chhattisgarh news media & rojgar logo

chhattisgarh

रायपुर: रेडियंट स्कूल हादसे में माउंटेनमैन राहुल और मैनेजर गिरफ्तार, घंटेभर में ही छूटे

रायपुर: रेडियंट स्कूल हादसे में माउंटेनमैन राहुल और मैनेजर गिरफ्तार, घंटेभर में ही छूटे

chhattisgarh, india, News
रायपुर (एजेंसी) | रेडियंट-वे स्कूल में एडवेंचर्स गेम्स का आयोजन करने वाले इवेंट कंपनी के संचालक राहुल गुप्ता और उनके मैनेजर अजय साहू को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार किया। कागजी खानापूर्ति के बाद उन्हें थाने से ही एक घंटे के भीतर मुचलके पर छोड़ दिया गया। अब उन्हें कोर्ट में जमानत पेश करनी होगी। पुलिस कोर्ट में चालान पेश करेगी। उसके बाद आरोपियों पर लापरवाही पूर्वक आयोजन करने और बच्चों की जान जाेखिम में डालने का केस दर्ज किया जाएगा। पुलिस इस मामले में अब तक स्कूल के संचालक समीर दुबे और एक अन्य को गिरफ्तार कर चुकी है। सभी के खिलाफ एक ही आरोप में केस दर्ज किया गया है। इसी घटना की जांच कर रहे जिला शिक्षा अधिकारी स्कूल की मान्यता समाप्त करने की सिफारिश शासन से कर चुके हैं। शिक्षा विभाग के जिम्मेदार रिपोर्ट पर मंथन कर रहे हैं। जल्द ही इस मामले में कार्रवाई के संकेत मिल रहे हैं। पालक संघ लग
जनसम्पर्क संचालनालय में कार्यरत मनोज हेड़ाऊ का निधन, शोक की लहर – श्रद्धांजलि

जनसम्पर्क संचालनालय में कार्यरत मनोज हेड़ाऊ का निधन, शोक की लहर – श्रद्धांजलि

chhattisgarh, News, special
रायपुर जनसम्पर्क संचालनालय में स्टेनो के पद पर कार्यरत 48 वर्षीय मनोज हेड़ाऊ नहीं रहे | शनिवार को उनका निधन हो गया | बताया जाता है कि कुछ माह से वो किडनी की बीमारी से ग्रसित थे | लगातार इलाज के चलते उन्हें कुछ दिनों तक स्वास्थ लाभ भी हुआ | लेकिन कुछ दिनों से उनका स्वास्थ लगातार गिरता रहा | मिलनसार और कामकाज के मामले में काफी सक्रिय मनोज हेड़ाऊ सहकर्मियों के बीच काफी लोकप्रिय थे | रायपुर के कबीरनगर स्थित शमशान घाट में रविवार की सुबह 10 बजे उनका अंतिम संस्कार होगा | मनोज हेड़ाऊ अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ गए है | जनसम्पर्क संचालनालय के समस्त स्टाफ ने उनके निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है | डायरेक्टर जनसंपर्क तारण सिन्हा ने उनके कार्यकाल को यादगार बताते हुए कहा कि दुःख की इस घडी में पूरा विभाग उनके परिवार के साथ है |  उन्होंने दिवंगत आत्मा के प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त की | न्यूज टुडे छत
CGPSC: सिविल जज परीक्षा और परिणाम को हाईकोर्ट ने किया निरस्त, बिना फीस लिए दोबारा परीक्षा कराने के आदेश

CGPSC: सिविल जज परीक्षा और परिणाम को हाईकोर्ट ने किया निरस्त, बिना फीस लिए दोबारा परीक्षा कराने के आदेश

chhattisgarh, india, News, politics
बिलासपुर (एजेंसी) | बिलासपुर हाईकोर्ट ने शुक्रवार को बड़ा फैसला देते हुए छत्तीसगढ़ लोकसेवा आयोग (सीजीपीएससी) की सिविल जज परीक्षा और परिणाम को निरस्त करने का आदेश दिया है। साथ ही कोर्ट ने सीजीपीएससी को उन्हीं छात्रों की बिना फीस लिए दोबारा परीक्षा कराने के भी आदेश दिए हैं। इस परीक्षा को लेकर छात्रों की ओर से याचिका लगाई गई थी। इसमें कहा गया था कि आयोग की ओर से ली गई परीक्षा के अधिकांश प्रश्नों में त्रुटी थी। सुनवाई के बाद हाईकोर्ट की जस्टिस गौतम भादुड़ी की सिंगल बेंच ने यह फैसला दिया है। आयोग ने आंसर की पर आपत्ति मांगी, लेकिन बिना निराकर किए परिणाम जारी कर दिए दरअसल, छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग ने 6 फरवरी 2019 को विधि एवं विधायी कार्य विभाग के तहत सिविल जज के 39 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन प्रकाशित किया था। इसके बाद 7 मई 2019 को ऑनलाइन प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन किया गया। परीक्षा के अगले ही
आरक्षण पर स्टे: पीएससी को विभागाें ने नहीं दी खाली पदों की जानकारी, इसलिए 2019 जीरो ईयर

आरक्षण पर स्टे: पीएससी को विभागाें ने नहीं दी खाली पदों की जानकारी, इसलिए 2019 जीरो ईयर

chhattisgarh, News, politics
रायपुर (एजेंसी) | प्रदेश में नए आरक्षण फॉर्मूले के कारण इस साल पीएससी एक भी पद पर भर्ती नहीं कर पाएगा। भर्तियों के लिहाज से 2019 जीरो ईयर होने की कगार पर है। यानी डिप्टी कलेक्टर-डीएसपी से लेकर अन्य विभागों की परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे युवा एक साल पिछड़ जाएंगे। इस स्थिति को देखते हुए पीएससी चेयरमैन केआर पिस्दा ने राज्यपाल अनुसुइया उइके से मुलाकात कर हस्तक्षेप करने की मांग रखी है, जिससे भर्तियों के आवेदन निकाले जा सकें। छत्तीसगढ़ पीएससी राज्य सेवा के खाली पदों को भरने हर साल 26 नवंबर को विज्ञापन जारी करने के साथ ही प्रक्रिया शुरू कर देता है। इन भर्तियों में करीब 11 महीने लगते हैं। इसके लिए सरकार के 54 विभागों से सितंबर-अक्टूबर मध्य तक पदों की मांग पीएससी को भेज दी जाती है। 2019 पीएससी के लिए विभागों ने रिक्तियों का प्रस्ताव पीएससी को नहीं भेजा है। इसका कारण 22 अक्टूबर से शैक्षणिक
रावत नाच महोत्सव 2019: रनिंग शील्ड की उम्र हुई 34 साल, पुरस्कार की राशि 183 रुपए से बढ़कर 1.37 लाख तक पहुंच गई

रावत नाच महोत्सव 2019: रनिंग शील्ड की उम्र हुई 34 साल, पुरस्कार की राशि 183 रुपए से बढ़कर 1.37 लाख तक पहुंच गई

chhattisgarh, entertainment, News, special
बिलासपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ में सबसे बड़ा रावत नाच महोत्सव बिलासपुर में होता है। सामाजिक एकजुटता का परिचय देने वाला महोत्सव 42वां वर्ष पूरा करने जा रहा है। उसी तरह इस महोत्सव में जीते जाने वाली शील्ड की भी कहानी है। जिस तरह महोत्सव का वर्ष बढ़ता जा रहा है, वैसे ही शील्ड की उम्र भी बढ़ रही है। रावत नाच महोत्सव के प्रथम, द्वितीय और तृतीय शील्ड की उम्र 34 साल हो गई है। वहीं प्रथम, द्वितीय और तृतीय विजेताओं की 183 रुपए की पुरस्कार राशि से शुरू हुए महोत्सव की पुरस्कार राशि आज 1 लाख 37 हजार 438 रुपए हो गई है। तीन से 40 हुई रनिंग शील्ड मेंटेनेंस में होते हैं 20 हजार खर्च https://youtu.be/FNAJx8nuBUc रावत नाच महोत्सव समिति के संयोजक डॉ. कालीचरण यादव ने बताया कि 1978 में सिटी कोतवाली में तीन शील्ड और प्रथम पुरस्कार 101, द्वितीय 51 और तृतीय 31 रुपए के साथ महोत्सव की शुरुआत हुई थी। इसके बाद 19
रायपुर: एक्सप्रेस-वे की खराब सड़कें तोड़कर बनाने का काम शुरू होगा 10 दिन में, 2 माह बाद खुलेगी रोड

रायपुर: एक्सप्रेस-वे की खराब सड़कें तोड़कर बनाने का काम शुरू होगा 10 दिन में, 2 माह बाद खुलेगी रोड

chhattisgarh, News, politics
रायपुर (एजेंसी) | स्टेशन से शदाणी दरबार तक करीब 12 किमी की एक्सप्रेस-वे में सड़कें धंसने की जांच रिपोर्ट सामान्य प्रशासन विभाग ने मुख्यमंत्री सचिवालय को भेज दी है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इसके अध्ययन के बाद कमजोर हिस्सों के दोबारा निर्माण के बारे में फैसला करेंगे। सूत्रों के मुताबिक हफ्तेभर में फैसला हो जाएगा और अगले 10 दिन में फ्लाईओवर की सड़कें तथा प्लेन सड़कें जरूरत के मुताबिक उखाड़कर दोबारा बनाने का काम शुरू होगा। तकनीकी जानकारों के मुताबिक कमजोर हिस्से को दोबारा निर्माण की वजह से इस सड़क को दो- ढाई माह बाद खोला जाएगा। कोशिश की जा रही है कि 26 जनवरी को इसका औपचारिक लोकार्पण किया जाए। इधर, सभी 5 फ्लाईओवर के नीचे बनी सर्विस रोड की चौड़ाई 5 से 10 फीट बढ़ाने तक का काम बुधवार को शुरू कर दिया गया है। अफसरों ने बताया कि पूरा काम परफार्मेंस गारंटी के तहत संबंधित ठेकेदार से करवाया जाएग
आरएसएस पर तीखा हमला – ‘काली टोपी, खाकी पैंट और ड्रम बजाना भारतीय संस्कृति नहीं’ – सीएम भूपेश बघेल

आरएसएस पर तीखा हमला – ‘काली टोपी, खाकी पैंट और ड्रम बजाना भारतीय संस्कृति नहीं’ – सीएम भूपेश बघेल

chhattisgarh, india, News, politics
रायपुर (एजेंसी) | मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्रीय खाद्य मंत्री राम विलास पासवान आैर कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने सेंट्रल पूल में छत्तीसगढ़ से 32 लाख मीट्रिक टन चावल लेने का आग्रह किया है। इस दौरान उन्होंने बायो एथेनाल के विक्रय को बढ़ावा केन्द्र से सहयोग की बात कही। केन्द्र के निर्णय के अनुसार जो राज्य सरकार समर्थन मूल्य पर धान खरीदी पर बोनस देगा। उनसे सेन्ट्रल पूल में चावल नहीं लिया जाएगा। इससे पहले इसको शिथिल कर सेन्ट्रल पूल में छत्तीसगढ़ से चावल लिया गया। इसे देखते हुए छत्तीसगढ़ सरकार ने वर्ष 2019-20 में सेन्ट्रल पूल में प्रधानमंत्री से प्रावधान को शिथिल कर सेन्ट्रल पूल में छत्तीसगढ़ से 32 लाख मीट्रिक टन चावल लेने का आग्रह किया गया है। वहीं, भूपेश बघेल ने केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान से मिलकर वर्ष 2019-20 में उपार्जित अतिरिक्त धा
हादसा: छत्तीसगढ़ स्टेट इलेक्ट्रिकसिटी बोर्ड के प्रशासनिक भवन में लगी आग, कई दस्तावेज जलकर राख

हादसा: छत्तीसगढ़ स्टेट इलेक्ट्रिकसिटी बोर्ड के प्रशासनिक भवन में लगी आग, कई दस्तावेज जलकर राख

chhattisgarh, News
रायपुर (एजेंसी) | राजधानी रायपुर स्थित छत्तीसगढ़ इलेक्ट्रिकसिटी बोर्ड (सीएसईबी) के प्रशासनिक भवन में बुधवार देर रात भीषण आग लग गई। आग की जब ऊंची-ऊंची लपटें उठने लगी तो लोगों को पता चला। सूचना मिलने पर पुलिस और फायर ब्रिगेड की टीम भी मौके पर पहुंच गई। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद दमकल की तीन गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। आग लगने का कारण अभी तक पता नहीं चल सका है। फिलहाल मामले की जांच चल रही है। बताया जा रहा है कि आग से कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जल गए हैं। इमारत की खिड़की से बाहर लपटें निकलती दिखाई दीं, तो आसपास के लोगों को चला पता https://www.youtube.com/watch?v=wbpQofMcw38 जानकारी के मुताबिक, सरस्वती नगर क्षेत्र के डगनिया में सीएसईबी का प्रशासनिक भवन है। देर रात करीब 12.30 बजे इमारत की तीसरी मंजिल पर अचानक आग लग गई। आग की लपटें जब खिड़की से बाहर निकलने लगी तो आसपास के लोगों ने देखा। इसके
रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के सांसदों को लिखा पत्र, संसद के शीतकालीन सत्र में राज्य हित से जुड़े मुद्दों को पुरजोर तरीके से उठाने की अपेक्षा की

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के सांसदों को लिखा पत्र, संसद के शीतकालीन सत्र में राज्य हित से जुड़े मुद्दों को पुरजोर तरीके से उठाने की अपेक्षा की

chhattisgarh, News, politics
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के सभी सांसदों को पत्र लिखकर संसद के शीतकालीन सत्र में राज्य हित से जुड़े मुद्दों को पुरजोर तरीके से उठाने की अपेक्षा और आग्रह किया है। मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में लिखा है कि छत्तीसगढ़ राज्य के हित में समय-समय पर अनेक मांगों, समस्याओं, प्रकरणों और सहायता से संबंधित विषय केन्द्र शासन के संज्ञान में लाए गए है। संसद के शीतकालीन सत्र के अवसर पर आप राज्य हित के विषयों पर तथ्यों, आंकड़ों तथा तर्कों के साथ चर्चा करें। मुख्यमंत्री ने इसके लिए सभी सांसदों को पत्र के साथ राज्य हित से संबंधित केन्द्र स्तर पर परिशीलन योग्य प्रकरणों की जानकारी के संकलन की पुस्तिका भी उपलब्ध करायी है। उन्होंने उम्मीद प्रकट की कि इस जानकारी के उपयोग करते हुए सांसदगण राज्य हित के पक्षों को पुरजोर तरीके से यथासमय संसद में उठाएंगे। मुख्यमंत्री द्वारा प्रेषित जानकारी में प्रमुख रूप स
रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने नेहरूजी की जयंती – बाल दिवस की बधाई दी

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने नेहरूजी की जयंती – बाल दिवस की बधाई दी

chhattisgarh, News, special
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों विशेषकर बच्चों को को बाल दिवस की बधाई दी है। उन्होने अपने बधाई संदेश में कहा है कि भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को बच्चे बहुत प्रिय थे, वे बच्चों को देश का भावी निर्माता मानते थे। बच्चे भी पंडित नेहरू से बहुत स्नेह रखते थे और उन्हें चाचा नेहरू कहकर पुकारते थे। इसी स्नेह और प्रेम के कारण हर वर्ष हम पंडित जवाहर लाल नहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाते हैं। श्री बघेल ने कहा कि बाल दिवस बच्चों के लिए समर्पित दिन है। इस दिन को भावी पीढ़ी और राष्ट्र के भविष्य निर्माण के रूप में लें। सभी लोग बच्चों के पोषण, शिक्षा, विकास और चरित्र निर्माण के लिए सोचें और आवश्यक कदम उठाएं। श्री बघेल ने कहा कि बच्चों में कुपोषण विश्व की एक बड़ी समस्या है। कमजोर नींव पर मजबूत इमारत खड़ी नहीं हो सकती। कमजोर और कुपोषित बच्चों से हम विकसित राष