसरे को बहन की शादी के लिए जरूरत थी पैसे की

दोनों आरोपियों को कई दिनों से अलग-अलग करने से पैसों की जरूरत थी। महिला ने उसे पैसे का लालच दिया। एक साथ इतने पैसे मिलने का ऑफर सुनकर लवकुश तैयार हो गया। लवकुश ने अपने कर्मचारी अवनीश को भी वारदात में शामिल कर लिया। तीनों ने शुक्रवार को हत्या की प्लानिंग की। इंजीनियर के सिर पर पांच किलो के घन (बड़ा हथौड़ा)से मारा गया। ताबड़तोड़ चार-पांच वार करने के बाद आरोपी वहां से भाग गए, लेकिन इंजीनियर की सांस चल रही थी। उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। जहां इलाज के दौरान शनिवार सुबह मौत हुई।

रात 12 बजे से साजिश की शुरुआत, 2 बजे के बाद हत्या

आरोपी महिला शुक्रवार को रात का भोजन करने के बाद बच्चों के साथ 12 बजे सोने चली गई। विश्वनाथ बगल के कमरे में सोने चले गए। प्लानिंग के तहत लवकुश ने रात 1 बजे उसे कॉल किया। उसने बताया कि वह अवनीश को रवाना कर रहा है। अवनीश लवकुश की मोपेड लेकर मोवा से निकला। वह रात 2 बजे बम्लेश्वरी नगर पहुंचा। उसने पहुंचकर लता को कॉल किया। लता ने कहा कि दीवार फांदकर भीतर आकर मकान के पीछे जाए। पीछे का दरवाजा खुला हुआ है। अवनीश दीवार फांदकर भीतर आया। लता खिड़की पर खड़ी थी। अवनीश ने उससे बात की फिर वह पीछे की ओर गया। विश्वनाथ जिस कमरे में सोए थे, उसके पीछे का दरवाजा खुला था। अवनीश जैसे ही भीतर गया, विश्वनाथ ने करवट ली। वह हड़बड़ा बाहर आ गया।

सिर पर वार करने से हुई मौत 

उसने लता को बताया कि विश्वनाथ जाग रहा है। लता ने कहा कि विश्वनाथ ने शराब पी है। वह गहरी नींद में सोए हैं। लता ने फिर सामने का दरवाजा खोला और अवनीश को मकान के भीतर बुलाया। वह मकान के भीतर से अवनीश को विश्वनाथ के कमरे में ले गई। विश्वनाथ पांच किलो का घन लेकर आया था। वह कमरे में घुस गया। महिला सोने के लिए कमरे में चली गई। अवनीश बिस्तर में चढ़ा और घन से लगातार हमला किया। उसने सिर पर आठ बार वार किया। जब खून बहने लगा तो अवनीश हड़बड़ा गया। वह घन को लेकर बाहर निकल गया। वहां से भाग गया। उसने घन को कटोरा तालाब के पास फेंका दिया और घर जाकर सो गया। उसने लवकुश को कॉल किया। लवकुश ने महिला को वाट्सएप किया की काम हो गया।

कॉल डिटेल से खुला हाई प्रोफाइल मर्डर

मर्चेंट नेवी इंजीनियर की हत्या की साजिश कॉल डिटेल से फूट गई। पुलिस की साइबर टीम ने हत्या के फौरन बाद जांच शुरू कर दी। सीएसपी अभिषेक महेश्वरी ने बताया कि हत्या की वजह स्पष्ट नहीं थी। पत्नी पिछले चार-पांच साल में इतने ही बार थाने में शिकायत करने पहुंच चुकी थी, इस वजह से सबसे पहले करीबियों की सूची बनाकर उन्हें जांच के घेरे में लिया गया।

कॉल डिटेल की जांच में पता चला कि इंजीनियर की पत्नी ने किसी से रात 2 बजे तक बात की है। कॉल डिटेल में अवनीश और लवकुश के मोबाइल नंबर मिल गए। पुलिस ने सबसे पहले उन्हीं को घेरे में लिया। उसके बाद पत्नी को पूछताछ के लिए बुलाया। कुछ ही घंटों के भीतर पूरी मिस्ट्री सुलझ गई। घर का पिछला दरवाजा खुला था।  इस वजह से भी सबसे पहला शक परिवार के किसी सदस्य पर गया था।

बेटी ने सुनी पिता की कराहने की आवाज

शनिवार सुबह 4.30 बजे विश्वनाथ की बेटी उठी। वह बाथरूम जा रही थी तो उसने अपने पिता की कराहने की आवाज सुनी। तब वह उनके कमरे में गई। विश्वनाथ लहूलुहान पड़े हुए थे। तब उसने अपनी मां और भाई को जगाया। फिर पड़ोसियों की मदद से अस्पताल ले गए। जहां इलाज के दौरान मौत हो गई। हालांकि पति को जिंदा देखकर लता डर गई थी। उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था। उसे डर था कि अगर वह बच गए तो वह पकड़ी जाएगी।

RO No - 11069/ 14
CM Bhupesh Bhagel Mandi ko Maar

Leave a Reply