chhattisgarh rojgar logo
Space for Advertisement : +91 8817459893

telegram group   Chhattisgarh Rojgar Facebook Page  Chhattisgarh Rojgar twitter  Chhattisgarh Rojgar Youtube Channel

chhattisgarh

भूपेश सरकार की पहल: जाति प्रमाण पत्र सरलीकरण के लिए प्रदेश सरकार ने पांच सदस्यीय समिति बनाई

भूपेश सरकार की पहल: जाति प्रमाण पत्र सरलीकरण के लिए प्रदेश सरकार ने पांच सदस्यीय समिति बनाई

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | जाति प्रमाण पत्र को लेकर आ रही परेशानियों को दूर करने प्रदेश सरकार ने वरिष्ठ विधायक रामपुकार सिंह की अध्यक्षता में 5 सदस्यीय समिति का गठन किया है। अब समिति झारखंड, ओडिशा का दौरा कर वहां जाति प्रमाण-पत्र बनाने की प्रक्रिया का पहले अध्ययन करेगी फिर छत्तीसगढ़ सरकार को सुझाव देगी। समिति में ननकी राम कंवर, पुन्नूलाल मोहले, भुनेश्वर बघेल, मनोज मंडावी सहित अजा/जजा विभाग के सचिव और संचालक भी सदस्य के रूप में रहेंगे। समिति को 3 माह में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है। दरअसल, प्रदेश में बड़ी संख्या में अजा और अजजा वर्ग के लोग निवास करते हैं। लेकिन कई के जाति प्रमाण पत्र न बन पाने की बड़ी वजह भू-अभिलेख का अभाव होता है। ऐसे लोग बड़ी संख्या में है जो अजा अथवा अजजा वर्ग के हैं पर उनके पास मान्य प्रावधानों के अनुरूप आवश्यक अभिलेख नहीं है। यह समिति इस मामले को लेकर अध्यय
शर्मनाक: गैंगरेप के आरोपी जेल में, केस दबाने के प्रयास पर ग्रामीणों से पूछताछ शुरू

शर्मनाक: गैंगरेप के आरोपी जेल में, केस दबाने के प्रयास पर ग्रामीणों से पूछताछ शुरू

chhattisgarh
राजनांदगाव (एजेंसी) | डोंगरगांव के चारभाठा में 10 साल की बच्ची से हुए गैंगरेप के मामले में पुलिस ग्रामीणों से पूछताछ कर रही है। मंगलवार को कुछ ग्रामीणों से बयान लिया गया व गांव में हुई मीटिंग के संबंध में पुलिस ने जानकारी जुटाई। अगले दिन भी कुछ ग्रामीणों से मामले में पूछताछ किए जाने की बात पुलिस ने कही है। गैंगरेप की घटना 14 जुलाई से हुई थी, इसके बाद परिजन सीधे थाने नहीं पहुंचे थे। ग्रामीण स्तर पर मामले को सुलझाने के लिए बैठक रखी गई थी। इसे पॉक्सो एक्ट का उल्लंघन माना जाता है। इसे ही ध्यान में रखकर अब पुलिस बैठक रखने वालों सहित बैठक में हुई चर्चाओं की जानकारी जुटा रही है। घटना के बाद मामले को ग्रामीण स्तर पर ही दबाने का प्रयास किया जा रहा था। लेकिन बैठकों में बात नहीं बनी और मामला थाने तक पहुंचा। मामला दबाने के लिए कौन- कौन प्रयासरत थे और बैठकें किन-किन के दबाव में रखी गई थी, इसकी जांच क
बिलासपुर हाईकोर्ट: 15 हजार शिक्षकों की भर्ती के विज्ञापन को निरस्त करने की मांग खारिज

बिलासपुर हाईकोर्ट: 15 हजार शिक्षकों की भर्ती के विज्ञापन को निरस्त करने की मांग खारिज

chhattisgarh
बिलासपुर (एजेंसी) | प्रदेश में करीब 15 हजार शिक्षकों की भर्ती के लिए जारी विज्ञापन को निरस्त करने की मांग करते हुए लगाई गई अपील हाईकोर्ट ने खारिज कर दी है। हाईकोर्ट ने दो विषयों में आवेदकों को शैक्षणिक योग्यता में दी गई छूट को अनुचित बताते हुए दिए गए तर्क को नामंजूर कर दिया। राज्य शासन ने 9 मार्च 2019 को प्रदेश के विभिन्न जिलों में शिक्षकों के करीब 15 हजार पदों पर भर्ती के लिए मार्च 2019 में विज्ञापन जारी किया था। शिक्षा विभाग में व्याख्याता, शिक्षक और सहायक शिक्षकों के पदों पर भर्ती होगी। इसके लिए बीएड, डीएड और टीईटी अनिवार्य योग्यता निर्धारित किए गए हैं। वहीं, एग्रीकल्चर और फिजिकल एजुकेशन विषय में बीएड, डीएड और टीईटी को अनिवार्य योग्यता के रूप में छूट दी गई है। इस छूट को नियमविरुद्ध बताते हुए हाईकोर्ट में याचिका लगाई गई थी, लेकिन यह 14 मई 2019 को खारिज कर दी गई। याचिका खारिज करने के
बिलासपुर हाईकोर्ट: प्रदेश में बढ़ रहे जल संकट और उद्योगों को ज्यादा पानी देने के मामले में 2 सप्ताह बाद होगी सुनवाई

बिलासपुर हाईकोर्ट: प्रदेश में बढ़ रहे जल संकट और उद्योगों को ज्यादा पानी देने के मामले में 2 सप्ताह बाद होगी सुनवाई

chhattisgarh
बिलासपुर (एजेंसी) | प्रदेश में लगातार गहरा रहे जल संकट, पीने के पानी का खराब हो रहा स्तर, जल संचय की दिशा में उचित प्रयास नहीं करने, उद्योगों को पानी की अधिक सप्लाई सहित अन्य मुद्दों को लेकर हाईकोर्ट में जनहित याचिका लगाई गई है। हाईकोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान राज्य शासन को स्टेटस रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कहा था। मंगलवार को याचिकाकर्ता के नहीं उपस्थित होने के कारण सुनवाई दो सप्ताह के लिए बढ़ा दी गई। अंबिकापुर में रहने वाले आरएन गुप्ता जल विशेषज्ञ हैं, उन्होंने हाईकोर्ट में जनहित याचिका प्रस्तुत कर प्रदेश में लगातार बढ़ रहे जल संकट, उद्योगों को अधिक पानी देने की वजह से पीने के पानी की हो रही कमी, जल संचय की दिशा में पर्याप्त प्रयास नहीं करने सहित पानी को लेकर कई अहम मुद्दे उठाए हैं। याचिका पर प्रारंभिक सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने याचिकाकर्ता द्वारा उठाई गई समस्याओं पर राज्य शासन को अ
अंबिकापुर: पुलिसकर्मियों पर हत्या का केस दर्ज नहीं हुआ दूसरे दिन भी रोड पर शव रखकर चक्काजाम

अंबिकापुर: पुलिसकर्मियों पर हत्या का केस दर्ज नहीं हुआ दूसरे दिन भी रोड पर शव रखकर चक्काजाम

chhattisgarh
अंबिकापुर (एजेंसी) | चोरी के मामले में पूछताछ के लिए बुलाए गए भटगांव थाना क्षेत्र के ग्राम अघिना निवासी  पंकज कुमार बेक की अंबिकापुर में पुलिस कस्टडी में मौत के मामले में विवाद नहीं थम रहा है। सोमवार को अंबिकापुर में चक्काजाम व प्रदर्शन के बाद मंगलवार को भी पूरा गांव बतरा-भैयाथान सड़क पर उतर गया। मामले में परिजन व ग्रामीण सड़क पर  शव रखकर पुलिसकर्मियों पर हत्या का केस दर्ज करने सहित 50 लाख रुपए मुआवजा व परिवार के एक सदस्य को नौकरी की मांग कर रहे थे। विरोध-प्रदर्शन व नारेबाजी के कारण सुबह से  दोपहर एक बजे तक गांव में तनाव की स्थिति बनी रही। किसी अप्रिय घटना से निपटने प्रशासन व पुलिस की तरफ से पूरे गांव में बड़ी संख्या में फोर्स लगाया गया था। इसके साथ सरगुजा सहित सूरजपुर व बलरामपुर जिले के एसपी भटगांव में डटे रहे। परिजन व ग्रामीण मांग पूरी हुए बिना शव का अंतिम संस्कार करने को तैयार नहीं थे।
Video: जिले के दो शिक्षित दिव्यांगों ने भेंट वार्ता में पहुच कलेक्टर से मांगा रोजगार, अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति के दम पर अपने पैरों में होना चाहते है खड़े

Video: जिले के दो शिक्षित दिव्यांगों ने भेंट वार्ता में पहुच कलेक्टर से मांगा रोजगार, अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति के दम पर अपने पैरों में होना चाहते है खड़े

chhattisgarh
बालोद (एजेंसी) | "कहते हैं दिव्यांग का अर्थ शारीरिक दुर्बलता नही, बल्कि मानसिक अपंगता है, यदि दृढ़ इच्छाशक्ति हो तो कोई भी अवरोध हमारा मार्ग अवरुद्ध नही कर सकता".....उक्त लाइन उन सभी दिव्यांगों को समर्पित है जो अपने अंदर दृढ़ इच्छाशक्ति रख कुछ भी कर गुजरने का हौसला रखते है। जो ज़िंदगी के हर वह मुकाम हासिल करना चाहते है, जिसका सपना हर आम आदमी देखता हैं। दिव्यांग होने का यह कतई मतलब नही की आप कुछ नही कर सकते। हर मन मे दृढ़ इच्छाशक्ति और लगन हो तो हर मुकाम हासिल किया जा सकता हैं। ऐसी ही कुछ मिसाल जिले के 2 पढ़े लिखे दिव्यांगों की हैं। जो सामान्य आदमी की तरह अपने पैरों पर खड़े होकर कुछ करना चाहते है, किसी पर बोझ नही बनना चाहते हैं। जी हां एक जो दृष्टहीन है और एक पैरों से अपंग। दिव्यांग दृष्टहीन कमलेश दास मानिकपुरी और दिव्यांग राजेश्वरी साहू रोजगार की मांग को लेकर सोमवार को कलेक्टोरेट में आयोजित
अंबिकापुर: पूछताछ के लिए बुलाए गए युवक का शव साढ़े पांच घंटे बाद फांसी पर लटका मिला

अंबिकापुर: पूछताछ के लिए बुलाए गए युवक का शव साढ़े पांच घंटे बाद फांसी पर लटका मिला

chhattisgarh
अंबिकापुर (एजेंसी) | जिले में हुए एक चोरी के मामले में पूछताछ के लिए बुलाए गए युवक का शव साढ़े पांच घंटे बाद फांसी पर लटका मिला। दरअसल पुलिस ने रविवार को रात 8 बजे पूछताछ के लिए पंकज कुमार बेक को बुलाया था, जबकि उसका शव देर रात 1:30 बजे साइबर सेल से करीब 200 मीटर की दूरी पर प्राइवेट हाॅस्पिटल के कैंपस में संदिग्ध अवस्था में फांसी पर लटका मिला। आईजी केसी अग्रवाल के अनुसार टीआई समेत 5 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। जांच के लिए एसपी सरगुजा को निर्देश दिए हैं। मृतक सूरजपुर जिले के भटगांव थाना अंतर्गत ग्राम सलका अघिना का रहने वाला था। घटनास्थल पर मृतक के पैर जमीन से घुटने के बल टिके थे। वह सिर्फ अंडरवियर ही पहने था और शरीर पर चोट के निशान थे। हालांकि पुलिस बता रही है कि पूछताछ के दाैरान दौरान वह शौच करने के बहाने बाहर निकला और चकमा देकर फरार होने के बाद फांसी लगा ली। परिजनों ने लगा
जवानों को निशाना बनाने के लिए दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने पहली बार लगाए पुतला बम

जवानों को निशाना बनाने के लिए दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने पहली बार लगाए पुतला बम

chhattisgarh
दंतेवाड़ा (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए नक्सलियों ने अब पुतला बम का इस्तेमाल शुरू कर दिया। सीआरपीएफ कैंप से महज 600 मीटर की दूरी पर नक्सलियों ने शनिवार देर शाम दो पुतलों के नीचे आईईडी लगा दी। हालांकि इससे पहले कि जवानों को कोई नुकसान पहुंचता, उन्होंने उसे डिफ्यूज कर दिया। नक्सली मारे गए साथियों की तलाश में शहीदी दिवस मना रहे हैं। आईईडी विस्फोटकों को ऑटो कनेक्ट तरीके से जोड़ा गया था जानकारी के मुताबिक, अरनपुर जगरगुंडा मार्ग में जुड़वा नाला कैंप से 600 मीटर दूर नक्सलियों ने 2 पुतलों के नीचे 2 किलो और 3 किलो के 2 आईईडी विस्फोटक लगा दिए। नक्सलियों ने इसे बकायदा ऑटो कनेक्ट तरीके से जोड़कर रखा था। सीआरपीएफ  231 बटालियन के जवान रविवार शाम को एरिया में सर्चिग के लिए निकले थे। इसी दौरान उन्हें कोंडासावली कैंप के पास पुतले लगे हुए दिखाई दिए। पहले तो पुतलों क
पत्नी ने ही करवाई थी मर्चेंट नेवी इंजीनियर की हत्या, किरायेदार को दिए थे 5 लाख रूपये की सुपारी

पत्नी ने ही करवाई थी मर्चेंट नेवी इंजीनियर की हत्या, किरायेदार को दिए थे 5 लाख रूपये की सुपारी

chhattisgarh
रायपुर (एजेंसी) | मर्चेंट नेवी के इंजीनियर के. विश्वनाथ शर्मा के कत्ल के आरोप में इंजीनियर की पत्नी के वमसी लता शर्मा उनके किरायेदार लवकुश व उसके नौकर अवनीश को गिरफ्तार किया गया है। वमसी ने अपने पति को मारने पांच लाख की सुपारी दी थी। किरायेदार लवकुश को पूना में एक्टिंग कोर्स के लिए पैसों की जरूरत थी। उसका नौकर अवनीश भी अपनी बहन की शादी के लिए पैसों की जुगत में था। वमसी ने उन्हें पैसों का ऑफर दिया और वे दोनों हत्या के लिए राजी हो गए। पुलिस के मुताबिक हत्या की वजह पारिवारिक विवाद है। पति पत्नी में होता था विवाद  पति पत्नी के बीच पिछले छह-सात साल से नहीं बन रही थी। मर्चेंट नेवी में पोस्टिंग होने के कारण विश्वनाथ साल में छह महीने ही घर पर रहते थे। छह महीने उनकी ड्यूटी जहाज पर रहती थी। इस बार विश्वनाथ छह महीने की छुट्‌टी पर 12 जुलाई को घर लौटे। उसी दिन उनका पत्नी वमसी से विवाद हुआ। एडिशनल
जिला अधिवक्ता संघ बालोद ने उपभोक्ता फोरम जल्द शुरू करने एवं भवन आबंटन के लिए उपभोक्ता संरक्षण व प्रभारी मंत्री को सौपा आवेदन

जिला अधिवक्ता संघ बालोद ने उपभोक्ता फोरम जल्द शुरू करने एवं भवन आबंटन के लिए उपभोक्ता संरक्षण व प्रभारी मंत्री को सौपा आवेदन

chhattisgarh
बालोद (एजेंसी) | जिला का दर्जा प्राप्त हुए बालोद को 7 साल से ज्यादा हो चुके हैं। किंतु जिले में अब तक जिला उपभोक्ता फोरम प्रारंभ नही हो सका हैं। जिसके चलते उपभोक्ताओं को दुर्ग फोरम की शरण लेनी लड़ रही हैं। कई पीड़ित उपभोक्ता तो कौन दुर्ग के चक्कर लगाए कहकर फोरम का दरवाजा खटखटाते ही नही। उक्त संदर्भ में जिला अधिवक्ता संघ ने प्रदेश के उपभोक्ता संरक्षण एवं जिले के नए प्रभारी मंत्री को जिला उपभोक्ता विवाद परितोषण फोरम अतिशीघ्र प्रारंभ करने तथा भवन आबंटन की कार्यवाही जल्द करने के लिए आवेदन सौपा। जिला अधिवक्ता संघ ने अपने आवेदन के माध्यम से प्रभारी मंत्री को अवगत कराया कि जिला उपभोक्ता विवाद परितोषण फोरम का गठन हुए करीब 5 वर्ष हो रहे हैं। परन्तु भवन के अभाव में अभी तक जिला उपभोक्ता विवाद परितोषण फोरम जिले में अब तक प्रारंभ नही हुआ हैं। उल्लेखनीय हो कि शासन से जिला उपभोक्ता विवाद परितोषण फोरम के