Shadow

जवानों को निशाना बनाने के लिए दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने पहली बार लगाए पुतला बम

दंतेवाड़ा (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए नक्सलियों ने अब पुतला बम का इस्तेमाल शुरू कर दिया। सीआरपीएफ कैंप से महज 600 मीटर की दूरी पर नक्सलियों ने शनिवार देर शाम दो पुतलों के नीचे आईईडी लगा दी। हालांकि इससे पहले कि जवानों को कोई नुकसान पहुंचता, उन्होंने उसे डिफ्यूज कर दिया। नक्सली मारे गए साथियों की तलाश में शहीदी दिवस मना रहे हैं। आईईडी विस्फोटकों को ऑटो कनेक्ट तरीके से जोड़ा गया था

जानकारी के मुताबिक, अरनपुर जगरगुंडा मार्ग में जुड़वा नाला कैंप से 600 मीटर दूर नक्सलियों ने 2 पुतलों के नीचे 2 किलो और 3 किलो के 2 आईईडी विस्फोटक लगा दिए। नक्सलियों ने इसे बकायदा ऑटो कनेक्ट तरीके से जोड़कर रखा था। सीआरपीएफ  231 बटालियन के जवान रविवार शाम को एरिया में सर्चिग के लिए निकले थे। इसी दौरान उन्हें कोंडासावली कैंप के पास पुतले लगे हुए दिखाई दिए।

पहले तो पुतलों को देख उनके नक्सली होने का संदेह हुआ, लेकिन बाद में ध्यान देने पर पता चला कि वे पुतले हैं। संदेह होने पर उन्होंने पुतलों को चेक किया और आईईडी विस्फोटकों को डिफ्यूज कर दिया। फिलहाल, आस-पास के इलाके के कैंप को सुरक्षा के मद्देनजर अलर्ट कर दिया गया। ऐसा पहली बार हुआ है, जबकि नक्सलियों ने दंतेवाड़ा में पुतलों का इस्तेमाल किया है।

ढाई साल में 200 से ज्यादा विस्फोटक बरामद

जोरानाला से आगे जुगरगुंडा जाने वाली मार्ग पर सड़क निर्माण कार्य चल रहा है। इस स्थान पर नक्सली लगातार हमले करने की फिराक में लगे रहते हैं। यहां अक्सर विस्फोटक मिलता रहता है। पिछले ढाई साल के दौरान ही जवान इस मार्ग से 200 से ज्यादा विस्फोटक बरामद कर चुके हैं। इसी तरह से नक्सलियों ने सुकमा के एर्राबोर बाजार में 7 सीरियल बम लगाए थे। जिसमें से 4 डमी और 3 सक्रिय बम थे।

Leave a Reply