chhattisgarh rojgar logo
telegram group   Chhattisgarh Rojgar Facebook Page  Chhattisgarh Rojgar twitter  Chhattisgarh Rojgar Youtube Channel

चुनाव के ठीक पहले 3 महीने चलने के बाद बंद हुई कोरबा-रायपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस, अब चुनाव के समय फिर से हसदेव एक्सप्रेस बनकर चलेगी

कोरबा (एजेंसी) | कोरबा-रायपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस। हाँ, यही नाम है इसका छत्तीसगढ़ के इस रेलगाड़ी की कहानी बड़ी अनोखी है। यह सिर्फ चुनावी मौसम में ही चलती है। ये चुनावी ट्रेन है जो समय -समय पर चलाई और बंद कर दी जाती है। खबर है कि पिछले लोकसभा चुनाव से ठीक पहले, 2014 में रायपुर से कोरबा के बीच शुरू की गई इंटरसिटी एक्सप्रेस जो महज तीन महीने चलाकर बंद कर दी गई थी वह चुनावी मौसम आते ही फिर शुरू हो गई है।




पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान शुरू हुई यह ट्रेन सिर्फ तीन महीने चलकर बंद कर दी गई थी। ट्रेन के बंद किए जाने के बाद से ही इसके शुरू किए जाने की मांग उठाई जाती रही थी लेकिन इसे शुरू नहीं की गई। लेकिन पिछले दिनों अचानक ही रेलमंत्री पियूष गोयल ने इस ट्रेन को शुरू करने का ऐलान कर दिया। उन्होंने यह ऐलान कोरबा में हुई एक जनसभा में किया। इस घोषणा के बाद रेलवे ने ट्रेन दोबारा चालू करने के लिए किसी तरह से अलग-अलग डिब्बों का इंतजाम कर लिया और इसे फिर चलाये जाने का फैसला लिया।

कोरबा जिले के लिए 6 अक्टूबर का दिन खास रहा। कोरबा से रायपुर के लिए सीधे सुपरफास्ट ट्रेन की सुविधा का शुभारंभ किया गया। हसदेव एक्सप्रेस के नाम से शनिवार दोपहर ठीक 12.40 बजे ट्रेन रायपुर के लिए रवाना हुई। इसे रेल मंत्री पीयूष गोयल और मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कवर्धा में आयोजित कार्यक्रम के दौरान ऑनलाइन ग्रीन सिग्नल देकर रवाना किया।

इस इंटरसिटी में दो तरह के कोच के साथ नंबर भी अलग-अलग रहेंगे। लेकिन एक और मसला यह आ गया है कि रेलवे अब तक यह तक नहीं कर पाया है कि इसका किराया क्या लिया जाए? वजह ये है कि हफ्ते में तीन दिन यह जनशताब्दी के डिब्बों के साथ चलेगी, जिसका किराया ज्यादा है। एलएचबी कोच का किराया सामान्य ट्रेनों जैसा है। इसलिए एक ही ट्रेन के दो किराए कैसे तय किए जा सकते हैं। रैक की कमी को देखते हुए रेल प्रशासन ऐसा कर रहा है। चार दिन एलएचबी रैक से 12 डिब्बे वाली ट्रेन चलेगी। इस ट्रेन का नंबर 18801 और 18802 रहेगा। यह रायपुर से बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार और शनिवार को कोरबा जाएगी। इसी तरह, कोरबा से रायपुर अाने वाली इंटरसिटी गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार और रविवार  को चलेगी। इसके बाद बचे हुए तीन दिन तक अप और डाउन दाेनों ही रूट पर 18 डिब्बों के साथ जनशताब्दी के रैक के साथ इंटरसिटी चलेगी। इस ट्रेन का नंबर 18803 और 18804 होगा।

जुगाड़ की बोगियों के साथ चलाई जा रही इस ट्रेन को इस बार फिर से तीन-चार महीने में बंद न कर दिया जाए इस आशंका से प्रदेशवासी डरे हुए हैं। क्योंकि रेलवे के टाइम-टेबल में अभी यह इसे नियमित के बजाय विशेष ट्रेन के रूप में दर्ज की गई है। कोरबा-रायपुर इंटरसिटी चार साल पहले लोकसभा चुनाव से ठीक पहले, 27 फरवरी 2014 को शुरू हुई। इसके बाद चुनाव हुए और केंद्र की यूपीए सरकार बदल गई। नई सरकार आई और इस ट्रेन को बंद कर दिया गया।



Leave a Reply