chhattisgarh rojgar logo
telegram group   Chhattisgarh Rojgar Facebook Page  Chhattisgarh Rojgar twitter  Chhattisgarh Rojgar Youtube Channel

chhattisgarh

नक्सलियों ने पांच ट्रकों में लगाई आग, दहशत में ग्रामीणों

नक्सलियों ने पांच ट्रकों में लगाई आग, दहशत में ग्रामीणों

chhattisgarh
बचेली | 6 अगस्त को छत्तीसगढ़ के सुरक्षा बलो के द्वारा बड़े ऑपरेशन में 15 नक्सली मारे गए थे हो सकता है ये उसी की बौखलाहट का नतीजा हो। छत्तीसगढ़ में गुरुवार आधी रात नक्सलियों ने बचेली बैलाडीला ट्रक ओनर्स एसोसिएशन कार्यालय के पास खड़े पांच ट्रकों में आग लगा दी। इससे ग्रामीणों में दहशत है। इस दौरान नक्सलियों ने एक पर्चा भी फेंका, जिसमें उन्होंने आगजनी की घटना को अंजाम देने की बात कबूली है। थाना बचेली के प्रधान आरक्षक एस.आर. गावड़े ने बताया कि यह घटना देर रात लगभग 2 बजे की है। प्रथम दृष्टता पता चलता है कि घटना स्थल पर कुछ हथियारबंद नक्सली आए और ट्रकों में आग लगा दी। इसके बाद सभी फरार हो गए। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); पर्चा बारिश के पानी से पूरी तरह गीला हो चुका है, उसे सूखा कर उसकी जांच की जाएगी। पर्चे में कुछ नक्सलियों के नाम लिखे हैं, जिनमें जैनी, चंदरु, सुगना, श
विश्व आदिवासी दिवस: आज विभिन्न कार्यक्रमों के साथ जुलुस निकली जाएगी

विश्व आदिवासी दिवस: आज विभिन्न कार्यक्रमों के साथ जुलुस निकली जाएगी

chhattisgarh
भिलाई | आज 9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर भिलाई नगर में उलगुलान भव्य रैली का आयोजन आदिवासी मण्डल भिलाई-दुर्ग दुवारा किया जा रहा है। यह रैली सुबह 9 बजे से आंबेडकर चौक पावर हाउस ओवर ब्रिज के नीचे से प्रारंभ होगा और घड़ी चौक से होते हुवे सेक्टर 5की ओर रुख करेगा तथा सेक्टर-5 चौक होते हुवे नेहरू सांस्कृतिक कल्चर भवन सेक्टर-1 को प्रस्थान करेगा। जहाँ पर आदिवासी मण्डल भिलाई-दुर्ग द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। जिसमे सभी आदिवासी समाज के लोगो द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक कला का प्रदर्शन करेंगे। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); विश्व आदिवासी दिवस क्या है ? द्वितीय विश्व युद्ध के बाद पूरे विश्व में शान्ति स्थापना के साथ-साथ विश्व के देशों में पारस्परिक मैत्रीपूर्ण समन्वय बनाना, एक-दूसरे के अधिकार एवं स्वतंत्रता को सम्मान के साथ बढ़ावा देना, विश्व से ग
72 संगठनों के 2 लाख कर्मी हड़ताल पर, सबकी मांग- रेगुलर करो

72 संगठनों के 2 लाख कर्मी हड़ताल पर, सबकी मांग- रेगुलर करो

chhattisgarh
शिक्षाकर्मियों की मांगे पूरी होने के बाद अब 72 संगठनों के 2 लाख कर्मी हड़ताल पर, सबकी एक ही मांग रेगुलर करो, क्योकि चुनावी साल होने के कारण हड़ताल से सरकार पर दबाव बनेगा और मांगें मान ली जाएंगी। रायपुर |  पंचायत विभाग ने 8 साल की सेवा पूरी करने वाले शिक्षाकर्मियों को भी नियमित करने की प्रक्रिया शुरु कर दी है। शिक्षाकर्मियों को उम्मीद है कि चुनाव आचार संहिता से पहले नियमितिकरण को लेकर कोई घोषणा हो सकती है। इनकी संख्या लगभग 43 हजार है। प्रदेश सरकार ने मई में ही शिक्षाकर्मियों के संविलियन की मांग मान ली थी। इसका असर ये हुआ है कि रेगुलर होने और वेतन बढ़ाने जैसी उन्हीं मांगों को लेकर 54 विभागों के 72 कर्मचारी संगठन पिछले 2 माह से हड़ताल पर हैं। कर्मचारियों को लगता है कि चुनावी साल होने के कारण हड़ताल से सरकार पर दबाव बनेगा और मांगें मान ली जाएंगी। इसलिए प्रदेश में 2 लाख से अधिक कर्मचारी हड़ताल पर
जर्जर स्कूल भवन में जान जोखिम में डालकर पढ़ने को मजबूर है बच्चे

जर्जर स्कूल भवन में जान जोखिम में डालकर पढ़ने को मजबूर है बच्चे

chhattisgarh
महासमुंद जिले के हजारों मासूम बच्चे जर्जर स्कूल भवन में जान जोखिम में डालकर पढ़ने को मजबूर है। स्कूलों की हालत देखकर कभी भी हादसे का डर बना रहता है, बावजूद इसके स्कूल प्रशासन कोई कार्यवाही नहीं कर रहा। महासमुंद | महासमुंद जिले के हजारों मासूम बच्चे जर्जर स्कूल भवन में जान जोखिम में डालकर पढ़ने को मजबूर है। स्कूलों की हालत देखकर कभी भी हादसे का डर बना रहता है, बावजूद इसके स्कूल प्रशासन कोई कार्यवाही नहीं कर रहा। बता दें महासमुंद की करीब 51 स्कूलों की हालत बेहद गंभीर है। ऐसे में हर समय हादसे की आशंका बनी रहती है, लेकिन जिला प्रशासन का इस ओर कोई ध्यान नहीं है। स्कूली छात्रों मे हमेशा ही भवन की छत या दीवार गिरने का डर बना रहता है। जिसके चलते छात्र सही से पढ़ाई पर भी ध्यान नहीं दे पाते हैं। बावजूद इसके शासकीय स्कूलों में बच्चों को पढ़ाना पालकों के लिए मजबूरी बन गया है और जिला शिक्षा विभाग वही
इस सरकारी स्कूल में बस्ते के बोझ के बिना पढ़ने जाते है बच्चे, अब जिले के 60 स्कूलों को बैगलेस करने की तैयारी

इस सरकारी स्कूल में बस्ते के बोझ के बिना पढ़ने जाते है बच्चे, अब जिले के 60 स्कूलों को बैगलेस करने की तैयारी

chhattisgarh
बैगलेस फॉर्मूले की सफलता को देखकर अब जिला शिक्षा अधिकारी इस साल जिले के 60 स्कूलों को बैगलेस करने की तैयारी में हैं। सूरजपुर | छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले मे बच्चों के भारी-भरकम बैग का बोझ देख यहां के एक शिक्षक ने खेल के फार्मूले से स्कूल चलाने की नई पहल शुरू की है। स्कूली बच्चों को बैग के बोझ से निजात दिलाने के लिए सूरजपुर के एक सरकारी स्कुल के शिक्षक ने अपने स्कूल को ही बैगलेस कर दिया है। जिसकी वजह से अब बच्चों को स्कूल जाने के लिए भारी बैग की जरूरत नहीं होगी, वह बिना बैग के भी स्कूल जाकर शिक्षा ग्रहण कर सकते हैं। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); वहीं शिक्षक की इस पहल को काफी सराहा जा रहा है। प्रदेश के पहले बैगलेस स्कूल की तर्ज पर ही अब शिक्षा विभाग के अधिकारी कई जिलों में स्कूलों को बैगलेस बनाने की तैयारी कर रहे हैं। रुनियाडीह में बैगलेस हुआ स्कूल सूरजपुर से लग
संचार क्रांति योजना की तारीफ करते हुए कंगना ने कहा, “मोबाइल मिलने से महिलाओं की स्थिति बेहतर होगी”

संचार क्रांति योजना की तारीफ करते हुए कंगना ने कहा, “मोबाइल मिलने से महिलाओं की स्थिति बेहतर होगी”

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | सोमवार को मोबाइल तिहार कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने संचार क्रांति योजना का शुभारंभ करते हुए गोठ मोबाइल ऐप को लांच किया। कंगना ने संचार क्रांति योजना की तारीफ करते हुए कहा कि मोबाइल मिलने से महिलाओं की स्थिति बेहतर होगी। राजधानी रायपुर के बूढ़ा तालाब स्थित बलवीर सिंह जुनेजा इनडोर स्टेडियम में हितग्राहियों को स्मार्ट फोन का वितरण किया गया। इस कार्यक्रम के लिए फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत भी पहुंची, जो कार्यक्रम में मुख्य आकर्षण का केंद्र रही  मुख्यमंत्री ने कंगना के हाथों ही हितग्राहियों को मोबाइल फोन का वितरण कराया। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); कार्यक्रम में कंगना ने कहा कि मुझे पहली बार रायपुर आने का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ ऐसा प्रदेश है, जो मुझे अपने गृह प्रदेश हिमाचल की याद दिला देता है। कंगना ने संचार क्रांति योजन
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद दो दिवसीय दौरे पर आज छत्तीसगढ़ के बस्तर पहुंचे, तस्वीरें देखे

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद दो दिवसीय दौरे पर आज छत्तीसगढ़ के बस्तर पहुंचे, तस्वीरें देखे

chhattisgarh
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 25-26 जुलाई को दो दिवसीय प्रवास पर छत्तीसगढ़ के बस्तर आ रहे हैं। राष्ट्रपति कोविंद भारत का नियाग्रा कहे जाने वाले चित्रकोट के सरकारी रेस्टहाउस में विश्राम करेंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा राष्ट्रपति पद की शपथ की आज पहली वर्षगांठ है। जगदलपुर एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह सहित आला अधिकारियों ने गुल्दस्ते से राष्ट्रपति का स्वागत किया। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने अपने मंत्रिमंडल के नेताओं और अन्य अधिकारियों के साथ राष्ट्रपति का स्वागत किया। इसके बाद कोविंद हेलीकॉप्टर से दन्तेवाड़ा जिले के जवांगा रवाना हुए। अधिकारी ने बताया कि जवांगा से वह सड़क के रास्ते हीरानार गांव जाएंगे, जहां वह ‘एकीकृत खेती प्रणाली केंद्र’ में किसानों और स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) के साथ बातचीत करेंगे। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); हीरानार में ‘वनवासी कल्याण