Shadow

युवा संवाद में युवाओं से बात करने पहुंचे सीएम बघेल, बोले, ‘यदि मैं राजनेता नहीं होता तो किसान होता’

रायपुर (एजेंसी) | प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोमवार को डेली रूटीन से अलग कुर्ता-पायजामा की बजाय टी-शर्ट और ट्राउजर में युवाओं के बीच नजर आए। शहर की एक यूनिवर्सिटी में आयोजित युवा संवाद कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे सीएम ने एक छात्र के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि यदि वो राजनेता नहीं होते तो किसान होते। उन्होंने युवाओं से कहा कि देश आपको ही संभालना है, आप तय करिए किस प्रकार का देश चाहिए।

मैट्स यूनिवर्सिटी में संबोधित करते हुए बघेल ने कहा कि यह महात्मा गांधी का देश है। उन्हीं के नेतृत्व में देश आजाद हुआ। उन्हें गोडसे ने गोली मारी, लेकिन उनके विचार आज भी जीवित हैं। आज अमेरिका के लोग कहते हैं कि अच्छे से पढ़ो-लिखो नहीं तो भारत के लोग कब्जा कर लेंगे।

एक छात्रा के सवाल पर सीएम ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र के बहुत काम करने की जरूरत है। रिसर्च पर कोई काम नहीं हो रहा है। शिक्षा में बजट बढ़ाने की आवश्यकता है। जब हमारे पास टीचर नहीं होंगे तो कहां पढ़ाई होगी? 15 साल तक सिर्फ शिक्षकों ने आंदोलन किया। अगर बच्चों को नहीं पढ़ाएंगे तो बच्चों का कैसे भविष्य कैसे बन पाएगा?

जब किसानी कर रहा था तभी नहीं सोचा, राजनीति में आउंगा

एक छात्र के सवाल का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि जब वे साइंस कॉलेज छोड़कर गए और किसानी कर रहे थे, तब नहीं सोचा था राजनीति में आऊंगा, क्योंकि खेती में ही समय निकल जाता था। राजनीति में कब आया पता ही नहीं चला।

CM की जिम्मेदारी मिली है कैसा महसूस कर रहे हैं?

कार्यक्रम के दौरान छात्रा प्रीति अग्रवाल ने सवाल किया- ‘इतने साल संघर्ष के बाद मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी संभालने पर कैसा महसूस कर रहे हैं’? सीएम ने जवाब में कहा- 15 साल हमने संघर्ष किया है। राज्य की संपदा का सही उपयोग नहीं हो पा रहा था। सत्ता परिवर्तन हुआ और मुझे अवसर मिला इसकी खुशी है।

नक्सल मामले पर पिछली सरकार ने गलती की

पिछली सरकार ने गलती की। वे गोली का जवाब गोली से देते रहे। हमें दूसरा रास्ता अपनाना होगा। हमें वहां के लोगों का विश्वास जितना सबसे जरूरी, जब तक ऐसा नहीं होगा हम सफल नहीं होंगे।

Leave a Reply