chhattisgarh news media & rojgar logo

संजीवनी 108 के हड़ताली कर्मचारियों को अब तक नहीं मिली ज्वाइनिंग, ढाई हजार लोग बेरोजगार

रायपुर (एजेंसी) | एंबुलेंस संजीवनी एक्सप्रेस108 और महतारी एक्सप्रेस 102 के लगभग ढाई हजार कर्मचारी बेरोजगार हो गए हैं। स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन के अफसरों के हस्तक्षेप का भी कोई असर नहीं हुआ। कंपनी के अधिकारियों ने प्रशासन की बात मानने से इनकार कर दिया। जबकि अफसरों के सामने कंपनी के अधिकारियों ने माफीनामे के बिना ही कर्मचारियों को ज्वाॅइन करने की सहमति दी थी। लेकिन कंपनी के अधिकारी अभी भी माफीनामे की जिद पर अड़े हैं।




गौरतलब है कि वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर एम्बुलेंस  कर्मचारियों ने जेल भरो आंदोलन और आमरण अनशन किया।बाद में उनकी मांगो पर सहमति जताने के बाद एंबुलेंस कर्मियों ने 41 दिनों बाद 26 अगस्त को हड़ताल खत्म करने की घोषणा की थी। अफसरों की मौजूदगी में हुई बैठक के दूसरे दिन जब कर्मचारी ज्वाॅइन करने पहुंचे तो उन्हें नौकरी पर नहीं लिया गया। पहले एक-दो दिन तो उन्हें आज-कल आना कहकर टाला गया। बाद में उन्हें कहा गया कि जब तक वे माफीनामा लिखकर नहीं देंगे, तब तक उन्हें ड्यूटी ज्वाॅइन करने नहीं दिया जाएगा।

माफीनामे में क्या लिखा है?

कंपनी के अधिकारियों ने ये साफ कह दिया कि उन्हें शपथपत्र या माफीनामा देना होगा कि वे भविष्य में कभी हड़ताल या इस तरह का कोई काम करेंगे। जबकि अफसरों के सामने कंपनी के अधिकारियों ने माफीनामे के बिना ही कर्मचारियों को ज्वाॅइन करने की सहमति दी थी। लेकिन कंपनी के अधिकारी अभी भी माफीनामे की जिद पर अड़े हैं। कंपनी के इस फैसले से संजीवनी 108 और महतारी एक्सप्रेस 102 में सेवाएं देने वाले करीब ढाई हजार कर्मचारी बेरोजगार हो गए हैं।

अब तक किसी की ज्वाइनिंग नहीं हुई है 

कई कर्मचारियों के सामने परिवार चलाने की मुश्किल खड़ी हो गई है। ज्ञात है कि कंपनी और हड़ताली कर्मचारियों के प्रतिनिधि मंडल की 24 सितंबर को बैठक हुई थी। उसी में कहा गया था कि बर्खास्त 65 व बाकी हड़ताली कर्मचारियों को नि:शर्त ज्वाॅइन कराया जाएगा, लेकिन अब तक एक को भी नौकरी पर नहीं लिया गया है। हड़ताल खत्म हुए 38 दिन हो गए हैं, कर्मचारी अभी तक खाली बैठे हैं। कई स्तर पर बात होने व सहमति बनने के बाद कर्मचारियों को ज्वाइन नहीं कराया जा रहा है।



Leave a Reply