chhattisgarh news media & rojgar logo

सीएम बघेल ने अफसरों को लगाई फटकार, कहा, ‘वन विभाग भी है नक्सलवाद बढ़ने की एक वजह, छत्तीसगढ़ी सीखकर अफसर इसी मेें बातें करें’

रायपुर (एजेंसी) | वन विभाग पर शनिवार को सीएम भूपेश बघेल जमकर बरसे। उन्होंने वन मंत्री मोहम्मद अकबर के सामने ही यहां तक कह दिया कि नक्सलवाद बढ़ने की एक वजह वन विभाग भी है। नया रायपुर में हुई बैठक में अधिकारियों और मैदानी अमले से अपेक्षा की कि वे छत्तीसगढ़ी भाषा सीखें। स्थानीय भाषा और बोलियों से न केवल अवगत रहें, बल्कि उसे समझे और बोलचाल के लिए भी उपयोग में भी लाएं।

दरअसल, सीएम बघेल अरण्य भवन में वन विभाग के कामों को लेकर अफसरों से सवाल-जवाब कर रहे थे। लेकिन अफसर संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। इससे सीएम बघेल नाराज हो गए थे। सीएम ने अफसरों को छत्तीसगढ़ी सीखने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा कि स्थानीय बोली से न केवल अवगत रहें, बल्कि उसे समझें और बोलचाल में भी उपयोग करें।

अविभाजित मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्य अलग बनने के बाद पहली बार बैठक ली गई 

अविभाजित मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्य अलग बनने के बाद यह पहला अवसर है, जब प्रदेश के मुखिया द्वारा विशेष रूप से सिर्फ वन विभाग के वन मंडलाधिकारियों की कलेक्टर-एसपी कांफ्रेंस की तरह बैठक ली। मुख्यमंत्री द्वारा वन विभाग की विशेष रूप से समीक्षा करना इस बात को इंगित कर रहा है कि छत्तीसगढ़ राज्य की आधी आबादी जो अपनी आजीविका के लिए प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से वनों पर निर्भर है।

उनके विकास को मुख्यमंत्री सर्वोच्च प्राथमिकता दे रहे हैं। राज्य का 44.2 प्रतिशत क्षेत्र वनों से आच्छादित है। आदिवासी बहुल राज्य की लगभग 98 प्रतिशत आदिम जातियों की आबादी वनों एवं इसके आसपास निवासरत है। नई सरकार द्वारा वनवासियों के हित में अनेक ऐतिहासिक निर्णय लिए गए हैं।

सरगुजा विकास प्राधिकरण की बैठक लेंगे सीएम बघेल 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बस्तर विकास प्राधिकरण की बैठक के बाद अब 3 जून को सरगुजा विकास प्राधिकरण की बैठक लेंगे। अंबिकापुर में होने वाली इस बैठक में पांचवी अनुसूची समेत सरगुजा के आदिवासियों की समस्या पर फोकस होगा। बैठक में शामिल होने बघेल रायपुर से अंबिकापुर पहुंचेंगे। पूरा कार्यक्रम बस्तर दौरे की तरह ही बनाया गया है। तय कार्यक्रम के मुताबिक सीएम सबसे पहले अंबिकापुर कलेक्टोरेट में सरगुजा विकास प्राधिकरण की बैठक लेंगे। इसके बाद वे वन अधिकार कार्यशाला को संबोधित करेंगे। फिर वे सरगवां गांव में ग्राम चौपाल लगाकर स्थानीय लोगों से बातचीत करेंगे। बैठक में पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव, विधायक अमरजीत भगत मौजूद रहेंगे।

Leave a Reply