chhattisgarh news media & rojgar logo

business

आइडिया-वोडाफोन का विलय पूरा, 38 फीसदी मार्केट शेयर के साथ बनी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी

आइडिया-वोडाफोन का विलय पूरा, 38 फीसदी मार्केट शेयर के साथ बनी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी

business
नई दिल्ली (एजेंसी) | आइडिया सेल्युलर और वोडाफोन इंडिया के बीच विलय पूरा होने के साथ देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी अस्तित्व में आ गई है। नई कंपनी का नाम वोडाफोन आइडिया लिमिटेड होगा। 44.33 करोड़ ग्राहक संख्या के साथ इसकी 38.67% बाजार हिस्सेदारी होगी। इस विलय के साथ भारती एयरटेल पहले से दूसरे नंबर पर खिसक गई है। इसके 34.45 करोड़ ग्राहक हैं और 30.5% की बाजार हिस्सेदारी है। वहीं, 21.52 करोड़ ग्राहकों के साथ रिलायंस जियो तीसरी बड़ी टेलीकॉम कंपनी है। इसकी 18.78% बाजार हिस्सेदारी है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); आइडिया और वोडाफोन 1.6 लाख करोड़ रुपए के इस विलय के सौदे से अपने खर्चों में 14,000 करोड़ रुपए की कटौती कर पाएंगी। साथ ही घरेलू बाजार में रिलायंस जियो से मिल रही प्रतिस्पर्धा का सामना भी अच्छी तरह कर पाएंगी। इस सौदे में वोडाफोन इंडिया की वैल्यू 82,800 करोड़ रुपए और आइडि
बिना लाइसेंस ऑनलाइन दवाएं नहीं बेच सकेंगी ई-फार्मेसी कंपनियां 

बिना लाइसेंस ऑनलाइन दवाएं नहीं बेच सकेंगी ई-फार्मेसी कंपनियां 

business
नई दिल्ली (एजेंसी) | अब देश में ऑनलाइन दवा बेचने वाली कंपनिया रजिस्ट्रेशन कराए बिना कारोबार नहीं कर सकेंगी। जो भी ई-फार्मेसी कंपनियां ऑनलाइन दवाएं बेचेंगी उनके नाम सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (सीडीएससीओ) की वेबसाइट पर सार्वजनिक किए जाएंगे। यही नहीं, सीडीएससीओ की ओर से एक लोगो भी जारी किया जाएगा जो इन कंपनियों के पोर्टल पर होगा। इससे असली-नकली की पहचान हो सकेगी। अभी ऑनलाइन दवा खरीदने वालों को क्वालिटी का पता नहीं होता। ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया डॉ. एस. ईश्वरा रेड्डी ने शनिवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया, 'देशभर में ई-फार्मेसी सालाना 3000 करोड़ रुपए का है। यह 100% सालाना की दर से बढ़ रहा है। इसलिए इसको रेगुलेट करने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए ड्राफ्ट नोटिफिकेशन जारी किया गया है और 45 दिन के भीतर सभी स्टेकहोल्डर्स से राय मांगी गई है।' डॉ. रेड्‌डी ने कहा, 'ई-फा
Flipkart-Walmart Deal: ट्रेडर्स ने ट्रिब्यूनल से किया आग्रह वालमार्ट-फ्लिपकार्ट डील रद्द करें

Flipkart-Walmart Deal: ट्रेडर्स ने ट्रिब्यूनल से किया आग्रह वालमार्ट-फ्लिपकार्ट डील रद्द करें

business
नई दिल्ली (एजेंसी)| अमेरिकी रिटेल कंपनी वालमार्ट द्वारा फ्लिपकार्ट को खरीदने का मामला नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (एनसीएलएटी) में पहुंच गया है। ट्रेडर्स के संगठन कैट ने मंगलवार को इसके खिलाफ याचिका दायर की। इसमें डील को प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) से मिली मंजूरी को चुनौती दी गई है। कैट ने अपीलेट ट्रिब्यूनल से सौदे को रद्द करने का आग्रह किया है। प्रतिस्पर्धा आयोग ने 8 अगस्त को सौदे को मंजूरी दी थी। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने बयान में कहा कि सौदे के खिलाफ आयोग में आपत्तियों का विस्तृत दस्तावेज जमा किया गया था। संगठन के अनुसार आयोग ने यह तो माना कि ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म पर डिस्काउंट और लागत से कम दाम पर माल बेचा जाता है, लेकिन उसने यह कहकर सौदे को मंजूरी दे दी कि यह उसके अधिकार क्षेत्र में नहीं है (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); वालमार्ट-फ्लिपकार्ट क
स्किल इंडिया : सर्टिफिकेट लेने वालों को मिलेगा दो लाख रुपए का बीमा

स्किल इंडिया : सर्टिफिकेट लेने वालों को मिलेगा दो लाख रुपए का बीमा

business
नई दिल्ली (एजेंसी) | प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (पीएमकेवीवाई) के तहत सर्टिफिकेट लेने वाले युवाओं को दो लाख रुपए का व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा मिलेगा। यह बीमा तीन साल के लिए होगा। सरकार उन्हें डिजिटल लॉकर की सुविधा भी देगी। उन्हें ट्रेनिंग पूरी करने के बाद स्किल सर्टिफिकेट डिजिटल लॉकर में मिलेगा। पीएमकेवीवाई का उद्देश्य युवाओं को उद्योगों से जुड़ी ट्रेनिंग देना है ताकि उन्हें रोजगार पाने में मदद मिल सके। इसमें ट्रेनिंग की फीस सरकार भरती है। कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय में संयुक्त सचिव और सीवीओ राजेश अग्रवाल ने मंगलवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया, मंत्रालय की इस योजना का संचालन नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (एनसीडीसी) कर रहा है। कौशल बीमा मुहैया कराने के लिए न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी से गठजोड़ किया गया है। इसके तहत ट्रेनिंग पूरी करने वाले युवाओं की दुर्घटना में मृत्यु या स्थाय
गूगल पे एप से लोन का आवेदन करें, पैसे तत्काल खाते में आएंगे

गूगल पे एप से लोन का आवेदन करें, पैसे तत्काल खाते में आएंगे

business
दिल्ली (एजेंसी) | गूगल अपने पेमेंट एप गूगल पे पर नई सेवा शुरू करने जा रही है। एप के जरिए बैंकों के ग्राहक प्री-अप्रूव्ड लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं। लोन की रकम तत्काल उनके बैंक खाते में जमा हो जाएगी। फिलहाल इसने चार बैंकों- आईसीआईसीआई, कोटक महिंद्रा, फेडरल और एचडीएफसी बैंक से समझौता किया है। इनकी सेवाएं शुरू होने में कुछ हफ्ते लगेंगे। गूगल ने पिछले साल सितंबर में तेज नाम से पेमेंट एप लांच किया था। उसका नाम बदलकर गूगल पे किया गया है। कंपनी का दावा है कि हर महीने इसके 2.2 करोड़ सक्रिय यूजर हैं। सालभर में इन्होंने 75 करोड़ ट्रांजैक्शन में दो लाख करोड़ रुपए का लेनदेन किया है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});